मिसाल: परिवार का खर्च चले इसलिए कभी पिता के साथ बेचते थे चाय और पकौड़े, कड़ी मेहनत के दम पर IPS बने अल्ताफ

अल्ताफ शेख ने इस्लामपुर के नवोदय विद्यालय से पढ़ाई की, बाद में उन्होंने फूड टेक्नोलॉजी में बी.टेक किया. इससे पहले अल्ताफ ने 2015 में भी UPSC की परीक्षा पास की थी. तब उनकी उम्र 22 साल थी. उन्होंने केंद्रीय गृह विभाग में डिप्टी एसपी के तौर पर जॉइन किया था. शुरुआत में शेख उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में तैनात थे. इसके बाद फरवरी में उनका तबादला उस्मानाबाद कर दिया गया.

मिसाल: परिवार का खर्च चले इसलिए कभी पिता के साथ बेचते थे चाय और पकौड़े, कड़ी मेहनत के दम पर IPS बने अल्ताफ

नई दिल्ली. 'मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती, कोशिश करने वालों की हार नहीं होती' ये लाइने शायद अल्ताफ शेख के लिए ही बनाई गईं हैं. क्योंकि उन्होंने अपनी मेहनत से वो कर दिखाया है, जो लोग कभी सोच नहीं सकते हैं.

दरअसल, अल्ताफ शेख का यूपीएससी में चयन हो गया है और वे एक आईपीएस बन गए हैं. लेकिन यहां तक पहुंचने का रास्ता कठिनाइयों भरा रहा है. अल्ताफ मूल रूप से पुणे के रहने वाले हैं. परिवार की स्थिति ठीक नहीं थी, इसलिए खर्च निकालने के लिए वे स्कूल के दिनों में बारामती में पिता को चाय-पकौड़े बेचने में मदद करते थे. उन्होंने 545वीं रैंक हासिल की है. 

अल्ताफ शेख ने इस्लामपुर के नवोदय विद्यालय से पढ़ाई की, बाद में उन्होंने फूड टेक्नोलॉजी में बी.टेक किया. इससे पहले अल्ताफ ने 2015 में भी UPSC की परीक्षा पास की थी. तब उनकी उम्र 22 साल थी. उन्होंने केंद्रीय गृह विभाग में डिप्टी एसपी के तौर पर जॉइन किया था. शुरुआत में शेख उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में तैनात थे. इसके बाद फरवरी में उनका तबादला उस्मानाबाद कर दिया गया.

नौकरी करने के दौरान उनका एक बार फिर से IPS के लिए चयन हो गया है. अपनी इस सफलता श्रेय अल्ताफ शेख ने डिप्टी CM अजित पवार को भी दिया है. क्योंकि पवार ने ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार करने के लिया बारामती में राष्ट्रवादी कैरियर अकैडमी की शुरुआत की थी. अजित पवार के निजी सहायक सुनील कुमार मुसले ने भी इस अकादमी की स्थापना में अहम योगदान दिया है. अल्ताफ ने पहली बार UPSC की परीक्षा इसी अकादमी में पढ़ाई कर पास की थी.

WATCH LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.