चंडीगढ़ पुलिस की इंस्पेक्टर पर लगा ये गंभीर आरोप, CBI ने दर्ज किया मामला

इंस्पेक्टर जसविंदर कौर चंडीगढ़ के मनी माजरा थाने में SHO हैं .

चंडीगढ़ पुलिस की इंस्पेक्टर पर लगा ये गंभीर आरोप, CBI ने दर्ज किया मामला

नई दिल्ली: CBI ने चंडीगढ़ पुलिस में तैनात इंस्पेक्टर जसविंदर कौर के खिलाफ 5 लाख की रिश्वत मांगने के आरोप में मामला दर्ज कर छापेमारी की और थाने के सिपाही भगवान सिंह को गिरफ्तार किया है.

इंस्पेक्टर जसविंदर कौर चंडीगढ़ के मनी माजरा थाने में SHO हैं और सिपाही भगवान सिंह करीबी. आरोप है कि जसविंदर कौर ने एक शख्स गुरदीप को फोन किया और बोला कि एक अन्य व्यक्ति रणधीर सिंह ने उसके खिलाफ 27-28 लाख रुपए वापस न करने की शिकायत दी है.

आरोप के मुताबिक ये पैसे रणधीर ने गुरदीप को उसकी पत्नी की नौकरी लगवाने के लिये दिए थे. 

लेकिन गुरदीप के मुताबिक ऐसा कभी नहीं हुआ, जिसके बाद जसविंदर कौर ने गुरदीप को धमकाया और फंसाने की धमकी देकर 5 लाख रुपए मांगे. पैसे नहीं देने पर झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी जिसके बाद गुरदीप ने डर कर 2 लाख रुपये जसविंदर कौर के करीबी सिपाही भगवान सिंह को दे दिये और बाकी 3 लाख बाद में देने की बात की. 

बाद में गुरदीप ने इस मामले की जानकारी CBI को दी और फिर सिपाही भगवान सिंह को गिरफ्तार किया गया.

chandigarh police inspector

लेकिन ये पहला मामला नहीं है जब चंडीगढ़ पुलिस के इंस्पेक्टर सुर्खियों में आए हैं. इससे पहले भी साल 2017 में जसविंदर कौर के जूनियर सब इंस्पेक्टर मोहन सिंह को 2 लाख की रिश्वत के साथ CBI ने गिरफ्तार किया था. उस समय जसविंदर कौर थाना सेक्टर 31 में तैनात थी.

शिकायतकर्ता प्रेम सिंह बिष्ट ने आरोप लगाया था कि आरोपी मोहन सिंह ने उसके तीन कर्मचारियों के नाम FIR में से हटाने के लिए 9 लाख रुपये मांगे थे और ये पैसे SHO जसविंदर कौर के कहने पर मांगे गए थे.  

बिष्ट ने ये भी आरोप लगाया था कि जसविंदर कौर के खिलाफ गवाही न देने के लिए चंडीगढ़ पुलिस के कुछ पुलिसकर्मी धमका रहे थे और न मानने पर झूठे ड्रग्स का मामले में फंसाने की धमकी दी थी. इस मामले की जांच के लिये CBI कोर्ट ने तत्कालीन चंडीगढ़ SSP को भी बोला था. 

ये भी देखें:

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.