8 हजार रुपए लेने के लिए दोस्त को बुलाया और फिर बेरहमी से ऐसे कर दी हत्या

घटना के बाद पुलिस ने मौके पर ही पटेल नगर के रहने वाले आरोपी 21 वर्षीय भानु प्रताप सिंह को गिरफ्तार कर लिया. इस घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल है.

8 हजार रुपए लेने के लिए दोस्त को बुलाया और फिर बेरहमी से ऐसे कर दी हत्या

जम्मू: आठ हजार रुपये के लेनदेन को लेकर एक लड़के ने आपने साथी की गोली मारकर हत्या कर दी. घटना जम्मू के कठुआ जिले की है. दिनदहाड़े युवक की हत्या से इलाके में दहशत फैल गई है.

जम्मू के कठुआ जिले के पटेल नगर में दो बहनों के इकलौते भाई की गोली मार कर हत्या कर दी गई. हत्या महज आठ हजार रुपये के लेनदेन को लेकर की गई है. दो युवकों के बीच पैसों को लेकर बहस हुई जिसके बाद युवक ने दोस्त की हत्या कर दी. मृतक का नाम संजीव कुमार शर्मा है जिसकी उम्र 25 साल थी.  हादसे के बाद मृतक लड़के के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है. 

इलाके में दहशत का माहौल
घटना के बाद पुलिस ने मौके पर ही पटेल नगर के रहने वाले आरोपी 21 वर्षीय भानु प्रताप सिंह को गिरफ्तार कर लिया. इस घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल है.

वहीं, गुरुवार को करीब पौने 12 बजे हुए इस हादसे ने करीब दो वर्ष पहले घटी घटना की भी याद दिला दी. शहर में दो साल पहले भी शाम के वक्त किराना दुकान के मालिक को दो युवकों ने गोलियां मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया था, जिसकी बाद उसकी मौत हो गई थी.

वीरवार को अपने दोस्त के हाथों मारा गया संजीव, दो बहनों का इकलौता भाई था. पिता विजय कुमार शर्मा का एकमात्र सहारा संजीव ही था. 25 वर्षीय संजीव समाज कल्याण विभाग में कुक का काम कर रहा था. 

गोलियों की आवाज ने पूरे पटेल नगर मोहल्ले में दहशत फैला दी. इसके बाद लोगों को घटना का पता चला तो एकदम खामोशी छा गई. इस बीच पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और खून से लथपथ संजीव शर्मा को उठाकर पुलिस सीधे पास ही के जीएमसी लेकर आई जहां उसकी मौत हो गई. इस वारदात के बीच माहौल न बिगड़ जाए, इसकी पूरी आशंका को देखते हुए एसएसपी शैलेंद्र मिश्रा ने घटनास्थल से लेकर अस्पताल तक थाना प्रभारी, डीएसपी और एएसपी को हालात पर नजर रखने का निर्देश दिए. कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया और उसके बाद खुद मृतक के घर एंबुलेंस में ले जाकर शव को सौंपा.

खुद फोन करके घर आकर पैसे ले जाने के लिए बुलाया
एसएसपी कठुआ शैलेंद्र मिश्रा ने बताया कि आरोपी भानु प्रताप सिंह ने संजीव को खुद फोन करके घर आकर पैसे ले जाने के लिए बुलाया था. जब संजीव उसके घर पहुंचा तो दोनों में पैसे के लेनदेन को लेकर बहस भी हुई. इसके बाद उसने 12 बोर की सिंगल बैरल लाइसेंसी बंदूक से छाती पर गोली चला दी. हत्या के पीछे का कारण आइपीएल में सट्टा लगाने या नशा भी हो सकता है, क्योंकि शहर में इस उम्र के ज्यादातर युवक सट्टे व नशे में लिप्त हैं. इस कड़ी से भी जोड़कर मामले की जांच की जा रही है.

हालांकि, इसका अभी तक कोई पक्का सुबूत नहीं है, फिलहाल जांच की जा रही है. अभी तक प्राथमिक जांच में भानु प्रताप ने खुद पैसे लेकर आने के लिए गुरुवार साढ़े 11 बजे के करीब संजीव को फोन किया था. इस बीच दोनों में बहस हुई, जिसके बाद भानु प्रताप ने घर में पिता की पड़ी बंदूक से गोली चला दी. पुलिस ने आरोपी भानुप्रताप और उसके पिता हिरासत में ले लिया है.

ये भी देखें-