close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

  • 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    90कांग्रेस+

  • अन्य

    98अन्य

अपनी सीट खोजें

श्रीरामपुर

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की श्रीरामपुर लोकसभा सीट का इतिहास एकाधिकार रहा है, तो गलत नहीं होगा. यह एक ऐसी संसदीय सीट है जिस पर पहले 1952 में सीपीआई का उम्मीदवार सांसद चुना गया. एक बार सीपीएम को सफलता मिलने के बाद वो हर चुनावों में अपनी कहानी लिखती रही और लंबे वक्त सीपीएम ने सत्ता पर कब्जा जमाए रखा.

1952 में जब पहली बार चुनाव हुआ तो सीपीआई के तुषार कांत चट्टोपाध्याय ने जीत हासिल की. हालांकि 1957 में यह बाजी पलट गई और इंडियन नेशनल कांग्रेस के जितेंद्र नाथ लहरी सांसद चुनकर सत्ता में आए. 2009 में ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी ने सीपीएम को हराकर सीट अपने नाम कर ली. 2014 में भी यहां से तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी ही यहां से सांसद हैं.

श्रीरामपुर लोकसभा सीट के अंतर्गत कुल सात विधानसभा सीटें आती हैं, जिनमें जगतबल्लवपुर, डोमजूर, उत्तरपारा, सेरामपुर, चांपदानी, चण्डीतला और जंगीपाड़ा शामिल हैं. इस बार यहां पर बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच कांटे का मुकाबला देखा जा रहा है. राजनीतिक जानकारों का मानना है कि 2014 के चुनावों से सबक लेने के बाद बीजेपी ने पश्चिम बंगाल लोकसभा सीट पर अपनी धाक जमाने के कई सारे पैतरे आजमाएं हैं. हालांकि वो कितने कामयाब हुए इसका पता तो 25 मई को ही चलेगा.

और पढ़े

और पढ़े

उम्मीदवार पार्टी वर्तमान स्थिति कुल वोट
कल्याण बनर्जी टीएमसी

जीते

637707
देबजीत सरकार बीजेपी

हारे

539171
तीर्थंकर रे सीपीएम

हारे

152281
देवव्रत बिस्वास कांग्रेस

हारे

32509
नोटा नोटा

हारे

20501
मंगल सरकार निर्दलीय

हारे

5092
स्वपन मन्ना निर्दलीय

हारे

4257
लछमन रजक बीएसपी

हारे

2593
अविनाश मुंशी निर्दलीय

हारे

2272
प्रदुत चौधरी एसयूसीआई

हारे

1886
प्रभाष चंद्र कर आरजेएएसपी

हारे

1772
काशीनाथ मुर्मू आईयूसी

हारे

1664

श्रीरामपुर खबरें

बंगाल में पीएम ने कहा- '23 मई के बाद बच नहीं पाएंगी दीदी, संपर्क में हैं उनके 40 विधायक'

बंगाल में पीएम ने कहा- '23 मई के बाद बच नहीं पाएंगी दीदी, संपर्क में हैं उनके 40 विधायक'

पीएम मोदी ने ममता बनर्जी को चेतावनी दी है कि उन्होंने विश्वासघात किया है इसलिए 23 मई के बाद उनका बच पाना मुश्किल होगा.

Apr 29, 2019, 03:43 PM IST