close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्‍ट्र: चुनावी जंग में उतरे पौराणिक पात्र, 'रावण' Vs 'कुंभकर्ण' की हो रही चर्चा

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) की घोषणा के साथ ही सियासत में अचानक पौराणिक पात्रों की तुलना नेताओं के साथ होने लगी है.

महाराष्‍ट्र: चुनावी जंग में उतरे पौराणिक पात्र, 'रावण' Vs 'कुंभकर्ण' की हो रही चर्चा
महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस.(फाइल फोटो)

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) की घोषणा के साथ ही सियासत में अचानक पौराणिक पात्रों की तुलना नेताओं के साथ होने लगी है. कांग्रेस नेता ने मुख्यमंत्री की तुलना 'रावण' से की तो बीजेपी ने पूरे कांग्रेस के नेताओं की तुलना 'कुंभकर्ण' से कर दी. किसानों और महाराष्ट्र की सियासत के मुद्दे पर सवाल पूछने पर कांग्रेस ने सीएम देवेंद्र फडणवीस की तुलना 'रावण' से की. कांग्रेस के नेता नाना पटोले ने हालांकि बाद में सफाई देते हुए कहा कि रामायण में जो सबसे घमंडी पात्र है, उसकी बात कही है.

वहीं कांग्रेस के नाना पटोले का जवाब बीजेपी के माधव भंडारी ने दिया और उन्‍होंने पूरी कांग्रेस को 'कुंभकरण' कह दिया और मोदी जी के द्वारा रामराज्य लाने की बात कही. माधव भंडारी के मुताबिक पीएम मोदी देश को राम राज्‍य की तरफ लेकर जा रहे हैं लेकिन कांग्रेस पूरी कुंभकर्ण है जो सोई हुई है.

महाराष्‍ट्र: 'ये जो 288 सीटों का बंटवारा है, ये भारत-पाकिस्‍तान के विभाजन से भी भयंकर है'

इससे पहले अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार का कार्टून बीजेपी के ट्विटर हैंडल पर वायरल होने के बाद सियासी बखेड़ा खड़ा हो गया था. सूबे में 21 अक्‍टूबर को चुनाव होना है और वोटों की गिनती 24 अक्‍टूबर को होगी. हालांकि चुनाव का प्रचार जैसे-जैसे जोर पकड़ रहा है. आरोप प्रतयारोप का दौर बढ़ गया है.

LIVE TV

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के साथ ही होगा सतारा लोकसभा सीट का उपचुनाव

गठबंधन का संकट
इस बीच सत्‍तारूढ़ बीजेपी-शिवसेना के बीच सीटों को लेकर सहमति नहीं बन सकी है. मंगलवार को दोनों दलों की तरफ से गठबंधन के साथ सीटों पर सहमति का ऐलान होना था लेकिन ऐसा नहीं हो सका. शिवसेना नेता संजय राउत के बयान से ऐसा लगता है कि अभी दोनों दल सीटों के बंटवारे को लेकर सहमत नहीं हो सके हैं और दांवपेंच आजमाए जा रहे हैं. दरअसल शिवसेना नेता संजय राउत ने इस मुद्दे पर कहा, ''इतना बड़ा महाराष्‍ट्र है, ये जो 288 सीटों का बंटवारा है ये भारत-पाकिस्‍तान के बंटवारे से भी भयंकर है. यदि हम सत्‍ता में ना होकर विपक्ष में होते तो आज की तस्‍वीर कुछ अलग होती. सीटों के बंटवारे को लेकर जो भी फैसला होगा, वो आपको बता दिया जाएगा.''

महाराष्‍ट्र: 155-165 सीटों पर लड़ सकती है BJP, क्‍या शिवेसना बनेगी जूनियर पार्टनर?

फिफ्टी- फिफ्टी फॉर्मूले की शर्त
288 विधानसभा सीटों वाले महाराष्‍ट्र में शिवसेना अब तक बीजेपी के सामने चुनाव पूर्व गठबंधन को लेकर फिफ्टी- फिफ्टी फॉर्मूले की शर्त रखती आई है. बीजेपी इस फॉर्मूले पर सहमत नहीं है क्‍योंकि पिछली बार उसको अकेले अपने दम पर 122 सीटें मिली थीं. बीजेपी पर दबाव बनाने के लिए उसने सभी 288 विधानसभा क्षेत्र में इच्‍छुक उम्मीदवारों के इंटरव्‍यू भी शुरू कर दिये थे. शिवसेना ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की नागपुर सीट पर भी शिवसेना के इच्छुक उम्मीदवारों का भी इंटरव्यू लेना शुरू कर दिया था. बीजेपी भी सभी 288 सभी सीट के लिए उम्मीदवारों के चयन में जुट गई थी. हालांकि शुरुआती तनातनी के बाद शिवसेना और बीजेपी के बीच गठबंधन को लेकर तो सहमति बन गई लेकिन सीटों को लेकर पेंच अभी भी फंसा हुआ है.