close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

FILM REVIEW: आ गई 'बरेली की बर्फी', जानें क्या आपको पसंद आएगा इसका 'स्वाद'

राजकुमार राव, आयुष्मान खुराना और कृति सैनन स्टारर फिल्म 'बरेली की बर्फी' बॉक्सऑफिस पर रिलीज हो गई है. फिल्म की कहानी फिल्म के किरदार बिट्टी शर्मा (कृति सैनन) के इर्द- गिर्द घूमती है. 

FILM REVIEW: आ गई 'बरेली की बर्फी', जानें क्या आपको पसंद आएगा इसका 'स्वाद'
पहली फिल्म में साथ दिखे कृति सैनन, राजकुमार राव और आयुष्मान खुराना. (फिल्म पोस्टर)

नई दिल्‍ली : राजकुमार राव, आयुष्मान खुराना और कृति सैनन स्टारर फिल्म 'बरेली की बर्फी' बॉक्सऑफिस पर रिलीज हो गई है. इस फिल्म का बजट 20 से 25 करोड़ बताया जा रहा. ये पहली बार है जब बॉलीवुड के ये तीनों सैलेब्स एक साथ स्क्रीन शेयर करते नजर आ रहे हैं. फिल्म के ट्रेलर और गानों को लोगों ने काफी पसंद किया था, ऐसे में पूरी फिल्म कैसी रही ये जानने के लिए लोग उत्सुक हैं. 'बरेली की बर्फी' की कहानी फिल्म के किरदार बिट्टी शर्मा (कृति सैनन) के इर्द- गिर्द घूमती है. बिट्टी चुलबुली है और ब्रेक डांस करने में माहिर है. उसके माता-पिता उसकी शादी कराना चाहते हैं लेकिन लड़केवालों की ओर से बार-बार अजीब से सवाल पूछे जाने से वो परेशान हो जाती है. अपनी पसंद का लड़का नहीं मिलने और सवालों से ऊबकर वो घर से भागकर रेलवे स्टेशन पहुंच जाती है.

इसी बीच उसे बरेली की बर्फी नाम की किताब मिलती है और वो भागने का इरादा छोड़कर स्टेशन से वापिस घर आ जाती है. किताब पढ़ते हुए बिट्टी को उसके लेखक प्रीतम विद्रोही से मन ही मन प्यार हो जाता है और वो उस तक पहुंचने की कोशिश शुरू कर देती है.

और पढ़ें, आयुष्मान खुराना ने राजकुमार राव को लेकर कही ये बातें

लेखक का पता जानने के लिए बिट्टी प्रिटिंग प्रेस के मालिक चिराग (आयुष्मान खुराना) के पास पहुंच जाती है. हालांकि, उसे इस बात का पता नहीं होता कि किताब का असली लेखक चिराग ही है, जिसने अपना दिल टूट जाने पर अपनी कहानी को 'बरेली' की बर्फी' में लिखा था. इस किताब को उसने अपने नाम की जगह प्रीतम विद्रोही (राजकुमार राव) के नाम से पब्लिश कर दी थी.

फिल्म में तीनों किरदार के मिलने पर स्टोरी लव ट्राएंगल का एंगल ले लेती है और चिराग और प्रीतम के बीच बिट्टी को लेकर खींचतान शुरू हो जाती है. साथ ही शुरू होती है कॉमेडी जो सीन खत्म होने पर भी आपके चेहरे पर मुस्कान छोड़ जाती है.

और पढ़ें, उत्साहपूर्ण, मजेदार और आनंददायक है 'बरेली की बर्फी': करण जौहर

एक्टिंग की बात करें तो कृति सैनन अपनी दूसरी फिल्मों के मुकाबले इस फिल्म में काफी हटकर अवतार में नजर आ रही हैं, जिसे उन्होंने काफी अच्छे से निभाया है. वहीं आयुष्मान खुराना और राजकुमार राव भी अपने किरदारों में काफी रियलिस्टिक दिखे हैं.

फिल्म के म्यूजिक ज्यादा प्रभावी नहीं है. हालांकि, स्वीटी तेरा... सॉन्ग लोगों को काफी पसंद आ रहा है.

अश्विनी अय्यर तिवारी का डायरेक्शन काफी अच्छा है. लोकशंस का चुनाव और बेहतरीन कैमरा वर्क आपको सीन के साथ जगह को महसूस करने का मौका देता है. 

हालांकि, फिल्म को और बेहतर बनाने के लिए इसकी लंबाई थोड़ी घटाई जा सकती थी, जिससे कहानी में और कसावट आती. वहीं क्लाइमैक्स भी काफी प्रेडिक्टेबल है, जिससे दर्शक पहले ही फिल्म की कहानी की एंडिंग का अंदाजा लगा सकते हैं.