close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

  • 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    90कांग्रेस+

  • अन्य

    98अन्य

अपनी सीट खोजें

सरगुजा

नई दिल्ली: सरगुजा लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित है. सरगुजा जिले का अंबिकापुर छ्त्तीसगढ़ के पुराने शहरों में से एक है. सरगुजा स्टेट के राजपरिवार से ताल्लुक रखने वाले टीएस सिंहदेव छत्तीसगढ़ के सबसे अमीर विधायक हैं. वहीं अब इस संसदीय क्षेत्र के चुनाव पर लोगों की निगाह टिकी हुई है.

सरगुजा सीट पर साल 2004 से बीजेपी ही काबिज है. लेकिन इस बार बीजेपी ने सरगुजा लोकसभा से मौजूदा सांसद कमलभान सिंह मराबी का टिकट काटकर रेणुका सिंह सरुता को उम्मीदवार घोषित किया है. इस वजह से ये सीट कांग्रेस के लिए बड़ी आस वाली सीट बन चुकी है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कमलभान सिंह मराबी ने जीत दर्ज की थी. उन्होंने अपने करीबी कांग्रेस प्रत्याशी राम देव राम को करारी शिकस्त दी थी.

पिछले लोकसभा चुनाव यानी साल 2014 में कमलभान सिंह मराबी को 5 लाख 85 हजार 336 यानी 49.29 फीसदी वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस के राम देव राम को 4 लाख 38 हजार 100 यानी 36.90 फीसदी वोटों से संतोष करना पड़ा था. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में 75.92 फीसदी मतदान हुआ था.

अगर इसके पहले साल 2009 पर नजर डालें तो इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के मुरारीलाल सिंह को जीत मिली थी. उन्होंने 4 लाख 16 हजार 532 वोट हासिल किए थे और कांग्रेस के भानु प्रताप सिंह को हराया था. साल 2009 के लोकसभा चुनाव में भानु प्रताप सिंह को 2 लाख 56 हजार 983 वोट मिले थे. साल 2009 के लोकसभा चुनाव सरगुजा लोकसभा सीट पर 61.62 फीसदी मतदान हुआ था.

सरगुजा लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित है. सरगुजा जिले का अंबिकापुर छ्त्तीसगढ़ के पुराने शहरों में से एक है. सरगुजा स्टेट के राजपरिवार से ताल्लुक रखने वाले टीएस सिंहदेव छत्तीसगढ़ के सबसे अमीर विधायक हैं. साल 2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की रमन सिंह सरकार के चौथी बार सत्ता में काबिज होने के सपने को तोड़ते हुए कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की. छत्तीसगढ़ की मौजूदा कांग्रेस सरकार में सरगुजा संभाग से दो विधायक टीएस सिंहदेव और डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम को कैबिनेट में जगह दी गई है.

इस लोकसभा सीट पर 2014 में पुरुष मतदाताओं की संख्या 7 लाख 71 हजार 303 थी, जिनमें से 6 लाख 10 हजार 877 ने वोटिंग में भाग लिया. वहीं, पंजीकृत 7 लाख 51 हजार 769 महिला वोटर्स में से 5 लाख 76 हजार 444 महिला वोटर्स ने भाग लिया था. इस सीट पर 15 लाख 23 हजार 072 मतदाता हैं, जिनमें से 11 लाख 87 हजार 321 ने पिछले लोकसभा चुनाव में मतदान किया था.

और पढ़े

और पढ़े

उम्मीदवार पार्टी वर्तमान स्थिति कुल वोट
रेणुका सिंह सरुता बीजेपी

जीते

663711
खेल साई सिंह कांग्रेस

हारे

505838
नोटा नोटा

हारे

29265
आशा देवी पोया जीजीपी

हारे

24463
माया भगत बीएसपी

हारे

18534
पलसे उरणव निर्दलीय

हारे

9414
रामनाथ चेरवा एसएसडी

हारे

9060
मोहन सिंह टेकाम शिवसेना

हारे

7161
गुमान सिंह पोया एपीओआई

हारे

5388
पवन कुमार नाग बीएमपी

हारे

4143
चंद्रदीप सिंह कोरचो आरएचएसपी

हारे

3712

सरगुजा खबरें

बहन को बचाने के लिए हाथी से टकरा गई थी 7 साल की कांति, मिलेगा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार

बहन को बचाने के लिए हाथी से टकरा गई थी 7 साल की कांति, मिलेगा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार

सात वर्षीय कांति ने साहस का परिचय दिया और हाथियों के बगल से गुजरकर अपनी बहन को सही सलामत घर से बाहर निकाल लाई. 

Jan 22, 2019, 03:13 PM IST
छत्तीसगढ़ः कड़ाके की ठंड ने बढ़ाई किसानों की परेशानी, मैनपाट में 1.4 डिग्री पहुंचा पारा

छत्तीसगढ़ः कड़ाके की ठंड ने बढ़ाई किसानों की परेशानी, मैनपाट में 1.4 डिग्री पहुंचा पारा

सरगुजा ,सूरजपुर और  बलरामपुर जिले के मैदानी क्षेत्रों में  सुबह नजारा बदला हुआ है. कई जगहों पर तो बर्फ की चादर देखने को मिल रही है.

Jan 1, 2019, 09:32 AM IST
अनोखा है छत्तीसगढ़ का ये टूरिस्ट स्पॉट, पर्यटकों के लिए बना हुआ है अबूझ पहेली

अनोखा है छत्तीसगढ़ का ये टूरिस्ट स्पॉट, पर्यटकों के लिए बना हुआ है अबूझ पहेली

छत्तीसगढ़ को वैसे तो नक्सल का गढ़ कहा जाता है, लेकिन ऐसी कई जगहे हैं जो कि पर्यटकों और घूमने के शौकीनों की पहली पसंद बनी हुई है. 

Oct 4, 2018, 03:06 PM IST

हेल्थ मिनिस्टर को ये क्या कह गए भूरिया

कांतिलाल भूरिया के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में डारिया, कुपोषण से हुई मौत का कारण जानने पहुंती थी कांग्रेस की टीम। उसी दौरान पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया ने गुरूवार को मैनपाट का दौरा किया। लोगों की स्वास्थ्य से जुड़ी मुश्किलों को सुनकर भड़के भूरिया ने कहा कि अजय चंद्राकर नाम भर के स्वास्थ्य मंत्री है। उन्होंने ये भी कहा कि चन्द्राकर को आदिवासियों की कोई चिन्ता नहीं  है, उनकी तो माफ़िया, दलाल और  खनिज माफिया लोगों से दोस्ती है।

Sep 15, 2016, 05:48 PM IST