बिना सूचना के गायब 10 डॉक्टरों पर गिरेगी गाज, DM ने 24 घंटे में योगदान देने का दिया आदेश

Gaya Samachar: डीएम अभिषेक सिंह ने साफ शब्दों में कहा कि 'निर्देश की अवहेलना करने वाले डॉक्टर पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत कार्रवाई की जाएगी.'

बिना सूचना के गायब 10 डॉक्टरों पर गिरेगी गाज, DM ने 24 घंटे में योगदान देने का दिया आदेश
बिना सूचना के गायब 10 डॉक्टरों पर गिरेगी गाज.

Gaya: एक तरफ पूरा देश जहां कोरोना जैसी महामारी से कहरा रहा है. वहीं बिहार के गया जिले में बिना सूचना दिए गायब 10 डॉक्टरों को 24 घंटे के अंदर जॉइन करने का निर्देश गया डीएम अभिषेक सिंह ने दिया है. सिविल सर्जन डॉ केके राय ने डीएम को बताया कि कई महीनों से विभिन्न प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर अनुपस्थित रहे हैं.

अनुपस्थित रहने की किसी तरह की कोई सूचना सिविल सर्जन को नहीं दी गई है. डीएम अभिषेक सिंह ने साफ शब्दों में कहा कि 'निर्देश की अवहेलना करने वाले डॉक्टर पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत कार्रवाई की जाएगी.'

ये भी पढ़ें- लॉकडाउन को लेकर CM नीतीश कुमार ने की भावुक अपील, कहा-कृपया कोरोना से मुक्ति के प्रयास में सहयोग दें

जिले के अनुपस्थित डॉक्टरों की सूची

  1. डॉ असीम कुमार गौरव, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बोधगया, 16 जनवरी, 2021 से अब तक अनुपस्थित हैं.
  2. डॉ रजनी कुमार गौतम, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बोधगया,29 अक्टूबर, 2020 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  3. डॉ रवि कुमार श्रीवास्तव (संविदा), सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बोधगया, 21 मार्च, 2021 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  4. डॉ विवेक कुमार, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बाराचट्टी, 27 मार्च, 2021 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  5. डॉ विजय कुमार, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बाराचट्टी, 25 फरवरी, 2021 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  6. डॉ शैलेश कुमार हिमांशु, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बाराचट्टी, 14 फरवरी, 2021 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  7. डॉ सत्यप्रकाश, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बाराचट्टी, 23 फरवरी 2021 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  8. डॉ सुचितानंद कुमार, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, कोंच, 26 मार्च, 2021 से अबतक अनुपस्थित हैं.
  9. डॉ रौद्री नारायण, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, फतेहपुर, 23 नवंबर, 2020 से अबतक अनुपस्थित है एवं
  10. डॉ नूमन  कुमारी, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, फतेहपुर, 23 नवंबर, 2020 से अबतक अनुपस्थित हैं.

बता दें कि बिहार में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. कोरोना कि दूसरी लहर लोगों पर लगातार अपना कहर बरसा रही है. मौत के आंकड़ों में लगातार इजाफा होता जा रहा है. ऐसे लोगों का एकमात्र सहारा डॉक्टर ही हैं. उस पर डॉक्टरों का इस तरह बिना सूचना के कई महीनों से अनुपस्थित रहना घोर अनुशासनहीनता को दर्शाता है.

(इनपुट- जय प्रकाश कुमार)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.