जम्मू कश्मीर: दुकानों में आग लगाने की घटना में 4 शरारती तत्व गिरफ्तार

जिला एसपी अब्दुल क्यूम ने बताया कि 24 नवंबर को शाम करीब 4 बजे मारूफ़, आदिल और बिलाल नामी तीन लोगों ने प्लान बनाया कि वह दुकानों में आग लगाएंगे. उसके लिए उन्होंने अपने चौथे साथी समीर को पेट्रोल लाने को कहा. समीर ने अपनी स्कूटी पर जाकर ओल्ड टाउन बारामुला के आजाद गंज के एक पेट्रोल पंप से 400 रुपए का पेट्रोल खरीदा. 

जम्मू कश्मीर: दुकानों में आग लगाने की घटना में 4 शरारती तत्व गिरफ्तार
प्रतीकात्मक तस्वीर

श्रीनगर: उत्तरी कश्मीर के बारामुला टाउन में लगातार दुकानों को जलाए जाने की वारदातों को बढ़ते देख पुलिस द्वारा एक स्पेशल टीम तफ्तीश के लिए नियुक्त की गई थी और करीब 8 दिनों तक कई जगहों पर छापेमारी के बाद कुछ संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. तफ्तीश के दौरान यह बात सामने आई है कि इस घटना के पीछे चार स्थानीय युवक हैं, जिन्होंने इस घटना को अंजाम देने के लिए एक प्लान बनाया था. 

जिला एसपी अब्दुल क्यूम ने बताया कि 24 नवंबर को शाम करीब 4 बजे मारूफ़, आदिल और बिलाल नामी तीन लोगों ने प्लान बनाया कि वह दुकानों में आग लगाएंगे. उसके लिए उन्होंने अपने चौथे साथी समीर को पेट्रोल लाने को कहा. समीर ने अपनी स्कूटी पर जाकर ओल्ड टाउन बारामुला के आजाद गंज के एक पेट्रोल पंप से 400 रुपए का पेट्रोल खरीदा. 

क्यूम के अनुसार इनमें से समीर मास्टरमाइंड माना जा रहा है, जिसने बाकी लड़कों को भी तैयार किया है. पुलिस का यह भी मानना है कि इसके पीछे कुछ और लोग भी हो सकते हैं, जिनके इशारों पर इस घटना को अंजाम दिया गया होगा. उनका यह भी कहना है कि घटना को अंजाम देने वालों की खुद की दुकानें खुली रहती थी. बताया जा रहा है कि इनमें से तीन दुकानदार है जबकि चौथा एक सेल्समैन है.

दरअसल, 24 नवंबर की शाम को बारामुला मेन मार्केट में दो दुकानों को आग लगाई गई थी, जबकि तीसरी दुकान को आग लगाने की कोशिश की गई थी. इस संदर्भ में पुलिस की ओर से जिले के डीएसपी की अगुआई में बाकी सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर एक विशेष टीम का गठन किया गया, जिन्होंने तफ्तीश शुरू की गई. एसएसपी ने बताया कि शुरुआत में यह बात सामने आ रही थी कि इसके पीछे शरारती तत्वों का हाथ है, जिनका आतंकियों के साथ संबंध है.

ये भी देखें-: