close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

संगीत समझ में भंसाली हो सकते हैं राज कपूर के प्रतिद्वंदी : लता

लता का मानना है कि किसी फिल्मकार को अपनी फिल्मों में आवश्यक संगीत की गुणवत्ता को समझने के लिए खुद संगीतकार होना चाहिए.

संगीत समझ में भंसाली हो सकते हैं राज कपूर के प्रतिद्वंदी : लता
लता ने कहा कि मुझे हमेशा भंसाली की फिल्मों के संगीत अच्छे लगे हैं.(फाइल फोटो)

मुंबई: दिग्गज गायिका लता मंगेशकर ने फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के संगीत की प्रशंसा की है. लता ने कहा कि मुझे हमेशा उनकी फिल्मों के संगीत अच्छे लगे हैं. इससे पहले, इस्माइल दरबारजी संगीत बनाते थे. अब भंसालीजी अपना संगीत बना रहे हैं, जो बहुत अच्छी चीज है. गायिका का मानना है कि किसी फिल्मकार को अपनी फिल्मों में आवश्यक संगीत की गुणवत्ता को समझने के लिए खुद संगीतकार होना चाहिए. उन्होंने कहा कि भंसाली में गुणवत्ता है. उन्हें संगीत, गीत और भारतीय शास्त्रीय विरासत और संस्कृति का गहरा ज्ञान है.

ये भी पढ़ें : भारत में विरोध के बीच, PAK में 'पद्मावत' बिना किसी कट के रिलीज

भंसाली को है संगीत की समझ- लता मंगेशकर 
उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि भंसाली के पास संगीत की समझ है, जो राज साहब (राज कपूर) की तरह तीक्ष्ण है. राज साहब एक पूर्ण संगीतकार थे. उन्होंने तबला, हार्मोनियम और पियानो बजाया. उन्होंने गीत बनाए और पेशेवर पाश्र्वगायकों से पहले उन्हें खुद अपनी आवाज में गाया. उन्होंने कहा कि वह अपनी फिल्मों में आसानी से संगीत बना सकते थे, लेकिन उन्होंने अपनी फिल्मों में संगीत का श्रेय लेने का निर्णय नहीं किया. लता मंगेशकर के मुताबिक, यहां एक दूसरा फिल्मकार है, जो राज कपूर की संगीत समझ का प्रतिद्वंदी बन सकता है. लता ने भंसाली की 'पद्मावत' के बारे में कहा कि फिल्म का 'घूमर' गीत 'घूमर' नृत्य शैली को पुनर्जीवित कर रहा है. उन्होंने कहा कि दीपिका पादुकोण का 'घूमर' नृत्य देखने के बाद दुनियाभर में लोग इस पर झूम रहे हैं.

ये भी पढ़ें : राजपूतों के बाद अब मुस्लिमों की भावनाएं भी 'पद्मावत' से आहत, मलेशिया के सेंसर बोर्ड ने रिलीज पर लगाई रोक

आपको बता दें कि फिल्म पद्मावत को लेकर भारत में जगह-जगह हिंसक प्रदर्शन हुए थे, वहीं पड़ोसी देश पाकिस्तान में इस फिल्म को बिना किसी कट के रिलीज कर दिया गया था. इस्लामाबाद स्थित सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सेंसर्स (सीबीएफसी) के अध्यक्ष मोबशीर हसन ने सोशल मीडिया पर घोषणा कर इसकी जानकारी दी थी कि बोर्ड ने फिल्म को पास कर दिया है. उन्होंने ट्विटर पर इस मामले के संबंध में जानकारी दी थी.

इनपुट आईएएनएस से