बंगाल: मंत्री Jakir Hossain पर हुए हमले में CID की कार्रवाई, 1 बांग्लादेशी हिरासत में

सीआईडी (CID) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है, 'हमने एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है और आगे की जांच जारी है.' धमाके में घायल हुए मंत्री जाकिर हुसैन (Jakir Hossain) और अन्य लोगों का कोलकाता के एक सरकारी अस्पताल में इलाज चल रहा है.   

बंगाल: मंत्री Jakir Hossain पर हुए हमले में CID की कार्रवाई, 1 बांग्लादेशी हिरासत में
बंगाल के मंत्री जाकिर हुसैन (फाइल फोटो).

कोलकाता: मुर्शिदाबाद के नीमतीता रेलवे स्टेशन पर हुए धमाके के संबंध में पश्चिम बंगाल सीआईडी ने एक बांग्लादेशी नागरिक को हिरासत में लिया है. इस धमाके में राज्य सरकार के मंत्री जाकिर हुसैन (Jakir Hossain) और 20 से अधिक लोग घायल हो गए थे. नीमतीता रेलवे स्टेशन पर यह धमाका 17 फरवरी की रात करीब 10 बजे तब हुआ जब तृणमूल कांग्रेस नेता (TMC Leader) और राज्य के श्रम राज्यमंत्री हुसैन प्लेटफॉर्म नंबर 2 पर कोलकाता के लिए ट्रेन का इंतजार कर रहे थे.

कानून व्यवस्था पर सवाल
सीआईडी (CID) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है, 'हमने एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है और आगे की जांच जारी है.' धमाके में घायल हुए मंत्री जाकिर हुसैन (Jakir Hossain) और अन्य लोगों का कोलकाता के एक सरकारी अस्पताल में इलाज चल रहा है. बता दें, मंत्री पर बम हमले के बाद पश्चिम बंगाल सरकार ने मामले की जांच CID से कराने के निर्देश दिए. इस मामले में लगातार जांच की जा रही है. पश्चिम बंगाल चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) से ठीक पहले मंत्री पर हुए बम हमले के बाद राज्य की कानून व्यवस्था और शांतिपूर्ण चुनाव की संभावना को लेकर गंभीर सवाल उठे. 

हत्या की साजिश के पीछे कौन?
ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाए थे. ममता ने श्रम राज्य मंत्री जाकिर हुसैन (Jakir Hossain) पर हुए हमले के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने दावा किया, मंत्री की हत्या की साजिश थी. जबकि तृणमूल कांग्रेस (TMC) के नेता एवं वरिष्ठ मंत्री मलय घटक ने इस हमले के लिए ‘पार्टी के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को’ जिम्मेदार ठहराया है, और तृणमूल से निष्कासित किए गए एवं मुर्शिदाबाद जिला परिषद के सभाधिपति मुशर्रफ हुसैन ने दावा किया कि यह पार्टी के बीच आंतरिक कलह का नतीजा है.

यह भी पढ़ें: Rahul Gandhi को Fisheries Ministry की जानकारी नहीं? गिरिराज सिंह ने दिया ये जवाब

ममता सरकार के लिए चुनौती
बता दें, पश्चिम बंगाल में इस साल अप्रैल-मई में चुनाव होने वाले हैं. इससे पहले राजनीतिक सरगर्मी चरम पर है. एक तरफ टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगातार संघ और बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले के आरोप लगते रहे हैं वहीं दूसरी तरफ टीएमसी नेता व सरकार में मंत्री पर हमले की इस घटना ने कई गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं. ऐसे में ममता सरकार के लिए इस घटना का खुलासा चुनौती है.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.