Zee Rozgar Samachar

Delhi Riots: हाथों में ईंट लिए नजर आया दंगाई, लेकिन जमानत याचिका में बनाया बहाना, फिर...

CAA के खिलाफ हुए दंगों में पकड़े गए एक आरोपी की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने उसे रिहा करने से इनकार कर दिया. कोर्ट ने कहा कि आरोपी सीसीटीवी में दंगाइयों के साथ हाथों में ईंट लिए नजर आ रहा है. जिस पर कोर्ट ने कहा कि उन्हें झूठे आरोपों में फंसाया जा रहा है. 

Delhi Riots: हाथों में ईंट लिए नजर आया दंगाई, लेकिन जमानत याचिका में बनाया बहाना, फिर...
फाइल फोटो।

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) की एक अदालत ने उत्तरपूर्वी दिल्ली में दंगों (Delhi Riots) के एक मामले में एक व्यक्ति की जमानत याचिका को खारिज करते हुए कहा कि उसे अन्य दंगाइयों के साथ एक ‘आक्रामक मुद्रा’ में सीसीटीवी फुटेज में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है.

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत ने गुरमीत सिंह (Gurmeet Singh) की जमानत याचिका को खारिज कर दिया और कहा कि आरोपी उन लोगों में शामिल था जो गैरकानूनी ढंग से एकत्र हुए थे और इस दौरान गोली लगने से कुछ लोग और पुलिस अधिकारी घायल हुए थे.

ये भी पढ़ें:- कर्नाटक में 1 जनवरी से खुलेंगे स्कूल और कॉलेज, ऑनलाइन क्लास भी रहेंगी जारी

हाथ में ईंट लिए नजर आ रहा आरोपी

अदालत ने 18 दिसम्बर को पारित अपने आदेश में कहा, 'वर्तमान आरेापी/याचिकाकर्ता गुरमीत सिंह की भूमिका के बारे में देखा जाये तो वह अन्य दंगाइयों के साथ आक्रामक मुद्रा में सीसीटीवी फुटेज में स्पष्ट रूप से नजर आ रहा है. वह अपने हाथों में लकड़ी की तख्ती और ईंट लिए हुए है. इस तरह वह दंगाइयों में सक्रिय रूप से शामिल था.'

ये भी पढ़ें:- Amazon, Flipkart पर शुरू हुई क्रिसमस सेल, इन स्मार्टफोन पर मिल रहा 40% तक का डिस्काउंट

जमानत याचिका में बताया गया ये बहाना

सुनवाई के दौरान सिंह के वकील ने दावा किया कि उसे इस मामले में झूठा फंसाया गया था और वह वेलकम क्षेत्र में दंगों के दौरान एक यात्री को लेकर रिक्शा चला रहा था. पुलिस की ओर से पेश विशेष लोक अभियोजक सलीम अहमद ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि सिंह को सीसीटीवी फुटेज में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि वह दंगों और पथराव करने वाले लोगों में कथित तौर पर शामिल था. 

गौरतलब है कि संशोधित नागरिकता कानून के विरोधियों और समर्थकों के बीच झड़पों के बाद उत्तरपूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को भड़की सांप्रदायिक हिंसा में 53 लोगों की मौत हुई थी और लगभग 200 अन्य घायल हुए थे.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.