Film Review: 'चोक्ड: पैसा बोलता है' में नहीं दिखा Anurag Kashyap का मैजिक

इस फिल्म के जरिए शायद अनुराग ने अपनी चिर-परिचित छवि को तोड़ने का प्रयास किया है.

Film Review: 'चोक्ड: पैसा बोलता है' में नहीं दिखा Anurag Kashyap का मैजिक
फिल्म पोस्टर

नई दिल्ली: फिल्म 'चोक्ड: पैसा बोलता है (Choked: Paisa Bolta)' की पृष्ठभूमि विमुद्रीकरण यानी डिमोनेटाइजेशन पर बेस्ड है. इस फिल्म में हर स्तर पर सत्ता के संघर्ष की पड़ताल की गई है. इसमें एक निम्न मध्यम वर्गीय किरदारों को लेकर फिल्म बनाई गई है. इस फिल्म के जरिए शायद अनुराग ने अपनी चिर-परिचित छवि को तोड़ने का प्रयास किया है. चोक्ड में आपको एक भी गाली या बेडरूम सीन देखने को नहीं मिलेंगे. इस फिल्म में हॉरर के प्वाइंट ऑफ व्यू से पहले तो किचन का सिंक नजर आता है, लेकिन होता कुछ और है. फिल्म के टाइटल का प्रयोग इस फिल्म में कई संदर्भों में किया गया है. शुरुआत में इसे किचन में ड्रेनपाइप के क्लॉजिंग से जोड़ कर दिखाया गया है.

फिल्म- चोक्ड: पैसा बोलता है
कास्ट: सैयामी खेर, रोशन मैथ्यूज, अमृता सुभाष, राजश्री देशपांडे
निर्देशक: अनुराग कश्यप
अवधि: एक घंटा 54 मिनट
कहां देखें: नेटफ्लिक्स
आलोचकों की रेटिंग: 3.5

फिल्म में सरिता पिल्लई (सैयामी खेर) एक बैंकर हैं, जो मुंबई में एक बैंक में काम करती है. सरिता का नोट गिनने में पूरा दिन उसका खर्च हो जाता है और बाद का सारा वक्त घर, पति और बच्चे की देखभाल में बीतता है. पति सुशांत (रोशन मैथ्यू) कोई काम नहीं करता है और कर्ज ले कर पत्नी की परेशानी बढ़ाता रहता है. पैसों कि किल्लत ने दोनों के बीच प्यार को भी खत्म कर दिया है. ये फिल्म 2016 के अक्टूबर और नवंबर महीने को बेस्ड कर बनी है.

सरिता के किचन के बेसिन की लाइन बार-बार चोक हो जाती है, लेकिन उसका पति इन बातों पर ध्यान ही नहीं देता. उसे पड़ोसी ताने देते हैं, जिससे उसे कष्ट होता है, लेकिन अपने आलस्य के आगे वह इन सब चीजों की भी परवाह नहीं करता और समस्याओं को नजरअंदाज करने वाला बन जाता है उसे अक्सर पड़ोसियों द्वारा इसके बारे में ताना दिया जाता है, जिससे उसे दर्द होता है। लेकिन जब उसकी पत्नी और बेटे की बात आती है, तो वह अपने आलस्य को दूसरे स्तर पर दिखाने की परवाह नहीं करता है। जब सिंक पाइप लीक होता है तो वह घृणा में अपना चेहरा दिखाता है और बाहर जाकर अनदेखा करता है। वह दुनिया की समस्याओं को नजरअंदाज करने में एक समर्थक बन जाता है. सैयामी एकमात्र घर चलाने वाली है इसलिए वह पति के आलसी जीवन पर अधिक चिंता नहीं दिखाती. उसे चिंता रहती है तो केवल किचन की पाइप के चोक होने की.

एक रात लाइन चोक होती है, पानी बहने लगता है और पानी के साथ-साथ पोलिथिन में पैक किए नोट बाहर आते हैं. इसे सरिता भगवान की कृपा मान लेती है और ये सिलसिला हर रात होने लगता है.पांच सौ के बाहर आते जाते हैं, लेकिन सरिता ये बात किसी को नहीं बताती, लेकिन इसी बीच प्रधानमंत्री मोदी पांच सौ और एक हजार के नोट को बंद करने की घोषणा कर देते हैं, सरि‍ता चिंतित होती है, लेकिन कुछ ही दिनों में दो हजार के नए नोट निकलना शुरू हो जाते हैं. अब ये नोट कैसे आए? किसके हैं? ये सब बातें फिल्म के आखिरी दस मिनट में पता चलते हैं. दरअसल सरिता की इस कहानी के साथ नोटबंदी से उपजी समस्या, नोटों को बदलवाने के लिए लगी लंबी लाइनें, लोगों की परेशानियां, नए नोट के साथ सेल्फी, नए नोट में चिप होने की अफवाह, बुजुर्गों की परेशानी, शादी वाले घरों की चिंताएं और काले धन से जुड़े कई समस्याएं इस फिल्म में सामने लाई गई हैं.

अनुराग कश्यप की फिल्मों में जबरदस्त डायलॉग और उसका प्रजेंटेशन ही सबसे पहले लोगों के दिलों को क्लिक करता है, लेकिन चोक्ड में ये कमी नजर आ रही है.  हालांकि फिल्म का प्लॉट दमदार है, लेकिन जिस तरह से इसे समेटने का प्रयास किया गया है वह दमदार नहीं है. नोट के बाहर आने का संस्पेंस कुछ ज्यादा ही खींच गया जो दर्शकों को उबा सकती है. बात नोटबंदी की करें तो ये ट्रैक बहुत अंदर तक नहीं टच कर सका है. अनुराग कश्यप का निर्देशन, कहानी और स्क्रिप्ट के मुकाबले बेहतरीन है. वहीं एक्टिंग भी कलाकारों की जबरदस्त है.

फिल्म का सरप्राइज सैयामी खेर का अभिनय है। उन्होंने इस किरदार के लिए थोड़ा वजन देने का प्रयास किया है. बिना ग्लैमरस लुक दिए एक बेहतरीन एक्टिंग नजर आई है. रोशन मैथ्यू, अमृता सुभाष, राजश्री देशपांड सहित तमाम कलाकार अपने किरदारों में ढले नजर आते हैं। फिल्म की सिनेमाटोग्राफी जबरदस्त है और कई सीन बेहतरीन शूट किए गए हैं और गाने अर्थपूर्ण हैं. बात करें फिल्म के पंच की तो वह गायब नजर आता है. कुल मिलाकर चोक उच्च उम्मीदों के साथ देखा जाने वाला कुछ नहीं है, लेकिन निराशाजनक भी नहीं है.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.