जब अमिताभ ने वर्दी पहनने से कर दिया था इंकार, 'शहंशाह' की शूटिंग का वो किस्सा जो शायद ही आप जानते हों

अमिताभ अपने करियर में अब तक करीब 200 फिल्मों में काम कर चुकें हैं और लगता है ये आंकड़ा अभी काफी आगे तक जाएगा. फिल्मों की बात करें तो अमिताभ ने कई बेहतरीन फिल्में की है जिन्हें आज भी दर्शक बार-बार देखना पसंद करते हैं. 

जब अमिताभ ने वर्दी पहनने से कर दिया था इंकार, 'शहंशाह' की शूटिंग का वो किस्सा जो शायद ही आप जानते हों
अमिताभ बच्चन (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachachan) के बारे में जितना भी लिखा जाए उतना कम है. कॉमेडी हो या एंग्री यंग मैन का रोल, पर्दे पर हर किरदार को शहंशाह ने खुलकर जिया और लोगों के बीच गहरी छाप छोड़ी. अमिताभ आज करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणास्रोत हैं. अमिताभ अपने करियर में अब तक करीब 200 फिल्मों में काम कर चुकें हैं और लगता है ये आंकड़ा अभी काफी आगे तक जाएगा. फिल्मों की बात करें तो अमिताभ ने कई बेहतरीन फिल्में की है जिन्हें आज भी दर्शक बार-बार देखना पसंद करते हैं. 

वैसे इन दिनों अमिताभ के चाहने वालों की खुशी का ठिकाना नहीं है क्योंकि महानायक की फिल्म शहंशाह (Shahenshah) का रीमेक बनने जा रहा है. अमिताभ बच्चन के टॉप फिल्मों में से एक शहंशाह दोबारा बनाई जाएगी और हो सकता है अमिताभ बच्चन ही फिल्म में फिर से नजर आएंगे. शहंशाह को लेकर टीनू आनंद ने कहा था, 'हां  मैं शहंशाह की रीमेक बनाउंगा, लेकिन पहले कोरोना वायरस का प्रभाव कम हो जाए. अभी बताया नहीं जा सकता कि यह कब शुरू होगी और रीमेक को कब रिलीज किया जाएगा. 

बता दें कि फिल्म शहंशाह में अमिताभ बच्चन, मीनाक्षी शेषाद्रि, प्रेम चोपड़ा, अमरीश पुरी, कादर खान, प्राण, रोहिणी हट्टंगड़ी, सुप्रिया पाठक और विजयेंद्र घाटगे की अहम भूमिका थीं, जिन्हें टीनू आनंद, बिट्टू आनंद और नरेश मल्होत्रा ने मिलकर फाइनांस किया था. टीनू आनंद ने फिल्म का निर्देशन भी किया था.

आज आपको फिल्म से जुड़ा एक किस्सा बताने जा रहे जो शायद ही आपने सुना होगा. दरअसल, उस वक्त जब फिल्म शहंशाह की शूटिंग चल रही थी और क्लाइमेक्स शूट करने के दौरान अमिताभ ने पुलिस की वर्दी पहनने से मना कर दिया था. तीन घंटों तक शूटिंग रूकी रही इसके बाद टीनू आनंद ने ऐसी बात कही कि अमिताभ कुछ भी कह नहीं सके और अंत में वर्दी में ही फिल्म का क्लाइमेंक्स शूट किया गया.

दरअसल, अमिताभ चाहते थे कि क्लाइमेक्स सीन में वो अपने फनी इंस्पेक्टर वाले किरदार की वर्दी पहनने के बजाय एक स्टाइलिश व्लैजर पहनें. लेकिन टीनू आनंद ने साफ मना कर दिया. अमिताभ गुस्सा हो गए. तब सैट पर टीनू के पिता और फिल्म के लेखक इंदर राज आनंद आए. उन्होंने अमिताभ को डस्टबिन में पड़े हरे, सफेद और केसरिया रंग के तीन टुकड़े दिखाए और कहा कि इन टुकड़ों को देखो, इनकी कोई कीमत नहीं है. लेकिन अगर ये तीनों जुड़ जाएं तो क्या फिर उन्हें कोई डस्टबिन में डालने की हिम्मत कर पाएगा? इसके लिए तुम किसी की जान भी ले सकते हो. जो हमारे दिलों में तिरंगे की इज्जत है, वहीं एक पुलिस वाले के लिए उसकी वर्दी की होती है. अगर वो क्लाइमेक्स सीन में वर्दी पहनेगा तो उससे अलग ही फर्क पड़ेगा. अमिताभ इंदर राज आनंद के सामने निरुत्तर थे, एक तो बड़े थे, दूसरे उनका तर्क काफी वजनदार था. अमिताभ चुपचाप उठे और वर्दी पहन ली, तब जाकर शूटिंग दोबारा शुरू हो पाई थी. खैर अमिताभ की फिल्मों को लेकर ऐसे कई और किस्से-कहानियां हैं जो उनकी व्यक्त्तिव को सामनें रखती हैं. बस अब इंतजार है तो शहंशाह के रीमेक का.

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें