भीमा कोरेगांव मामले की जांच में नोएडा पहुंची NIA, इस सोसाइटी में चलाया सर्च ऑपरेशन

ये तलाशी करीब एक घंटे तक चली जिसके बाद सभी अधिकारी वहां से वापस चले गए. बता दें कि NIA का आरोप है कि हनी बाबू भी दूसरे आरोपियों के साथ भीमा कोरेगांव हिंसा में शामिल था.

भीमा कोरेगांव मामले की जांच में नोएडा पहुंची NIA, इस सोसाइटी में चलाया सर्च ऑपरेशन

नई दिल्ली: पुणे (Pune) के भीमा- कोरेगांव (Bhima Koregaon) हिंसा मामले की जांच आगे बढ़ाते हुए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIAने दिल्ली यूनिवर्सिटी में अंग्रेजी के एसोसिएट प्रोफेसर हनी बाबू (Honey Babu) एमटी के नोएडा स्थित आवास पर सर्च ऑपरेशन चलाया है. बता दें कि एनआईए ने 28 जुलाई को हनी बाबू का गिरफ्तार कर 7 दिन की रिमांड पर लिया था. 

एनआईए रविवार सुबह करीब 8 बजे नोएडा के सेक्टर-78 की हाइड पार्क सोसाइटी में पहुंची थी, जहां C-टावर में बने हनी बाबू के फ्लैट में तलाशी अभियान चलाया गया. ये तलाशी करीब एक घंटे तक चली जिसके बाद सभी अधिकारी वहां से वापस चले गए. बता दें कि NIA का आरोप है कि हनी बाबू भी दूसरे आरोपियों के साथ भीमा कोरेगांव हिंसा में शामिल था. 

बता दें कि जब भारत पर अंग्रेजों का राज था तब महार रेजिमेंट अंग्रेजों के लिये लड़ा करती थी. उस दौरान मराठाओं के साथ हुए युद्ध में अंग्रेजों ने इस रेजिमेंट को लड़ाई में उतारा. इस घमासान युद्ध में महारों की वजह से अंग्रेजों की जीत हुई थी. इस जीत की खुशी में यलगार परिषद हर साल 31 दिसंबर को विजय उत्सव मनाती है. 

ये भी पढ़ें:- लोगों से 10 करोड़ रुपये ठग देहरादून में की ऐश, अब पहुंचे जेल, जानें हाई प्रोफाइल ठगी का पूरा मामला

पुणे पुलिस के मुताबिक इस जीत की 200वीं सालगिरह पर हिंसा करवाने के लिये बड़ी साजिश रची गई. साजिश के तहत 1 दिसंबर 2017 को कबीर कला मंच की बैठक में माओवादियों ने भड़काऊ भाषण दिए. जिसके बाद पुणे के भीमा कोरेगांव में 1 जनवरी 2018 को बड़े पैमाने पर हिंसा भड़क गई. इस हिंसा में जान-माल का काफी नुकसान हुआ था. 

पुणे पुलिस ने मामले की जांच करते हुए दिल्ली से गौतम नवलखा, फरीदाबाद से सुधा भारद्वाज, हैदराबाद से वरवर राव, गोवा से वी गोजांल्विंस और ठाणे से अरुण फरेरा को गिरफ्तार किया था. हालांकि बाद में गौतम नवलखा को हाई कोर्ट के कहने पर रिहा करना पड़ा था. पुणे पुलिस ने अपनी जांच पूरी कर बाकी गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ नवंबर 2018 और फरवरी 2019 में दो चार्जशीट दाखिल की थी. 

ये भी पढ़ें:- रक्षाबंधन पर बन रहा विशेष संयोग, मिलेगा लाभ; लेकिन इन 6 गलतियों को भूल से भी ना करें

LIVE TV-

केंद्र सरकार ने जनवरी 2020 में इस हिंसा की जांच NIA के सुपुर्द कर दी थी. जिसके बाद NIA ने जांच आगे बढ़ाते हुए गौतम नवलखा और आनंद तेलतुंबड़े को गिरफ्तार कर लिया. इन दोनों की गिरफ्तारी के बाद NIA ने मंगलवार को दिल्ली यूनिवर्सिटी के एसोसिएट प्रोफेसर हनी बाबू एमटी को गिरफ्तार किया था. जिसे बुधवार को कोर्ट में पेश करने पर उसे 7 दिन की रिमांड पर भेजा गया है.

ये भी देखें-