पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने ‘बाजीराव-मस्तानी’ को बताया इस्लाम विरोधी, लगाया बैन

पाकिस्तान में संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देशित फिल्म बाजीराव-मस्तानी को  बैन किया जा सकता है। पाकिस्तान सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को इस्लाम के विरोधी करार दिया है। बोर्ड ने फिल्म का एक बार फिर से रिव्यू करने के लिए कहा है। हालांकि दो लोकल बोर्ड ने इस ऐतिहासिक फिल्म को पास कर दिया है। सीबीएफसी के चेयरमैन मोबाशेर हसन का कहना है कि यह फिल्म हिंदी में है और पाकिस्तानी दर्शक इसे देखना नहीं चाहते हैं।

पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने ‘बाजीराव-मस्तानी’ को बताया इस्लाम विरोधी, लगाया बैन

मुंबई : पाकिस्तान में संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देशित फिल्म बाजीराव-मस्तानी को  बैन किया जा सकता है। पाकिस्तान सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को इस्लाम के विरोधी करार दिया है। बोर्ड ने फिल्म का एक बार फिर से रिव्यू करने के लिए कहा है। हालांकि दो लोकल बोर्ड ने इस ऐतिहासिक फिल्म को पास कर दिया है। सीबीएफसी के चेयरमैन मोबाशेर हसन का कहना है कि यह फिल्म हिंदी में है और पाकिस्तानी दर्शक इसे देखना नहीं चाहते हैं।

रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण स्टारर यह फिल्म 18 दिसंबर को भारत में रिलीज हो रही है। हसन ने कहा कि इस फिल्म में जो अंतरंग दृश्य है। वो हमारे लिए कोई बड़ा विषय नहीं है। लेकिन यह फिल्म एक ऐतिहासिक ड्रामा है। जो कहीं ना कहीं इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि दो लोकल बोड्र्स ने इस फिल्म को पास किया है, जबकि लोकल डिस्ट्रीब्यूटर ने इस फिल्म को रिजेक्ट कर दिया था, इसलिए हमने पूरी फिल्म को रिव्यू करने के लिए कहा है। 

पाकिस्तान के सेंसर बोर्ड ऑफ पंजाब को फिल्म को लेकर कोई परेशानी नहीं है। उसने इसे बिना किसी कट के पास कर दिया है। बाजीराव मस्तानी से पहले भी सीबीएफसी ने पाकिस्तानी फिल्म स्वारंगी को कंट्रोवर्शियल सब्जेक्ट पर बनी मूवी कहकर बैन कर दिया था। वहीं शाहिद कपूर की फिल्म शाहिद की रिलीज पर भी बैन लगा दिया था।