रांची में विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में 3 लोगों के खिलाफ FIR, 2 लाख रुपये भी बरामद

रांची में हवाला का पैसा पहुंचने और विधायकों की खरीद फरोख्त की आशंका के बीच पुलिस ने 3 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है

रांची में विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में 3 लोगों के खिलाफ FIR, 2 लाख रुपये भी बरामद
विधायक खरीद-फरोख्त मामले में 3 लोग गिरफ्तार. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Ranchi: रांची में हवाला का पैसा पहुंचने और विधायकों की खरीद फरोख्त की आशंका के बीच पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है.राज्य सरकार के खिलाफ साजिश रचने के आरोप में कोतवाली थाने में 3 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. पुलिस ने राजद्रोह और आपराधिक षडयंत्र समेत कई धाराएं लगायी हैं. गिरफ्तार लोगों के पास से 3 बैग और करीब 2 लाख रुपए भी बरामद हुए है. इस बीच पुलिस ने होटल के CCTV फुटेज सहित कई दस्तावेज जब्त किए हैं. 

दरअसल हेमंत सोरेन सरकार को हिलाने की साजिश का पर्दाफाश एक पत्र से हुआ. थाना प्रभारी कोतवाली को लिखे इस पत्र में साजिश का पूरा खुलासा किया गया है. इस पत्र को बेरमो के कांग्रेस विधायक कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह ने लिखा है. अपने पत्र में विधायक ने लिखा है कि पिछले कई महीने से उन्हें राज्य में सत्तारूढ़ गंठबंधन सरकार को अस्थिर करने की साजिश रचे जाने की सूचना मिल रही थी. साथ ही उन्हें ये भी जानकारी मिली की अलग-अलग जगहों से कुछ लोग राजनीतिक षडयंत्र को अंजाम देने के लिए रांची में आकर कैंप कर रहे हैं, और हवाला के जरिये बड़े पैमाने पर लेन-देन की सूचना भी मिली है. 

विधायक अनूप सिंह के 22 जुलाई को लिखे इसी पत्र पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने रांची के कई होटल में छापेमारी की और 3 लोगों को गिरफ्तार किया, जिन पर राजनीतिक साजिश रचने का आरोप है. बेरमो विधायक कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह ने इस मामले में कोतवाली थाने में अभिषेक दुबे, अमित सिंह और निवारण प्रसाद महतो के खिलाफ केस दर्ज कराया है. इन पर आईपीसी की धारा 419, 420 124-ए, 120 बी, 34 और पीआर एक्ट की धारा 171 के साथ पीसी एक्ट की धारा 8/9 लगायी गयी है. 

बता दें कि रांची में हवाला की बड़ी रकम पहुंचने की सूचना पर ये कार्रवाई हुई है. मामला विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े होने की आशंका है. पुलिस को पकड़े गए तीनों आरोपियों के पास से करीब 2 लाख रुपए भी बरामद हुए है. फिलहाल गिरफ्तार किए गए लोगों से पूछताछ चल रही है. मामला हाईप्रोफाइल होने के चलते पुलिस मामले से जुड़े हर तार खंगालने में जुटी हुई है. पुलिस ने तीनों अभियुक्तों को कोर्ट में पेश कर 14 दिन के न्यायिक हिरासत के लिए गुहार लगायी है.

वहीं पुलिस की कार्रवाई के साथ-साथ मामले में सियासत भी तेज हो चली है. सत्ता पक्ष ने इस पूरे मामले में बीजेपी पर निशाना साधा है. सत्ता पक्ष के मुताबिक विपक्ष का मुंगेरीलाल का हसीन सपना कभी सफल नहीं होगा. जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य के मुताबिक बीजेपी की बहुत दिनों की जो चाहत थी कर्नाटक, मध्यप्रदेश के बाद पहले तो राजस्थान में उनकी भद्द पिटी, उसके बाद उनका अगला निशाना झारखंड था. अभी तो पुलिस की जांच चल रही है, लेकिन एक बात साफ है की न झारखंड की जनता बिकाऊ है, और न ही हमऔर हमारे सहयोगी दलों के विधायक बिकाऊ हैं, हमारी सरकार टिकाऊ है.

मामले में सियासी दलों की ओर से मामले को लेकर बयानों की बाढ़ आयी हुई है. झारखंड सरकार में मंत्री आलमगीर आलम के मुताबिक राज्य सरकार बिल्कुल सुरक्षित है, गठबंधन के तमाम विधायक एक साथ हैं, और यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. उन्होंने कहा की विधायक की खरीद-ब्रिक्री के नाम पर सरकार को बदनाम करने के लिए एक सोर्स काम कर रहा है, लेकिन कांग्रेस का कोई भी विधायक खरीद -ब्रिक्री के जाल में फंसने नहीं जा रहा है.

वहीं झारखंड सरकार में मंत्री मिथिलेश ठाकुर का कहना है की जो लोग पकड़े गए हैं, उनसे बहुत सारी बातों का खुलासा होगा. उन्होंने कहा की हेमंत सरकार के गठन के दूसरे दिन से ही उसे गिराने के काम शुरू हो गए थे, लेकिन ये मंसूबे कामयाब नहीं हो पा रहे हैं. मिथिलेश ठाकुर ने कहा की आने वाले चुनाव में  जनता उन्हें सबक सिखाएगी. 

वहीं जेएमएम प्रवक्ता मनोज पांडेय का कहना है की पेगासस कांड और जासूसी के जरिये राज्य सरकार को अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है. विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिश हो रही है, लेकिन जो भी लोग ऐसे मंसूबे लेकर आए हैं वो सभी लोग पकड़े भी जाएंगे और पूरा मामला उजागर होगा.

इधर, सत्ता पक्ष के हमलों पर बीजेपी विधायक सीपी सिंह ने जवाब देते हुए कहा की जिस तरीक़े से हवाला कारोबारी को लेकर मामला सामने आ रहा है, अगर वह ग़लत है और पूछताछ में अगर दोषी पाए जाते हैं, तो ऐसे लोगों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए और सरकार को उचित क़दम उठाना चाहिए. सीपी सिंह ने कहा की सरकार को इसकी जांच करानी चाहिए सिर्फ़ हंगामा खड़ा करने से कुछ नहीं होगा, अगर कोई दोषी है तो उसे सजा मिलनी चाहिए.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.