close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रेमिका के पति के टुकड़े कर 70 किलोमीटर के दायरे में बिखेरा, पुलिस को सबूत बटोरने में लगे 9 साल

रवि को मार कर पांच फीट के गड्ढे में गाड़ दिया गया था इसके अलावा पुलिस के डर से लाश के कई टुकड़े को राजस्थान के अलवर जिले में 70 किलोमीटर के दायरे में फेंक दिया गया था.

प्रेमिका के पति के टुकड़े कर 70 किलोमीटर के दायरे में बिखेरा, पुलिस को सबूत बटोरने में लगे 9 साल

दिल्ली: दिल्ली के कापसहेड़ा इलाके से  साल 2011 में किडनैप हुए एक शख्स की हत्या की गुत्थी को सुलझा लिया है. 22 साल के रवि (Ravi)की नौ साल बाद टुकड़ों में लाश बरामद की गई है. रवि (Ravi)को मार कर पांच फीट के गड्ढे में गाड़ दिया गया था इसके अलावा पुलिस के डर से लाश के कई टुकड़े को राजस्थान के अलवर जिले में 70 किलोमीटर के दायरे में फेक दिया गया था. दरसअल इस कहानी की शरूआत साल 2010 में हुई. कमल अलवर जिले में कंस्ट्रक्शन का काम करता था. वहीं पास में रहने वाली लड़की शकुन्तला से कमल को प्यार हो गया. लेकिन शकुन्तला के घर वालों ने उसकी शादी रवि (Ravi)से करवा दी. 

रवि (Ravi)दिल्ली के समालखा का रहने वाला था. यह वो ऑटो चलता था. शादी के बाद शकुन्तला सिर्फ एक दिन ही ससुराल में रही और वो अपनी मायके आ गई. करीब डेढ़ महीने के बाद वो कमल ने उससे कहा कि वो अपने पति के घर जाय और रवि (Ravi)को घर से बाहर लेकर आय शकुन्तला फिर से अपने पति के घर पहुँची ओर अपने पति को बहन के घर से बाहर जाने के लिए बाहर निकाली.

कमल के गाड़ी में बैठ कर निकले कमल की गाड़ी उसका ड्राइवर गणेश चला रहा था. पहले शकुन्तला को उसके बहन के घर उतारा. फिर गाड़ी में ही रस्सी के सहारे रवि (Ravi)को गला दबाकर हत्या कर दी. लाश को लेकर अलवर पहुँच गया. और उस जगह लाश को उसी जगह दफन कर दिया जहां जहा उसका कंस्ट्रक्शन साइड था. लेकिन जैसे ही जानकारी मिली कि केस क्राइम ब्रांच सौप दिया गया.

उसने लाश को निकाला और ट्रक में बैठकर 70 किलोमीटर तक फेक दिया. लाश का कुछ हिस्सा उसी गड्ढे में छूट गया. पुलिस को कमल और उसके साथियों पर शक तो था. लेकिन सबूत नहीं थी. इसलिए पहले उसका पोली ग्राफी टेस्ट कराया गया जिससे में वो बच कर निकल गया. पुलिस फिर से खाली हाथ थी.

पुलिस ने नार्को के लिए सहमति मांगी नहीं नार्को के लिए आरोपी तैयार नही हुए. फिर गुजरात के गांधी नगर fsl लैब में ब्रेन मैपिंग किया गया. लेकिन यहाँ पुलिस को बहुत ज्यादा फायदा नही मिला. लेकिन डॉक्टरों की टीम ने अपना ऑब्जर्वेशन दिया कि वो ब्रेन मैपिंग में चकमा दे रहा है.

उसके बाद सभी आरोपी फरार हो गए. फिर पुलिस ने काफी तलाश के बाद पुलिस ने कमल और उसके ड्राइवर को गिरफ्तार किया है जबकि मृतक की पत्नी अब भी फरार है. पुलिस के मुताबिक लाश की 25 हड्डियों को बरामद किया गया है. जिन्हें DNA के लिए भेजा जाएगा.