आईआईटी प्रोफेसर, डॉक्टरों, अभिभावकों ने तीन राज्यों के CM को लिखा पत्र, स्कूल खोलने को लेकर की ये मांग

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आईआईटी बॉम्बे में कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग में कार्यरत प्रोफेसर भास्करन रमन ने महाराष्ट्र, दिल्ली और कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों को एक ओपन लेटर लिखा है. 

आईआईटी प्रोफेसर, डॉक्टरों, अभिभावकों ने तीन राज्यों के CM को लिखा पत्र, स्कूल खोलने को लेकर की ये मांग

नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण सबसे बुरा असर पढ़ाई पर पड़ा है. क्योंकि 2020 के बाद से स्कूल-कॉलेज बंद हैं. हालांकि पिछले हफ्ते से कई राज्यों में स्कूल-कॉलेज खोलने की प्रक्रिया शुरू हो गई है.  वहीं, कुछ राज्य ऐसे हैं जहां अब भी स्कूल-कॉलेज नहीं खोले गए हैं. इसको लेकर आईआईटी प्रोफेसर, डॉक्टरों और अभिभावकों ने तीन राज्यों के CM को पत्र लिखकर स्कूल खोलने की मांग की है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आईआईटी बॉम्बे में कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग में कार्यरत प्रोफेसर भास्करन रमन ने महाराष्ट्र, दिल्ली और कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों को एक ओपन लेटर लिखा है. इस लेटर को सिर्फ भास्करन रमन ने ही जारी नहीं किया है, बल्कि इसमें आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी दिल्ली, विभिन्न डॉक्टर, पेशेवर और महाराष्ट्र, दिल्ली और कर्नाटक राज्यों के संबंधित माता-पिता भी शामिल हैं.

पत्र में लिखा गया है कि देश में पिछले 16 महीनों से स्कूल बंद पड़े हैं. जो कि छात्रों के हित में नहीं है. इससे छात्रों को भारी नुकसान हो रहा है. साथ ही सीखने और विकास के नुकसान के मामले में स्कूल बंद होने की लागत बढ़ रही है, जबकि वैज्ञानिक प्रमाण बताते हैं कि सुरक्षा उपायों के साथ फिर से खोलना संभव है.

इस पत्र में 170 देशों का हवाला देते हुए कहा गया है कि दुनिया भर के लगभग 170 देशों में स्कूल आंशिक रूप से या पूरी तरह से खुले हैं. हालांकि कुछ देशों जैसे फ्रांस और स्वीडन ने महामारी के दौरान भी स्कूलों को बंद नहीं किया. ऐसे में कोरोना से बचाने के उपायों के साथ जोखिमों को दूर करने के लिए प्रयास होना चाहिए.

इसके अलावा पत्र में कहा गया है कि रातोंरात स्कूल नहीं खोले जा सकते हैं, इसके लिए सभी स्तरों पर विशेष रूप से स्थानीय परिस्थितियों के संबंध में सावधानीपूर्वक योजना बनाने की आवश्यकता होगी.

WATCH LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.