झारखंड सरकार गिराने की बहुत पहले से चल रही थी प्लानिंग, जानिए कब क्या हुआ?

झारखंड में हेमंत सरकार गिराने की साजिश के मामले की पृष्ठभूमि काफी पहले तैयार हो चुकी थी, तीन आरोपियों से पूछताछ के दौरान यह खुलासा हुआ है.

झारखंड सरकार गिराने की बहुत पहले से चल रही थी प्लानिंग, जानिए कब क्या हुआ?
झारखंड सरकार गिराने के मामले की पहले से थी प्लानिंग. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Ranchi: झारखंड में हेमंत सरकार गिराने की साजिश के मामले में परत दर परत खुल रही है. मामले में गिरफ्तार तीन आरोपियों से पूछताछ के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. अभी तक सामने आयी जानकारी के मुताबिक हॉर्स ट्रेडिंग के इस मामले की पृष्ठभूमि काफी पहले तैयार हो चुकी थी. जिसका अंदेशा जताते हुए ज़ी बिहार झारखंड की ओर से 15 जुलाई को 3 विधायकों के दिल्ली जाने की खबर के साथ बतायी गयी थी.

हेमंत सरकार के अस्थिर करने की साजिश के मामले में गिरफ्तार आरोपी के कबूलनामा में खुलासा हुआ है कि झारखंड कांग्रेस के विधायकों के साथ डील हो रही थी. अब आपको सिलसिलेवार तरीके से बताते हैं की इस मामले में कब क्या हुआ था -

15 जुलाई 2021

ज़ी बिहार झारखंड ने बताया था कि कांग्रेस के 2 विधायक और एक निर्दलीय विधायक दिल्ली गए हैं. इस दौरान एक चौंकाने वाला तथ्य सामने आया, जिसके मुताबिक विधायक इरफ़ान अंसारी, उमाशंकर अकेला और अमित यादव ने दिल्ली का जो सफर तय किया था, वह एक ही PNR के ज़रिये तय किया गया था. हालांकि मामले पर कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने कहा था कि कोई असंतोष की बात नहीं है, सभी विधायक जानकारी देकर दिल्ली गए हैं.

16 जुलाई 2021

राजधानी रांची सहित राज्य भर में पुलिस की छापेमारी शुरू हुई. दरअसल खुफिया विभाग से झारखंड पुलिस को यह इनपुट मिले थे कि हवाला का पैसा राजधानी रांची सहित राज्यभर में पहुंच चुका है और इसी इनपुट पर पुलिस ने अपनी छापेमारी शुरू की.

22 जुलाई 2021

22 जुलाई 2021 को बेरमो के विधायक जय मंगल सिंह ने गुप्त शिकायत रांची के कोतवाली थाने में दर्ज करायी. थाना प्रभारी कोतवाली को लिखे पत्र में साजिश का पूरा खुलासा किया गया. इस पत्र को बेरमो के कांग्रेस विधायक कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह ने लिखा है. अपने पत्र में विधायक ने लिखा है कि पिछले कई महीने से उन्हें राज्य में सत्तारूढ़ गंठबंधन सरकार को अस्थिर करने की साजिश रचे जाने की सूचना मिल रही थी.साथ ही उन्हें ये भी जानकारी मिली की अलग-अलग जगहों से कुछ लोग राजनीतिक षडयंत्र को अंजाम देने के लिए रांची में आकर कैंप कर रहे हैं, और हवाला के जरिये बड़े पैमाने पर लेन-देन की सूचना भी मिली है.

22 जुलाई 2021

22 जुलाई की रात विधायक जयमंगल के लिखे पत्र पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने रांची के कई होटलों में छापेमारी की. पुलिस को इनपुट्स मिले थे कि सरकार गिराने की साजिश को लेकर कई लोग राजधानी रांची में बड़ी रकम के साथ मौजूद हैं और एक बड़ी रणनीति तैयार हो रही है. रांची पुलिस ने जब रात करीब साढ़े 8 होटल ली लैक में छापेमारी की तो वहां से अभिषेक दुबे गिरफ्तार हुआ, जिस कमरे से गिरफ्तारी हुई उसी कमरे से 2 लाख रुपये भी बरामद हुए. उस होटल में कई और कमरे बुक थे, लेकिन अन्य लोग फरार हो गए और उसी होटल से पुलिस को कई लगेज भी बरामद हुए.

24 जुलाई 2021

24 जुलाई को यह खबर आग की तरह फैल गई और कोतवाली थाने के बाहर मीडियाकर्मियों का जमावड़ा लग गया. तब ज़ी बिहार झारखंड ने दिखाया कि कोतवाली थाने की पुलिस होटल के अंदर होटल कर्मियों से पूछताछ कर रही है. इस दौरान सीसीटीवी फुटेज और कई दस्तावेज को भी होटल से ज़ब्त किया गया. जिसके बाद देर शाम अभिषेक दुबे सहित तीनों आरोपियों को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर उन्हें 14 दिन के हिरासत में ले लिया और फिर पूछताछ शुरू हुई.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.