close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कुलाबा सीट: यहां रहते हैं रतन टाटा, 8 प्रत्याशियों में है कड़ी टक्कर

कोलाबा विधानसभा क्षेत्र (colaba assembly constituency) मुंबई के बेहद पॉश इलाकों में से एक है. यह विधानसभा सीट (Maharashtra Assembly Elections 2019) 1985 से लेकर के 2014 तक कांग्रेस के पास रही, लेकिन साल 2014 में मोदी लहर में बीजेपी के विधायक राजपुरोहित ने कांग्रेस के एनी शेखर को हरा दिया.

कुलाबा सीट: यहां रहते हैं रतन टाटा, 8 प्रत्याशियों में है कड़ी टक्कर
कुलाबा विधानसभा सीट पर एनडीए के राहुल नार्वेकर और यूपीए के अशोक उर्फ भाई जगताप के बीच सीधा मुकाबला है.

मुंबई: कोलाबा विधानसभा क्षेत्र (colaba assembly constituency) देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के दक्षिणी हिस्से में है. यह मुंबई के बेहद पॉश इलाकों में से एक है. यह विधानसभा सीट (Maharashtra Assembly Elections 2019) 1985 से लेकर के 2014 तक कांग्रेस के पास रही, लेकिन साल 2014 में मोदी लहर में बीजेपी के विधायक राजपुरोहित ने कांग्रेस के एनी शेखर को हरा दिया. इस बार इस सीट पर बीजेपी से राहुल नार्वेकर चुनाव लड़ रहे हैं. नार्वेकर का सीधा मुकाबला कांग्रेस के अशोक उर्फ भाई जगताप से है, जबकि बहुजन समाज पार्टी (BSP) से अर्जुन रूखे इस सीट पर अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति ने नार्वेकर की राह थोड़ी आसान कर दी है. शायद यही वजह है कि वह अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आते हैं.

राहुल नार्वेकर की पैदाइश और परवरिश इसी इलाके में हुई जबकि यूनियन लीडर भाई जगताप मुंबई के बांद्रा इलाके के रहने वाले हैं. नार्वेकर का दावा है कि स्थानीय उम्मीदवार होने के नाते वे इलाके की समस्याओं को बेहतर जानते हैं. ZEE मीडिया से विशेष बातचीत में नार्वेकर ने कहा कि यह विधानसभा शहर की एडमिनिस्ट्रेटिव हेडक्वार्टर है. झोपड़पट्टियों का पुनर्वसन, खस्ता हालत इमारतों का रिडेवलपमेंट, ट्राफिक, पार्किंग और ब्रिटिश जमाने की पानी सप्लाई करने वाली पाइपलाइनें यहां की बड़ी समस्याएं हैं. नार्वेकर मानते हैं कि स्थानीय मुद्दों के अलावा, पुलवामा हमले के बाद बालाकोट एयर स्ट्राइक और जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाए जाने के केंद्र सरकार के अहम फैसलों का भी उन्हें फायदा मिलेगा. 

कोलाबा विधानसभा सीट पर किसी उम्मीदवार को जिताने में गुजराती और राजस्थानी समाज के वोटर अहम भूमिका निभाते हैं. साल 2014 के विधानसभा चुनाव के नतीजों में बीजेपी करीब 52 हजार मतों से पहले नंबर पर जबकि 29 हजार वोटों से शिवसेना दूसरे नंबर पर रही. कांग्रेस करीब 20 हजार वोटों से तीसरे नंबर पर और एनसीपी महज 6 हजार वोटों से चौथे नंबर पर रही. गौरतलब है कि इस बार बीजेपी-शिवसेना का गठबंधन है और कांग्रेस-एनसीपी भी एक साथ चुनाव लड़ रही है.

कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद होने वाले सबसे पहले चुनाव में इस विधानसभा सीट पर कुल 8 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमाने चुनावी मैदान में उतरे हैं. ऐसे में 21 अक्टूबर को इन उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में बंद होगी और 24 अक्टूबर को यह साफ हो जाएगा कि आखिर जनता की पसंद कौन है.

कोलाबा विधानसभा सीट की विशेषताएं:
इस चुनावक्षेत्र में रतन टाटा समेत कई बड़ी हस्तियां रहती हैं. गेटवे ऑफ इंडिया, होटल ताज महल पैलेस, मरीन ड्राइव, आजाद मैदान जैसे नामी पर्यटन स्थलों के अलावा मुंबई पुलिस, महाराष्ट्र पुलिस, और मुंबई महानगरपालिका के हेड क्वार्टर, सिटी सिविल सेशन कोर्ट, स्पेशल सीबीआई कोर्ट, एनआईए कोर्ट, पीएमएलए कोर्ट, टाडा कोर्ट और बॉम्बे हाईकोर्ट जैसे कई महत्वपूर्ण सरकारी दफ्तर और अन्य हेरिटेज साइट्स भी इसी चुनावी क्षेत्र में हैं. इनकम टैक्स, एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट, मध्य रेलवे पश्चिम रेलवे, जैसे कई सरकारी महकमों के मुख्यालय भी इसी इलाके में है.