close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

  • 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    90कांग्रेस+

  • अन्य

    98अन्य

अपनी सीट खोजें

जमशेदपुर

जमशेदपुरः झारखंड के जमशेदपुर संसदीय सीट पर इस बार की आमने-सामने की लड़ाई में भाजपा और जेएमएम दोनों ही सियासी दलों की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है. सूबे की हॉट सीटों में से एक जमशेदपुर लोकसभा सीट पर न सिर्फ जीत हासिल करना बल्कि, बड़े मार्जिन से जीत सुनिश्चित करने को लेकर बीजेपी अपने संगठन की सारी ताकत झोंकने में लगी है.

वहीं, जेएमएम प्रत्याशी महागठबंधन के सहयोगी दलों के समर्थन से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में पार्टी के व्यापक जनाधार के बल पर जीत का दावा कर रही है. माना जा रहा है कि 12 मई चुनाव की तिथि आने तक दोनों के बीच इस चुनावी घमासान में कड़ा मुकाबला देखने को मिलेगा.



भाजपा के सुरक्षित गढ़ माना जाने वाला जमशेदपुर लोकसभा सीट पर इस बार के चुनाव में पार्टी की जीत सुनिश्चित कहना आसान नहीं है. सीएम रघुवर दास, पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा और मंत्री सरयू राय का गृह क्षेत्र जमशेदपुर एक ऐसा संसदीय क्षेत्र है, जहां से सूबे की सत्ता का मिजाज न सिर्फ तय होता है. बल्कि इन्हीं रास्तों से चल कर सूबे की सत्ता की कमान भी संभाली जाती है. यही वजह है कि इस बार के चुनाव में भाजपा अपनी जीत को लेकर भले ही दावे कर रही हो लेकिन अपनी सांगठनिक ढांचे के बलबूते गंभीर मान कर रात दिन एक किये हुए है.

पार्टी प्रत्याशी विद्युतवरण के चुनावी प्रचार में शहर आये मंत्री अमर बाउरी कहते हैं कि भाजपा जमशेदपुर संसदीय सीट पर जीत दर्ज करने को गंभीरता से ले रही है. जनता ने मिलावटी महागठबंधन को नकार दिया है. हम ऐतिहासिक जीत दर्ज करेंगे. महागठबंधन का कोई भी प्रयास सफल नहीं होगा. यहां की जनता का नब्ज टटोलने में हम सफल रहे हैं. लोग मोदी जी के नेतृत्व को फिर से स्वीकार करने का मन बना लिया है.

हालांकि भाजपा के जीत के दावों को महागठबंधन से जेएमएम प्रत्याशी सिरे से नकारते हैं और कहते हैं कि दरअसल एजेंडा विहीन भाजपा को हार का भय सता रहा है. पिछले पांच सालों में भाजपा जनता की कसौटी पर खरा उतर पाने में विफल साबित हुई है. असल में भाजपा संसदीय क्षेत्र की ग्रामीण जनता के बीच वोट मांगने से भी कतरा रही है. क्योंकि, उसके पास जनता के सवालों का जवाब ही नहीं है. चम्पई सोरेन ने भाजपा प्रत्याशी को कॉरपोरेट प्रत्याशी बताते हुए कहा कि उस चुनाव में जनता से भाजपा को सबक सिखाने का मन बना लिया है.

ऐसे में इस बार का चुनाव भले ही एनडीए और यूपीए के बीच हो रही हो लेकिन सियासी जानकारों की माने तो सूबे की दोनों ही प्रमुख सियासी दलों के लिए भी मुंछ की लड़ाई बनी हुई है. दोनों ही सियासी दल डोर टू डोर सघन कैम्पेन और पदयात्रा के अलावा मतदाताओं को अपने पक्ष में गोलबंद करने को लेकर बाहर से आये जादूगरों को प्रचार में झोंक रहें हैं. कुछ ऐसा ही डेमो जेएमएम के चुनावी कार्यालय में देखने को मिला. जब कांट्रेक्ट मिलने की उम्मीद लगाए बैठे नागपुर से आये जादूगर ने जेएमएम कार्यालय में अपनी जादूगरी दिखा कर पक्ष में प्रचार करने की अनुमति मांगी.

और पढ़े

और पढ़े

उम्मीदवार पार्टी वर्तमान स्थिति कुल वोट
बिद्युत बरन महतो बीजेपी

जीते

679632
चंपई सोरेन जेएमएम

हारे

377542
अंजना महता टीएमसी

हारे

9542
सूर्या सिंह बसरा जेपीपी

हारे

9288
शेख अखिर उद्दीन जेपी (एन)

हारे

7665
अंगद महतो एएमबी

हारे

6665
सबिता काइबर्तो एएनपी

हारे

6272
नोटा नोटा

हारे

5813
सुब्रत कुमार प्रधान एपीओआई

हारे

4850
रंजीत कुमार सिंह जेएचकेपी

हारे

4630
मुबीन खान निर्दलीय

हारे

3969
दीपक कुमार गिरि निर्दलीय

हारे

3518
अशरफ हुसैन बीएसपी

हारे

3359
राकेश कुमार निर्दलीय

हारे

3239
महेश कुमार आरटीआरपी

हारे

2481
पानमणि सिंह एसयूसीआई

हारे

2471
असित कुमार सिंह निर्दलीय

हारे

2366
मलय कुमार महतो सीपीआई (एमएल) (आर)

हारे

1874
असजदुल्लाह इमरान बीपीएचपी

हारे

1789
चंद्र शेखर महतो पीपीआई (डी)

हारे

1587
दिनेश महतो निर्दलीय

हारे

1524
शैलेंद्र कुमार सिंह निर्दलीय

हारे

1496
क़मर रज़ा ख़ान बीपीसीपी

हारे

1463
सरिता आनंद निर्दलीय

हारे

1191

जमशेदपुर खबरें

पीएनबी घोटालाः जमशेदपुर पीएनबी बैंक शाखा में 4.44 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा

पीएनबी घोटालाः जमशेदपुर पीएनबी बैंक शाखा में 4.44 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को एक बार फिर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया है. जमशेदपुर के बिष्टुपुर और मानगो के पीएनबी शाखा में 4 करोड़ रुपये से भी अधिक का लोन फर्जीवाड़े में मामला दर्ज किया गया है. सीबीआई रांची की आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की है.

मई 26, 2018, 04:59 PM IST
एक पुरानी परंपरा के नाम पर कड़ाके की ठंड में गर्म लोहे से दागे जाते हैं यहां के मासूम बच्चे

एक पुरानी परंपरा के नाम पर कड़ाके की ठंड में गर्म लोहे से दागे जाते हैं यहां के मासूम बच्चे

जमशेदपुर और उसके आस-पास के आदिवासी लोगों को आज के दिन का पूरे एक साल से इंतजार रहता है

Jan 15, 2018, 04:14 PM IST