लता मंगेशकर की सलामती के लिए सोशल मीडिया पर लोगों ने मांगी दुआ, कहा- 'Get Well Soon'

दरअसल, लता मंगेशकर को ब्रीच कैंडी अस्पताल में रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात करीब 2 बजे भर्ती कराया गया.

लता मंगेशकर की सलामती के लिए सोशल मीडिया पर लोगों ने मांगी दुआ, कहा- 'Get Well Soon'
साल 2001 में लता मंगेशकर को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' दिया गया था (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: 'भारत कोकिला' लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) को सांस लेने में परेशानी और सीने में खून का जमाव होने की शिकायत के चलते सोमवार को मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. अब उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है. वह धीरे-धीरे ठीक हो रही हैं. उनकी टीम की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, "लता मंगेशकर जी को सीने में खून का जमाव होने की शिकायत केचलते एतिहातन भर्ती कराया गया. उनकी उम्र को ध्यान में रखते हुए अधिक संक्रमण को रोकने के लिए समय पर एंटीबायोटिक दवाएं दी गईं. ब्रीच कैंडी अस्पताल में उनकी जांच चल रही है. वह स्थिर हैं और ठीक हो रही है."

वहीं, दूसरी ओर लोग ट्विटर पर लगातार लता मंगेशकर को लेकर ट्वीट कर रहे हैं और सलामती के लिए दुआ मांग रहे हैं. लता मंगेशकर के फैंस उन्हें 'गेट वेल सून' लिखकर लगातार टवीट पर ट्वीट करते जा रहे हैं. दरअसल, लता मंगेशकर को ब्रीच कैंडी अस्पताल में रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात करीब 2 बजे भर्ती कराया गया. जल्द ही ऐसी खबरें आने लगीं कि उनकी हालत बेहद नाजुक है. उनकी टीम ने इन सभी दावों को खारिज कर दिया. स्वर साम्राज्ञी ने 28 सितंबर को अपना 90वां जन्मदिन मनाया था. वर्ष 2001 में उन्हें भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' दिया गया था. उन्होंने 36 भारतीय भाषाओं में गाने रिकार्ड कराए हैं.

28 सितंबर, 1929 को जन्मीं लता मंगेशकर को कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों के अलावा दादा साहब फाल्के पुरस्कार और फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, ऑफिसर ऑफ द लीजन ऑफ ऑनर से भी सम्मानित किया गया है. उन्होंने साल 1948 से 1974 के बीच 25 हजार से अधिक गाने गाए. वर्ष 1974 में गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्डस ने उन्हें इतिहास में सबसे अधिक गाने गाकर रिकार्ड दर्ज करवाने वाले कलाकार के रूप में स्थान दिया.  (इनपुट आईएएनएस से भी)

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.