Entertainment News: Coronavirus के प्रकोप में Rajinikanth ने दिखाई दरियादिली, गरीबों के लिए बने मसीहा!

'कोरोना वायरस' (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए फिलहाल शूटिंग इत्यादि पूरी तरह से बंद है. ऐसे में दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग में दिहाड़ी मजदूरों की मदद करने के लिए सुरपस्टार रजनीकांत ने पचास लाख रुपये दान में दिया है. कुछ रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है.

Entertainment News: Coronavirus के प्रकोप में Rajinikanth ने दिखाई दरियादिली, गरीबों के लिए बने मसीहा!

नई दिल्ली: 'कोरोना वायरस' (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए फिलहाल शूटिंग इत्यादि पूरी तरह से बंद है. ऐसे में दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग में दिहाड़ी मजदूरों की मदद करने के लिए सुरपस्टार रजनीकांत ने पचास लाख रुपये दान में दिया है. कुछ रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है. रजनीकांत के अलावा सूर्या, कार्ति और विजय सेतुपति जैसे अन्य कलाकारों के अलावा कई फिल्मकारों ने भी इस दिशा में मदद के लिए आगे आए हैं.

फिल्म इम्प्लाइज फेडरेशन ऑफ साउथ इंडिया (FEFSI) के अध्यक्ष आरके सेल्वमनी ने हाल ही में एक प्रेस रिलीज के माध्यम से एक अपील जारी की, जिसमें दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग से जुड़े इन सदस्यों को आर्थिक मदद देने की बात कही गई. इसके महज कुछ ही घंटों के भीतर सूर्या, कार्ति और उनके पिता शिवकुमार ने दस लाख रुपये दान में दिए. बाद में इस बात की भी जानकारी मिली कि अभिनेता सिवाकार्तिकेयन ने भी दस लाख रुपये दान में दिए हैं. अब ऐसा कहा जा रहा है कि सुपरस्टार रजनीकांत की ओर से पचास लाख और विजय सेतुपति की ओर से दस लाख रुपये एफईएफएसआई के सदस्यों को दान में दिया गया है.

अभिनेता पार्थिपन और प्रकाश राज ने 25 किलो वजन वाले चावल की कई बोरियां उपलब्ध कराए हैं. आरके सेल्वमनी के एक अनुरोध पर अब तक दक्षिण भारतीय फिल्म जगत से जुड़े कई सितारें मदद की इस दिशा में आगे आए हैं क्योंकि यही वे सदस्य हैं, जो इन सितारों की फिल्मों को सफल बनाने में कड़ी मेहनत करते हैं.

बता दे की, कोरोना वायरस (CoronaVirus) का असर न सिर्फ देश में बल्कि पूरे विश्व में व्यापक तौर पर हुआ है. हर किसी के बिजनेस का दिवाला निकल रहा है. सबसे ज्यादा अगर भारत देश की बात की जाए तो एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री पर पड़ा है. बॉलीवुड में जहां पर आंकड़े 700-800 करोड़ के आसपास के नुकसान पर जाते हैं. वहीं पर टीवी इंडस्ट्री में यह नुकसान उससे कहीं गुना ज्यादा नजर आता है. ट्रेड एनालिस्ट का कहना है कि भारत देश में टीवी इंडस्ट्री बहुत बड़ी है और इस लोकडाउन से टीवी इंडस्ट्री को 1000 से 1200 करोड़ तक का नुकसान झेलना होगा. नुकसान का यह आंकड़ा और बढ़ सकता है लेकिन इसकी भरपाई करना आने वाले समय में तो नामुमकिन है.

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें