close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

10वीं के छात्रों के लिए जरूरी खबर, CBSE ने गणित के पेपर में किया बड़ी बदलाव

CBSE class 10th Board Exam: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (CBSE) की तरफ से कक्षा 10 के छात्रों के लिए बड़ा बदलाव किया गया है.

10वीं के छात्रों के लिए जरूरी खबर, CBSE ने गणित के पेपर में किया बड़ी बदलाव

नई दिल्ली : CBSE class 10th Board Exam: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (CBSE) की तरफ से कक्षा 10 के छात्रों के लिए बड़ा बदलाव किया गया है. नए बदलाव के तहत बोर्ड की तरफ से कक्षा 10 के छात्रों को गणित की पढ़ाई अब दो लेवल पर कराने का फैसला लिया गया है. बोर्ड की तरफ से जारी एक सर्कुलर में इस बारे में जानकारी दी गई है. सर्कुलर के अनुसार साल 2020 से 10वीं में गणित की पढ़ाई दो स्तर पर शुरू की जाएगी और परीक्षा भी दो लेवल पर ही होगी.

एग्जाम फॉर्म में कर सकेंगे चयन
सीबीएसई की तरफ से यह बदलाव गणित के कारण छात्रों पर पड़ने वाले बोझ को देखते हुए किया गया है. बोर्ड की तरफ से जारी अधिसूचना में कहा गया सीबीएसई ने छात्रों को गणित बेसिक और गणित स्टैंडर्ड पर परीक्षण करने की अपनी योजना साझा की. नए नियम के अनुसार गणित के पहले स्तर पर कोई बदलाव नहीं किया जाएगा लेकिन दूसरा लेवल कुछ आसान होगा. वहीं कुछ मीडिया रिपोर्टस में यह भी कहा जा रहा है कि गणित बेसिक और स्टैंडर्ड के मूल्यांकन में भी अंतर होगा. एग्जाम फॉर्म भरते समय छात्रों के पास गणित बेसिक या गणित स्टैंडर्ड के लिए चयन करने का विकल्प होगा.

साल 2020 से लागू होगा नया नियम
गणित स्टैंडर्ड उन छात्रों के लिए है जो उच्च कक्षाओं में गणित को आगे पढ़ने की इच्छा रखते हैं. जबकि गणित बेसिक ऐसे छात्रों के लिए है जो ऐसा नहीं करना चाहते. गणित के मौजूदा लेवल को मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड लेवल कहा जाएगा, वहीं आसान लेवल को बेसिक मैथमेटिक्स कहा जाएगा. छात्र इन दो लेवल में से मैथ के लेवल का चुनाव कर सकते हैं. यह चुनाव अक्टूबर या नवंबर महीने में एग्जाम फॉर्म भरते समय ही किया जा सकेगा. इसके तहत साल 2020 से बेसिक मैथ और स्टैंडर्ड मैथ्स की पढ़ाई कराई जाएगी.

बोर्ड के तरफ से उठाए गए इस कदम को सीबीएसई के छात्रों के लिए बेहद अहम माना जा रहा है. इससे बच्चों में न सिर्फ बेहतर समझ का विकास होगा बल्कि उनपर पढ़ाई और परफारमेंस का बोझ भी कम होगा.