कल्कि कोचलिन बोलीं, 'Me Too के कुछ गलत प्रभाव भी होंगे, लेकिन ये जरूरी है'

कल्कि ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि मैं किसी अन्य व्यक्ति पर टिप्पणी कर सकती हूं. मुझे किसी मामले की पूर्ण जानकारी नहीं है. इसलिए, मैं इस पर टिप्पणी नहीं कर सकती.’

कल्कि कोचलिन बोलीं, 'Me Too के कुछ गलत प्रभाव भी होंगे, लेकिन ये जरूरी है'
फोटो साभार @kalkikanmani/Instagram

मुंबई: कल्कि कोचलिन का कहना है कि ‘मी टू’ अभियान के कुछ गलत प्रभाव भी होंगे लेकिन कार्यस्थलों में बेहतर माहौल बनाने के लिए यह मुहिम जरूरी है. नाना पाटेकर, आलोक नाथ, साजिद खान, विकास बहल और मुकेश छाबड़ा जैसे बॉलीवुड के बड़े नाम ‘मी टू’ के तहत निशाने पर आ चुके हैं. कल्कि ने भाषा’ से कहा ‘‘इस मुहिम के कई गलत प्रभाव भी होंगे. मेरी एक फिल्म ‘एमएएमआई’ में नहीं जा पाई और एक रूकी हुई है. यह ऐसी चीजें हैं जिन्हें हमें स्वीकारना होगा.. लेकिन यह मुहिम वर्तमान समय के लिए बहुत जरूरी है. चीजों को ठीक कर उन्हें बदलने की जरूरत है और अगर यह हमें अधिक संवेदनशील बनाती हैं तो यह अच्छा है.’’

कल्कि ने हालांकि किसी भी मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की. उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि मैं किसी अन्य व्यक्ति पर टिप्पणी कर सकती हूं. मुझे किसी मामले की पूर्ण जानकारी नहीं है. इसलिए, मैं इस पर टिप्पणी नहीं कर सकती.’

कल्कि जल्द ही ‘इरोज नाउ’ की वेब सीरीज ‘स्मोक’ में नजर आएंगी. कुल 11 एपीसोड की इस सीरीज का प्रसारण 26 अक्टूबर से होगा.

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें