close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: धोनी पाकिस्तान के Fan ‘चाचा शिकागो’ को 2011 से दे रहे हैं टिकट

भारत और पाकिस्तान का मैच मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड ग्राउंड पर 16 जून को होना है. 

World Cup 2019: धोनी पाकिस्तान के Fan ‘चाचा शिकागो’ को 2011 से दे रहे हैं टिकट
मोहम्मद बशीर उर्फ चाचा शिकागो मैनचेस्टर के एक होटल में भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा के साथ. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: महेंद्र सिंह धोनी और कराची में जन्मे मोहम्मद बशीर के बीच रिश्ता भारत-पाकिस्तान 2011 विश्व कप सेमीफाइनल के दौरान शुरू हुआ था और तब से यह मजबूत ही होता चला गया. यह रिश्ता ऐसा है कि बशीर मैच टिकट नहीं होने के बावजूद रविवार को होने वाले भारत-पाक मुकाबले के लिए मैनचेस्टर से शिकागो (करीब 6000 किमी) पहुंच गए हैं. वे जानते हैं कि धोनी सुनिश्चित करेगा कि वह ओल्ड ट्रैफर्ड पर मैच देख सकें. भारत और पाकिस्तान का मैच मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड ग्राउंड पर 16 जून को होना है. 

63 वर्षीय मोहम्मद बशीर का शिकागो में एक रेस्तरां हैं और उनके पास अमेरिका का पासपोर्ट है. उन्होंने कहा, ‘मैं यहां कल ही आ गया था और मैंने देखा कि लोगों ने एक टिकट के लिए 800 से 900 पाउंड तक खर्च किए हैं. शिकागो से लौटने के टिकट का खर्चा भी इतना ही है. धोनी का शुक्रिया क्योंकि मुझे मैच टिकट के लिए इतना जूझना नहीं पड़ता है.’ धोनी से साथी खिलाड़ी कभी कभार संपर्क नहीं कर पाते लेकिन उन्होंने कभी भी बशीर को निराश नहीं किया है. 

यह भी पढ़ें: INDvsPAK: जब सचिन की पारी से पहले ‘छुरी-कांटा’ लेकर पाकिस्तानी खिलाड़ी से भिड़ गए थे हरभजन

बशीर ने कहा, ‘मैं उन्हें फोन नहीं करता क्योंकि वे इतने व्यस्त रहते हैं. मैं संदशों के जरिये ही उनसे संपर्क में रहता हूं. मेरे यहां आने से पहले ही धोनी ने मुझे टिकट के लिए आश्वस्त कर दिया था. वे बेहद अच्छे व्यक्ति हैं. उन्होंने मोहाली में 2011 मैच के बाद मेरे लिए जो किया है, मुझे नहीं लगता कि उसके बारे में कोई सोच भी सकता है.’

भारत और पाकिस्तान अब तक विश्व कप में छह बार भिड़ चुके हैं. भारत ने ये सभी मुकाबले जीते हैं. वह मौजूदा वर्ल्ड कप में भी अजेय है. इस कारण उसकी जीत की संभावना जताई जा रही है. पाकिस्तान के लिए एक ही बात सकारात्मक है कि उसने दो साल पहले भारत को इंग्लैंड में हराया था. वह उसी जीत से अपना मनोबल ऊंचा करना चाहेगा.