रुद्र ग्रुप ऑफ कंपनीज के प्रमोटर मुकेश खुराना की खारिज हुई जमानत याचिका

रुद्र ग्रुप ऑफ कंपनीज (Rudra Group of Companies) के प्रमोटर मुकेश खुराना की जमानत याचिका को नोएडा कोर्ट ने खारिज कर दिया है. 

रुद्र ग्रुप ऑफ कंपनीज के प्रमोटर मुकेश खुराना की खारिज हुई जमानत याचिका

नोएडा: रुद्र ग्रुप ऑफ कंपनीज (Rudra Group of Companies) के प्रमोटर मुकेश खुराना की जमानत याचिका को नोएडा कोर्ट ने खारिज कर दिया है. खुराना की याचिका को अतिरिक्त जिला न्यायाधीश मोना पंवार ने खारिज किया है. मालूम हो कि इससे पहले भी खुराना की बेल को एलडी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट शमीम अहमद अंसारी भी खारिज कर चुके हैं. मुकेश खुराना पिछले एक माह से कासना जेल में बंद हैं.

ये भी पढ़ें-Farmers Protest- कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए बुलाएं संसद का विशेष सत्र: किसान संगठन

इन आरोपों के चलते गिरफ्तार हुए थे खुराना
आपको बता दें कि निवेशकों से पैसे लेकर फ्लैट ना देने के चलते धोखाधड़ी के आरोप में नोएडा फेज-3 पुलिस ने तीन नवंबर को उनको गिरफ्तार किया था. नोएडा कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा दिया था. गौरतलब है कि उनकी गिरफ्तारी गाजियाबाद निवासी सुनीता नाम की महिला द्वारा पुलिस को दी गई शिकायत के बाद की गई. महिला ने आरोप लगाया कि 2012 में बिल्‍डर ने गाजियाबाद में एक प्रोजेक्ट की शुरुआत की थी. इस दौरान मुकेश ने लुभावनी स्कीम के जरिए महिला से 3 फ्लैटों की एवज में 90 लाख रुपये ले लिए थे. लेकिन 8 साल बीत जाने के बाद भी महिला को फ्लैट नहीं मिले. ना ही पैसे वापस हुए. अपने को ठगा महसूस होने पर महिला ने खुद जानकारी जुटाने की कोशिश की.

ये भी पढ़ें-कैप्टन अमरिंद सिंह ने किया पलटवार, दिल्ली सीएम केजरीवाल को बताया 'डरपोक'

इस दौरान पता चला कि जिस जमीन पर वो प्रोजेक्ट बनना था वो जमीन ग्राम सभा की थी, जिसको लेकर किसान हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक चले गए थे. सच्चाई का पता लगने पर महिला ने पुलिस में एफआईआर दर्ज करा दी, जिसके बाद नोएडा पुलिस ने मुकेश खुराना को तीन नवंबर को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. उसके पहले मुकेश खुराना को दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) द्वारा भी गिरफ्तार किया गया था.

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.