close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दुनियाभर में दिख रहा #MeToo का असर, भारत में महिलाओं से ज्यादा पुरुष दिखे सक्रिय

#MeToo का इस्तेमाल करते हुए कई महिलाओं ने अपनी कहानियां शेयर करना शुरू किया और देखते ही देखते यह हैशटैग एक मूवमेंट में बदल गया.

दुनियाभर में दिख रहा #MeToo का असर, भारत में महिलाओं से ज्यादा पुरुष दिखे सक्रिय
कुछ दिन पलहे हुई थी इसकी शुरुआत. (फोटो-ट्विटर)

नई दिल्ली: कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर #MeToo ट्रेंड होना शुरू हुआ और देखते ही देखते इससे कई लोग जुड़ गए. बता दें, इसकी शुरुआत हार्वे वीनस्टीन मामले की वजह से नहीं की गई, बल्कि इसकी शुरुआत एक्ट्रेस एलिसा मिलानो ने की है. कुछ दिन पहले उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर एक ट्वीट करते हुए कहा था कि जो भी महिलाएं कभी भी यौन उत्पीड़न का शिकार हुईं है वह #MeToo के साथ अपनी कहानी शेयर करें और इसके बाद धीरे-धीरे यह कई देशों तक पहुंच गया. 

#MeToo का इस्तेमाल करते हुए कई महिलाओं ने अपनी कहानियां शेयर करना शुरू किया और देखते ही देखते यह हैशटैग एक मूवमेंट में बदल गया. टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित एक खबर के अनुसार फेसबुक पर अब तक #MeToo का 1.7 मिलियन बार इस्तेमाल किया गया है तो वहीं ट्विटर पर इस हैशटैग का 1.5 मिलियन बार प्रयोग किया गया है. इतना ही नहीं इस हैशटैग का इस्तेमाल कर पुरुषों ने भी अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न की कहानियां शेयर की हैं. 

अगर सिर्फ भारत की बात की जाए तो 63.2% पुरुषों ने #MeToo का इस्तेमाल करते हुए ट्वीट किया है, जबकि केवल 36.8% महिलाओं ने ही इस हैशटैग का इस्तेमाल कर ट्वीट किया. इसके अलावा इस हैशटैग का इस्तेमाल सबसे ज्यादा यूएस में, उसके बाद यूके में, फिर कनाडा में और चौथे नंबर पर भारत में किया गया है. हालांकि, ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, स्वीडन और जर्मनी जैसे देशों में भी #MeToo का इस्तेमाल किया है. 

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें