कोरोना संकट के चलते मिली थी जमानत, अब ​दिल्ली पुलिस के लिए सिरदर्द बने बदमाश

दिल्ली में अब ऐसे बदमाश पुलिस के लिए परेशानी का सबब बन रहे हैं जिनको कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लॉकडाउन के दौरान अदालत ने जमानत दे दी थी.

कोरोना संकट के चलते मिली थी जमानत, अब ​दिल्ली पुलिस के लिए सिरदर्द बने बदमाश

नई दिल्ली: दिल्ली में अब ऐसे बदमाश पुलिस के लिए परेशानी का सबब बन रहे हैं जिनको कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लॉकडाउन के दौरान अदालत ने जमानत दे दी थी, लेकिन ऐसे बदमाश लॉकडाउन के दौरान घर में रहने की बजाए दिल्ली की सड़कों पर जुर्म की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं. 

लॉकडाउन के दौरान बढ़ता क्राइम पुलिस के लिए सिरदर्द बन गया है. इनमें से ज्यादातर बदमाश वो हैं जिनको कोरोना महामारी के चलते अदालत ने जमानत या पेरोल दे दी थी ताकि ये लोग अपने घरों में रहे और कोरोना से बचें, लेकिन हुआ ठीक उससे उलट, कोरोना के नाम पर जेल से बाहर आये इन बदमाशों ने एक के बाद एक जुर्म की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया. हर दिन हर डिस्ट्रिक्ट से लूट स्नैचिंग की वारदातें सामने आ रही हैं. बदमाश बेखौफ हैं और पुलिस बेबस. बढ़ते स्ट्रीट क्राइम को रोकने के लिए पुलिस ने ऑपेरशन रोको टोको भी शुरू किया है.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक हाल ही में चलाए गए इस ऑपेरशन में पुलिस ने कई बदमाशों को गिरफ्तार किया है. इनमें 83 बदमाश ऐसे हैं जो कोविड 19 के चलते बेल या पैरोल पर जेल से बाहर आए थे. और बाहर आकर वारदातों को अंजाम दे रहे थे. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, ईस्ट, नार्थ ईस्ट, और शाहदरा डिस्ट्रिक्ट ने 13 ऐसे बदमाशों को गिरफ्तार किया जो कोरोना के चलते बेल पर बाहर आकर वारदातो को अंजाम दे रहे थे.

साउथ, साउथ ईस्ट और सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट ने 16 बदमाशों को गिरफ्तार किया हैं. वहीं नार्थ, आउटर नार्थ और नार्थ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट ने 13 बदमाशों को पकड़ा है जबकि रोहिणी, वेस्ट और आउटर डिस्ट्रिक्ट ने 20 बदमाशों को गिरफ्तार किया है. द्वारका, नई दिल्ली और साउथ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट ने 21 बदमाशों को गिरफ्तार किया है.

ये सभी बदमाश कोरोना महामारी के नाम पर बेल या पेरोल पर बाहर आए थे लेकिन बाहर आकर एक बार फिर पुलिस के लिए ​सिरदर्द बन गए. 

कोरोना महामारी के चलते दिल्ली हाइकोर्ट के आदेश के बाद तिहाड़ जेल प्रशासन ने 4129 कैदियों को जमानत या पैरोल दी थी, जिसका मकसद था कि ये लोग कोरोना से बचने के लिए अपने घरों में रहे लेकिन जेल से निकलने के बाद ज्यादातर बदमाशों ने दोबारा जुर्म की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया है.

ये भी देखें: