Breaking News
  • #ImmunityConclaveOnZee : केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि कोरोना की दवा पर शोध जारी है.
  • #ImmunityConclaveOnZee : श्रीपद नाइक ने कहा - 6-7 सप्ताह में शोध पूरा हो जाएगा.
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '8 बजे नाश्ता, 12 बजे दोपहर का खाना, शाम को 8 बजे तक खाना खा लें'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'भगवान ने हमें इंसान बनाकर दुनिया की सबसे बड़ी दौलत दी है'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '6 घंटे की नींद जरूर पूरी करें और उससे ज्यादा सोएं भी नहीं'

दिल्ली: चोरों ने रेलवे कोच के 'कोविड केयर सेंटर' को भी नहीं छोड़ा

चोरी की खबर लगते ही रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (RPF) में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में टीम बनाकर 12 घण्टे में ही रिसीवर को गिरफ्तार कर लिया. 

दिल्ली: चोरों ने रेलवे कोच के 'कोविड केयर सेंटर' को भी नहीं छोड़ा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: देश की राजधानी में बढ़ रहे कोरोना (Corona) संक्रमण के मामले के बाद रेलवे के कोच को 'कोविड केयर सेंटर' में तब्दील किया गया है. लेकिन चोरों ने इस सेंटर को ही अपना निशाना बना लिया और कोच में लगी 2 मोटर ही चोरी कर डालीं. 

चोरी की खबर लगते ही रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (RPF) में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में टीम बनाकर 12 घण्टे में ही रिसीवर को गिरफ्तार कर लिया. लेकिन चोरी करने वाला मुख्य आरोपी अभी फरार है. इस चोरी की वारदात के बाद से इन कोचों की सुरक्षा को लेकर भी सवाल खड़े हो गए हैं. क्योंकि इन कोचों में लाखों रुपए के मेडिकल उपकरण भी लगे हैं. जिनकी सुरक्षा का जिम्मा बादली रेलवे स्टेशन के इंस्पेक्टर होशियार सिंह पर है. 

ये भी पढ़ें- अनंतनाग: सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, 3 आतंकियों को मार गिराया

RPF की सीनियर डीएससी सारिका मोहन ने ZEE NEWS को बताया कि 27 जुलाई की तड़के 4.30 बजे के आस-पास हमें जानकारी मिली कि बादली रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के कोच 'कोविड केयर सेंटर ' से 2 मोटर चोरी हो गई हैं. कोविड केयर सेंटर से चोरी की कॉल मिलते ही सबके हाथ-पांव फूल गए और स्पेशल टीम बनाकर चोरी की मोटर  रिसीव करने वाले मनोज को गिरफ्तार कर लिया है. जो पेशे से कबाड़ी का काम करता है. मनोज ने चोरी करने वाले आरोपी से 300 रुपए में मोटर खरीदी थी. अब आरपीएफ चोरी करने वाले की तलाश कर रही है.

आरपीएफ को शक है कि इस चोरी में एक से ज्यादा लोग शामिल थे. गनीमत ये रही की आरोपी सिर्फ मोटर ही चोरी कर पाए. कोविड केयर सेंटर में लाखों रुपए के वेंटिलेटर के साथ ऑक्सीजन सिलेंडर भी रखे हैं. अभी इन कोचों में मरीज नहीं हैं. जरूरत पड़ने पर इन कोचों का इस्तेमाल किया जाएगा. 

ये भी देखें- 

ट्रेन के कोचों को क्यों बनाया गया कोविड केयर सेंटर

दिल्ली में जब से कोरोना के मामले में बढ़ रहे थे तो उसके बाद दिल्ली में कोरोना मरीज के लिए अस्पताल में बेड मिलना मुश्किल हो रहा था. दिल्ली सरकार की ऐसे हालात में किरकरी हो रही थी. उसके बाद रेल मंत्रालय ने रेलवे ट्रैक पर खाली खड़े ट्रेन के कोच को ही मिनी अस्पताल में तय करने का फैसला लिया और दिल्ली के कई रेलवे स्टेशनों को कोविड केयर सेंटर बना दिया गया, जिसमें सबसे बड़ा आनंद विहार रेलवे स्टेशन है, जिसे कोविड अस्पताल में तब्दील किया गया.