close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पीएम मोदी के काम से प्रभावित हैं शूटर दादी, कहा- 'बाकी लड़कियां भी आगे आ सकती हैं'

चंद्रो तोमर (Chandro Tomar) और प्रकाशी तोमर (Prakashi Tomar) की जीवनी पर आधारित फिल्म 'सांड की आंख (Saand Ki Aankh)' जल्द ही बड़े पर्दे पर रिलीज होने वाली है.

पीएम मोदी के काम से प्रभावित हैं शूटर दादी, कहा- 'बाकी लड़कियां भी आगे आ सकती हैं'
25 अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी फिल्म 'सांड की आंख'.

मुंबई: शूटर दादी और रिवाल्वर दादी के नाम से न सिर्फ देश में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धि पाने वाली दादी चंद्रो तोमर (Chandro Tomar) और प्रकाशी तोमर (Prakashi Tomar) की जीवनी पर आधारित फिल्म 'सांड की आंख (Saand Ki Aankh)' जल्द ही बड़े पर्दे पर रिलीज होने वाली है. चंद्रो दादी का किरदार जहां एक ओर तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) करती हुई नजर आएंगी, वहीं प्रकाशी दादी का भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar). शूटर दादी के रूप में जानी जाने वाली चंद्रो तोमर और प्रकाशी तोमर से फिल्म के बारे में Zee News ने एक्सक्लूसिव बातचीत की. 

देश की बाकी लड़कियां भी आगे आ सकते हैं
चंद्रो दादी और प्रकाशी दादी का यह मानना है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्य प्रशंसा के काबिल है और खासतौर पर कहा कि मोदी जी का "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" का नारा देश में सार्थक होता नजर भी आ रहा है, जहां देश की लड़कियां अलग-अलग खेलों में भी नाम कमा रही हैं. ऐसे में अब इस नारे को "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और बेटी खिलाओ" (खेलों में) कर दिया जाना चाहिए. अलग-अलग खेलों में सर्वोत्तम रिजल्ट देने की क्षमता भारतीय बेटियों में आ गई है. अपने ऊपर इशारा करते हुए कहती हैं और हम इसका जीता जागता उदाहरण हैं. जब हम इस आयु में देश के गौरव को और भारत के झंडे को फहराने में भूमिका निभा सकते हैं, तो हमारे देश की बाकी लड़कियां भी आगे आ सकते हैं.

शूटिंग गन साथ रखकर सोती हैं चंद्रो दादी
विश्व की सबसे प्रौढ़ महिला शूटर के नाम से चंद्रो दादी जानी जाती हैं, जिनकी उम्र 87 साल है और जो आज भी अपने बिस्तर पर शूटिंग गन रखकर सोती है, दोनों पैरों में फ्रैक्चर और ऑपरेशन होने के बावजूद भी पूरी तल्लीनता और जोश के साथ अपनी फिल्म और शूटिंग खेल को प्रमोट करने से नहीं चूकतीं. शूटर दादी जो कि उत्तर प्रदेश के जौहरी गांव से आती हैं. उनकी देवरानी जिनकी उम्र 83 साल है वह भी अपने नाम कर चुकी हैं. पिछले 25 वर्षों से चंद्रो दादी और प्रकाशी दादी के हाथ में बंदूक है. 65 साल की उम्र में शूटिंग करना सीखकर इन दोनों महिलाओं ने कई कीर्तिमान अपने नाम किए हैं और अब जब इनकी जीवनी पर फिल्म बन रही है, तो इस पर इनकी खुशी का ठिकाना नहीं है, यही वजह है कि वह चाहती हैं कि लोग उनसे प्रेरणा ले और आगे बढ़ें.

शूटर दादी के घर में ही हुई है फिल्म की शूटिंग
फिल्म के शूट के बारे में बात करते हुए प्रकाशी दादी कहती हैं कि तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर ने हमें कभी इस चीज का एहसास नहीं होने दिया कि वह इतने बड़े सितारे हैं. उन्हीं के घर में रहकर नाश्ता, दोपहर का खाना और खूब सारी मस्ती दोनों एक्ट्रेस ने की. तापसी पन्नू की बात करते हुए प्रकाशी दादी कहती हैं कि तापसी उन्हीं के बेड पर आराम भी कर लिया करती थीं. आपको बता दें कि फिल्म की अधिकतर शूटिंग शूटर दादी के घर में ही हुई है, जहां रहकर उनके हावभाव, उनका बैठना उठना, खाना-पीना और उनकी वेशभूषा को पूरी तरह से अपनाते हुए दोनों एक्ट्रेसेस ने अपना परफॉर्मेंस देने में संपूर्ण योगदान दिया है.

लोगों का शुक्रगुजार है शूटर दादी का परिवार
शूटर दादी यानी कि चंद्रो दादी का यह कहना है कि 65 साल की उम्र में अपनी पोती को शूटिंग रेंज के बीच का फासला कम करने की नसीहत देते देते कब वह खुद शूटर दादी बन गई उन्हें नहीं पता चला, लेकिन साथ ही वह कहती हैं कि उनकी 22 साल की तपस्या के बाद आज लोगों द्वारा जिस तरह से उन्हें प्यार किया जा रहा है... सराहा जा रहा है... उससे वह और उनका परिवार हर किसी का शुक्रगुजार है. 'सांड की आंख' फिल्म के टाइटल की बात करते हुए दादी कहती हैं कि जब उन्होंने पहली बार शूटिंग रेंज पर गोली चलाई थी, तो उस सांड की आंख की फोटो अपने दिमाग में रखी थी. यही वजह है कि फिल्म का टाइटल उन्हें पूरी तरह से आता है. 

गांव में हो शूटिंग रेंज का निर्माण
शूटर दादी यानी कि चंद्रो दादी और प्रकाशी दादी की इच्छा है कि जल्द ही उनके गांव में शूटिंग रेंज का निर्माण किया जाए ताकि देश की और लड़कियां इस दिशा में आगे बढ़ सके, जिसके लिए अगर सरकार से उन्हें मदद मिल जाती है तो ठीक है, नहीं तो अपनी ही जमा पूंजी से वह शूटिंग रेंज बनाएंगी और जहां तक हो सके लड़कियों को सिखाएंगी. आपको बता दें कि तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर स्टारर यह बायोपिक 25 अक्टूबर को सिनेमाघरों में प्रदर्शित की जानी है.

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें