close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

  • 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    90कांग्रेस+

  • अन्य

    98अन्य

अपनी सीट खोजें

क़रीमगंज

नई दिल्ली: देश में 2019 का लोकसभा चुनाव मई में होने की संभावना है. इस बीच कई राज्यों में राजनीतिक दलों ने अपनी चुनावी तैयारियां शुरू कर दी है. 2014 में देश के उत्तर-पूर्व में स्थित असम में मोदी लहर में 14 में से 7 लोकसभा सीटें जीतने वाली बीजेपी की डगर इस बार के लोकसभा चुनाव के दौरान काफी मुश्किल दिख रही है.

करीमगंज लोकसभा सीट का चुनावी इतिहास
अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित करीमगंज लोकसभा सीट को कांग्रेस का गढ़ माना जाता है. अब तक हुए लोकसभा चुनाव में 9 बार कांग्रेस उम्मीदवार यहां से जीत चुके हैं. असम के इस लोकसभा सीट (karimganj Parliamentary Constituency) से 2014 के चुनाव के दौरान आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) के उम्मीदवार राधेश्याम विश्वास ने बीजेपी उम्मीदवार कृष्ण दास को 1,02,094 मतों से चुनाव में मात दी थी. आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के विजेता उम्मीदवार को इस चुनाव में 3,62,866 मत मिला था.


वहीं, बीजेपी उम्मीदवार के पक्ष में 2,60,772 मत पड़ा था. इस चुनाव के दौरान तीसरे स्थान पर रहे कांग्रेस उम्मीदवार ललित मोहन शुक्लवैद्य ने 2,26,562 मत पाकर चुनावी संघर्ष को त्रिकोणीय बना दिया था.

जबकि 2009 के चुनाव के दौरान कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे ललित मोहन ने एयूडीएफ के उम्मीदवार राजेश मल्लाह को 7,924 मतों से मात दी थी. इस चुनाव में कांग्रेस के विजेता उम्मीदवार को 2,59,567 मत मिला था. जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदी एयूडीएफ के उम्मीदवार के पक्ष में 2,51,643 मत मिला. वहीं, तीसरे पायदान पर रहे बीजेपी उम्मीदवार सुधांशु दास को 1,14,892 मत मिला था.

देश के उत्तर-पूर्व (North-east) में स्थित राज्य असम में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार है. यहां से लोकसभा चुनाव 2014 (loksabha election 2014) के दौरान राज्य की 14 संसदीय सीटों में से बीजेपी ने 7 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इसके अलावा कांग्रेस (Congress) के खाते में 3 जबकि आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट(Aiudf) ने 4 सीटें जीती थी.

वहीं, 2009 के लोकसभा चुनाव के दौरान यहां से कांग्रेस ने 7, बीजेपी ने 4 जबकि अन्य ने 9 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी. जिसमें, 1 सीट असम गण परिषद (AGP) और 1 सीट बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट (BPF) ने जीता था.

आपको बता दें कि, 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी लहर के प्रभाव के कारण असम के लोगों ने बीजेपी नीत गठबंधन को 7 सीटें दी थी. लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले बीजेपी-आसु (AASU) के बीच चल रहा विवाद, बीजेपी के नेताओं से उनकी नाराजगी का राज्य के चुनाव परिणाम पर नकारात्मक प्रभाव हो सकता है.

इसके अलावा 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान नेशनल वोर्टस रजिस्टर, नागरिकता के कानून में बदलाव (amedment in citizenship bill) के अलावा असम अकार्ड (Assam Accord) को लागू करना एक बड़ा मुद्दा हो सकता है.

और पढ़े

और पढ़े

उम्मीदवार पार्टी वर्तमान स्थिति कुल वोट
कृपानाथ मल्लाह बीजेपी

जीते

473046
राधेश्याम विश्वास एआईयूडीएफ

हारे

434657
स्वरुप दास कांग्रेस

हारे

120452
नोटा नोटा

हारे

6555
चंदन दास टीएमसी

हारे

4870
सत्यजीत दास निर्दलीय

हारे

2988
हरिलाल रबिदास निर्दलीय

हारे

2822
प्रक्षित रॉय निर्दलीय

हारे

2765
निखिल रंजन दास एचएनडी

हारे

2519
राजू दास निर्दलीय

हारे

2111
रामनारायण शुक्लाबैद्य निर्दलीय

हारे

1795
रबिंद्र चंद्र दास निर्दलीय

हारे

1719
अजॉय कुमार दास एआईएफबी

हारे

1538
प्रोभास चंद्र सरकार एसयूसीआई

हारे

1166
अनुपम सिंघा निर्दलीय

हारे

1069

क़रीमगंज खबरें

करीमगंज में महिला को निर्वस्त्र कर पीटने के मामले में चार को जेल भेजा गया

करीमगंज में महिला को निर्वस्त्र कर पीटने के मामले में चार को जेल भेजा गया

पुलिस ने शक के आधार पर 19 लोगों को पकड़ा था और पूछताछ के बाद चार ग्रामीणों को गिरफ्तार किया.

Sep 23, 2018, 11:15 PM IST
जानिए कैसे, एक महिला 6 महीने में 85 बच्चों को दिया 'जन्म'!

जानिए कैसे, एक महिला 6 महीने में 85 बच्चों को दिया 'जन्म'!

असम के सरकारी अस्पताल में लिली बेगम लस्कर नाम की नर्स पिछले छह महीने से 85 बच्चों को 'जन्म' देने में व्यस्त थीं। एक सरकारी योजना के बारे में जब लिली ने जाना तो उसे इतना लालच आया कि पिछले छह महीने में 85 बच्चों को जन्म देने का दावा करने से भी वह पीछे नहीं हटीं। लेकिन उसके इस झूठ का पर्दाफाश भी हो गया। फिर उसे अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा।   

Sep 22, 2015, 06:18 PM IST
नगालैंड सरकार ने गृह मंत्रालय को बताया,  बलात्कार नहीं सहमति से बने थे संबंध

नगालैंड सरकार ने गृह मंत्रालय को बताया, बलात्कार नहीं सहमति से बने थे संबंध

नगालैंड सरकार ने आज केन्द्र को बताया कि सैयद शरीफ खान, जिसे दीमापुर में पिछले सप्ताह उग्र भीड़ ने पीट पीटकर मार डाला था ,उसने उस लड़की के साथ बलात्कार नहीं किया था, जिसने उसपर यौन शोषण का आरोप लगाया है, बल्कि दोनों के बीच सहमति से यौन संबंध बने थे।

Mar 11, 2015, 07:55 PM IST