पाकिस्तानी क्रिकेटर Shoaib Akhtar ने कहा, मुझे अफसोस है कि मैंने Sushant Singh Rajput को उस वक्त नहीं रोका

पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब अख्तर ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद अपने मन की बात यू-ट्यूब चैनल पर बताई है.

पाकिस्तानी क्रिकेटर Shoaib Akhtar ने कहा, मुझे अफसोस है कि मैंने Sushant Singh Rajput को उस वक्त नहीं रोका
Shoaib Akhtar, Sushant Singh Rajput

नई दिल्ली: पाकिस्तान के क्रिकेटर शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने अपने यू-ट्यूब चैनल पर बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत पर अफसोस जताया है. साथ ही शोएब ने सुशांत को पहली बार देखने पर कैसा महसूस किया, इस संबंध में अपने दिल की बात बताई है. उनका कहना है कि काश वह सुशांत सिंह राजपूत को रोक कर उनसे बात कर पाते. शोएब अख्तर ने बताया कि उन्होंने पहली बार सुशांत को कब देखा था और उन्हें देखकर उनको कैसी फीलिंग हुई थी. शोएब ने कहा कि जीवन को खत्म कर लेना कोई विकल्प नहीं है.

पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने अपने YouTube चैनल पर हाल ही में एक वीडियो शेयर किया जिसमें उन्होंने बताया कि वह पहली बार सुशांत सिंह राजपूत को कब मिले थे.  शोएब ने कहा कि वह कुछ साल (2016) पहले ही सुशांत से मिले थे, हालांकि ये उनकी मुलाकात नहीं थी, लेकिन उन्हें देखने के बाद मुझे ऐसा लगा था कि सुशांत बहुत कांफिडेंट नहीं थे.

शोएब बताते हैं कि "मैं 2016 में भारत छोड़ने वाला था, तब मैंने उन्हें मुंबई के ओलिव में देखा था. सच कहूं, तो मुझे उन्हें देख कर लगा कि उनके अंदर कांफिडेंस की कमी है. वह मेरे बगल से सिर नीचे कर के जा रहे थे. तब मेरे दोस्त ने मुझे बताया कि वह “एमएस धोनी” की फिल्म में काम कर रहे हैं.

44 वर्षीय शोएब ने कबूल किया कि उन्हें पछतावा है कि, उस वक्त उन्होंने सुशांत को क्यों नहीं रोका और उनसे बात क्यों नहीं की. अगर वह उन्हें रोक कर अपने अनुभवों के बारे में बताते तो शायद सुशांत के लिए चीजें कुछ अलग होतीं.

"मुझे अब उनको और समझने के लिए उनकी फिल्में देखनी होंगी। वह एक विनम्र परिवार से आए थे और अच्छी फिल्में कर रहे थे. उनकी फिल्में सफल रहीं। मुझे हमेशा ये अफसोस रहेगा कि मैं उन्हें रोक कर बात नहीं कर पाया और उनकी लाइफ के बारे में बात नहीं कर सका.

शोएब ने अपने वीडियो का अंत यह कहते हुए किया कि, "अपने जीवन को समाप्त करना कभी भी एक विकल्प नहीं होना चाहिए. किसी भी तरह का झटका जीवन में आना स्वाभाविक है, लेकिन जब हम जानते हैं कि हमें समस्या है तो हमें इसके बारे में बात करनी चाहिए.

पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, "दीपिका पादुकोण अपने ब्रेकअप के बाद डिप्रेशन में थीं और वह जानती थीं कि वह जिस हालत में हैं उसमें उन्हें मदद की जरूरत है. मुझे लगता है कि सुशांत को भी मदद की जरूरत थी.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें