FILM REVIEW: हर भारतीय नारी के विश्वास की कहानी है 'तुम्हारी सुलु'

यह कहानी है मुंबई में रहने वाली खुशमिजाज हाउस वाइफ सुलोचना (विद्या बालन) की जिसे प्यार से ‘सुलु’ बुलाया जाता है. सुलु का एक छोटा सा परिवार है जिसमें उसका पति अशोक (मानव कौल) और उसका एक छोटा बेटा है. सभी की तरह सुलु की भी ढेरों ख्वाहिशें हैं. 

FILM REVIEW: हर भारतीय नारी के विश्वास की कहानी है 'तुम्हारी सुलु'
आज रिलीज हुई है विद्या की यह फिल्म. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्ट्रेस विद्या बालन की फिल्म 'तुम्हारी सुलु' शुक्रवार को रिलीज हो गई है. इस साल रिलीज हुई विद्या की फिल्म 'बेगम जान' की असफलता के बाद यह फिल्म विद्या के लिए काफी जरूरी है क्योंकि बेगम जान से पहले रिलीज हुई विद्या की कुछ फिल्में बॉक्स ऑफिस पर खास कमाल नहीं कर पाई हैं. हालांकि, इस बार विद्या की फिल्म की कहानी ऐसी है जिससे आप खुद को आसानी से जोड़ सकते हैं. 

डायरेक्टर- सुरेश त्रिवेणी
कलाकार- विद्या बालन, नेहा धूपिया, मानव कौल
मूवी टाइप- कॉमेडी ड्रामा

कॉमेडी और ड्रामे से भरपूर है कहानी
यह कहानी है मुंबई में रहने वाली खुशमिजाज हाउस वाइफ सुलोचना (विद्या बालन) की जिसे प्यार से ‘सुलु’ बुलाया जाता है. सुलु का एक छोटा सा परिवार है जिसमें उसका पति अशोक (मानव कौल) और उसका एक छोटा बेटा है. सभी की तरह सुलु की भी ढेरों ख्वाहिशें हैं. जिसे पूरा करने के लिए वह सपने देखती है. सुलु को रेडियो पर गाने सुनना पसंद है. एक दिन अचानक उसकी लाइफ करवट लेती है और उसे रेडियो में ‘आरजे’ बनने का मौका मिलता है. मानों उसके सपनों को पंख लग गए हो, उसे लेट नाईट शो ‘तुम्हारी सुलु’ को करने का मौका मिलता है.

रेडियो जॉकी सुलु देखते ही देखते काफी फेमस हो जाती है. उसकी आवाज को पूरा शहर सुनता है, लोग उसकी आवाज के दीवाने हो जाते है. लेकिन इस दौरान घर से बाहर काम करने के चलते वह अपने परिवार से दूर हो जाती है. फिर शुरू होता है. पति-पत्नी के बीच टकराव. लेकिन क्या सुलु इन हालातों में सब कुछ ठीक कर पाएगी? एक तरफ है सुलू के सपने और दूसरी तरफ है उसका परिवार, वह किसे चुनेगी? क्या वह इस चुनौती के सामने अपने घुटने टेक देगी? क्या होगा सुलु का अगला स्टेप? जिसे जानने लिए आपको पूरी फिल्म देखनी होगी.

अच्छा है फिल्म का डायरेक्शन
पहली बार डायरेक्शन की फील्ड में हाथ आजमा रहे सुरेश त्रिवेणी ने फिल्म में बहुत मेहनत की है. उन्होंने एक मझे हुए डायरेक्टर की तरह फिल्म का निर्माण किया है. फिल्म की कहानी बेहद दमदार है. जो कि ज्यादातर शहरी लोगों की है. खासकर उन घरेलू महिलाओं की, जिनके सपने परिवार की ढेरों जिम्मेदारियों के चलते पूरे नहीं होते, या उन्हें दबना पड़ता है. इस कहानी से वह अपने आपको रिलेट कर पाएंगे. बाकी कैमरा वर्क भी अच्छा है.

दमदार है विद्या की एक्टिंग
जैसा कि फिल्म का नाम ही 'तुम्हारी सुलु' है और विद्या के किरदार का नाम सुलु है उसी से यह साफ हो जाता है कि फिल्म की कहानी विद्या के किरदार के आस पास घूमती है और विद्या ने अपने किरदार को बखूबी निभाया है. इसके अलावा अशोक के रूप में मानव कौल का चयन फिल्म के लिए एकदम पर्फेक्ट है. फिल्म में एक अच्छे पति की भूमिका में वह बिल्कुल फिट दिखे. जो अपनी पत्नी को खुश रखने का पूरा प्रयास करता है. वहीं फिल्म के बाकी किरदारों ने भी अपना किरदार अच्छे से निभाया है.

अच्छा है म्यूजिक
फिल्म का म्यूजिक भी काफी अच्छा है और आपको पसंद आने वाला है. फिल्म में बन जा तू मेरी रानी मूवी खत्म होने के बाद भी आपकी जुबान पर चढ़ा रहेगा. वहीं फिल्म का गाना हवा हवाई भी आपको पसंद आएगा और मनवा पंख लगा के लाइक्स टू फ्लाई भी अच्छा गाना है. 

और भी है खास
फिल्म की सबसे खास बात इसकी टैग लाइन मैं सब कर सकती है है. विद्या ने अपने इस किरदार से महिलाओं के बीच आत्मविश्वास का भाव दिखाया है. यह हर भारतीय गृहणी के आत्मविश्वास को दिखाती है. इस फिल्म को देखने के बाद कई लोगों और बच्चों को एहसास होगा कि उनकी मां रियल लाइफ सुपर हीरो है. एक तरह से विद्या की यह फिल्म सारी इंडियन मॉम्स को एक ट्रिब्यूट है. 

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें

विवेक कुमार