बॉलीवुड के एक्टर्स वेब सीरीज में 'साइड हीरो' कैसे बन गए?

खुद की असल जिंदगी की असफल कहानियों और किस्सों पे चुटकी लेते दिखेंगे कुणाल रॉय कपूर, 24 सितंंबर को रिलीज होने वाली इस सीरीज को डायरेक्ट किया है रोहन सिप्पी ने

बॉलीवुड के एक्टर्स वेब सीरीज में 'साइड हीरो' कैसे बन गए?
असल अनुुुुभवों पर आधारित होगी इस सीरिज की कहानी

नई दिल्ली. कुणाल रॉय कपूर और गौहर खान जल्द एक वेब सीरिया में एक साथ नज़र आने वाले हैं. 'साइड हीरो' नाम की इस वेब सीरीज में कुणाल कपूर अपने आप का ही मज़ाक बनाते नज़र आएंगें. खुद की असल जिंदगी की असफल कहानियों और किस्सों पे चुटकी लेते दिखेंगे कुणाल. उनके रियल लाइफ के एक्सपीरियंस, लोगो का उनके प्रति व्यवहार जैसे चीज़ें और किस्से उठा के इस वेब सीरीज में डाले गए हैं. कुणाल ने बताया, 'उसके कुछ एक्पीरियंस हैं जो इस वेब सीरीज में डाले गए हैं. ये नहीं कहेंगे कि 100 परसेंट ट्रू है, लेकिन अगर कोई आपको फिल्म में लेने का डिसीजन लेता है तो वह सोचते है कि फिल्म कितनी बिकेगी. आप अपने दम पे फिल्म चला पायेंगे या नहीं, सोलो हीरो की तरह चल पाएगा के नहीं. ये सब प्रोड्यूसर के मन में भी चलता रहता है. तो इसके कुछ वर्शन हुए है मेरे साथ भी, मगर उतने एक्सट्रीम नहीं जितना हमारी वेब सीरीज में दिखाया गया है. मगर मेरी लाइफ से प्रभावित होके, हमने ये कहानियां बनाई हैं.' 

कुणाल रॉय कपूर ने मुश्किल हालातों में खत्म की 'मुश्किल' की शूटिंग

कुणाल रॉय कपूर, नाम में दम है, पर बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता - कुणाल रॉय कपूर 

सबसे खास बात यह है कि इस किरदार को न सिर्फ कुणाल रॉय कपूर निभा रहे हैं बल्कि इसका नाम भी सेम है. इस वेब सीरीज में कुणाल के साथ गौहर खान भी दिखेंगी. भले ही शो का नाम 'साइड हीरो' हो और यह टर्म बॉलीवुड में काफी इस्तेमाल होती हो लेकिन दोनों ही एक्टर्स हीरो से ज्यादा एक्टर होने में विशवास रखते हैं. 
गौहर कहती हैं, 'हम लोग हीरो हीरोइन हैं, 'साइड हीरो' के. और हम लोगों को साइड हीरो होने की आदत है. लेकिन एक्टर होना ज्यादा जरूरी है, हीरो नहीं. क्योंकि एक्टर सब कर सकता है. बॉलीवुड में साइड हीरो का कांसेप्ट बहुत है. हॉलीवुड में आप देखिए, सभी एक्टर्स छोटा सा किरदार करें या बड़ा पर वो हमेशा एक्टर्स ही कहलाते हैं. लेकिन इस वेब सीरीज का किरदार कुनाल रॉय कपूर का यह मानना है कि अगर कुछ बनना है तो हीरो बनना है.' 

एक्टर होना ज्यादा जरूरी है, हीरो नहीं 

गौहर मानती हैं कि नाम से ज्यादा काम मायने रखता है. वो कहती हैं, 'नाम तो धीरे-धीरे बना है, और ऐसा भी नहीं है कि कोई बड़ा रोल यानी के लीड किरदार किया हो. लेकिन अच्छा काम आपको अच्छा काम दिलवाता है. जब शिमित अमीन या रोहन सिप्पी जैसे लोग आपको कॉल करते हैं और काम ऑफर करते है, मेरे लिए वह सबसे बड़ा कॉम्पलिमेंट है.' 

अभिनेत्री गौहर खान को युवक ने मारा थप्पड़, 'कम कपड़े' न पहनने की दी चेतावनी

24 सितंंबर को रिलीज होने वाली इस सीरीज को डायरेक्ट किया है रोहन सिप्पी ने. रोहन इससे पहले ‘कुछ ना कहो’ (2003), ‘ब्लफमास्टर’ (2005), ‘दम मारो दम’ (2011) और ‘नौटंकी साला’ (2013) जैसी फिल्में डायरेक्ट कर चुके हैं. उनकी आखिरी फिल्म ‘नौटंकी साला’ में भी आयुष्मान खुराना के साथ कुणाल रॉय कपूर नज़र आ चुके हैं. इस फिल्म में ये दोनों दूसरी बार साथ काम कर रहे हैं. बता दें कि रोहन, ऐतिहासिक फिल्म ‘शोले’ के डायरेक्टर रमेश सिप्पी के बेटे हैं. 

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें