B'Day: सचिन दा और पंचम दा के म्यूजिकल रिश्ते की दिलचस्प कहानियां

भले ही आरडी बर्मन कभी त्रिपुरा के प्रिंस के तौर पर नहीं जाने गए लेकिन फिल्मी दुनिया में जरूर उन्हें 'प्रिंस ऑफ म्यूजिक' कहा जाने लगा था.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 01, 2020, 13:47 PM IST

नई दिल्ली: बर्मन पिता-पुत्र का रिश्ता बड़ा अनोखा था. बहुत कम लोग जानते हैं कि अपने संगीत के शौक के लिए त्रिपुरा के शाही खानदान से ताल्लुक रखने वाले सचिन देव बर्मन (Sachin Dev Burman) उर्फ सचिन दा ने कभी अपनी रियासत से विदाई लेकर पहले कोलकाता फिर मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री में आम स्ट्रगलर की तरह संघर्ष किया था. अपनी प्रतिभा के दम पर इतना नाम बनाया और बेटे पंचम दा यानी राहुल देव बर्मन उर्फ आरडी बर्मन ने उसे और भी आगे बढ़ाया. लेकिन राजसी परिवार से होने के बावजूद दोनों के रिश्ते काफी म्यूजिकल थे, कभी भी धुन बदल सकती थी, कभी भी दोनों के बीच उसी तरह की नोकझोंक और नाराजगी पैदा हो जाती थी, जैसी आप सबकी अपने पिता से होती रही है. भले ही आरडी बर्मन कभी त्रिपुरा के प्रिंस के तौर पर नहीं जाने गए लेकिन फिल्मी दुनिया में जरूर उन्हें 'प्रिंस ऑफ म्यूजिक' कहा जाने लगा था.

1/5

पिता ने चुराई बेटे की धुन

Sachin Dev Burman

क्या आप यकीन करेंगे कि पिता ने भी बेटे की धुन चुरा ली? लेकिन ऐसा हुआ है, जब आरडी बर्मन ने अपने पिता एसडी बर्मन पर अपनी धुन चोरी करने का आरोप लगा दिया था. ये मूवी थी देवआनंद की 'फंटूश', जो 1956 मे रिलीज हुई थी. उन दिनों पंचम दा यानी राहुल देव बर्मन, कोलकाता में छुट्टियों में गए हुए थे, वहां जब 'फंटूश' में ये गाना देखा तो चौंक गए, इस गाने के बोल हैं 'ऐ मेरी टोपी पलट के आ..'.
 

2/5

पंचम दा की बायोग्राफी में ऐसे हुआ जिक्र

Sachin Dev Burman

पंचम दा की बायोग्राफी 'आरडी बर्मन द प्रिंस ऑफ म्यूजिक' में इसका जिक्र पंचम दा ने ऐसे किया है- 'मुझे वो ट्यून सुन कर लगा...ओ माई गॉड, इसे तो मैंने कम्पोज किया था. मैंने फौरन अपने पिता को वहीं से लिखा और उन पर बिना बताए धुन इस्तेमाल करने का आरोप लगाया'. जबकि उनके पिता एसडी बर्मन ने ये जवाब देकर उनकी बोलती बंद कर दी कि ये उन्होंने जानबूझकर किया ताकि लोग ये जान सकें कि मेरा बेटा भी अच्छी धुनें बनाता है.

3/5

सचिन दा के इन गानों में भी है राहुल की धुन

Sachin Dev Burman

आपने वो गाना जरूर कभी ना कभी गुनगुनाया होगा, 'सर जो तेरा चकराए, या दिल डूबा जाए...', इस गाने की धुन भी आरडी बर्मन की थी, जो चुपचाप एसडी बर्मन ने इस्तेमाल कर ली थी. दरअसल वो बेटे राहुल को सरप्राइज करना चाहते थे. इसी तरह आपने राज कपूर पर फिल्माया गाना 'है अपना दिल तो आवारा, ना जाने किस पे आएगा...' भी जरूर सुना होगा, इस गाने में जो माउथ ऑर्गन की धुन है, वो राहुल ने बजाया था.

4/5

'प्यासा' के दौरान बने ऑफिशियल असिस्टेंट

Sachin Dev Burman

गुरुदत्त की 'प्यासा' से राहुल को सचिन दा ने अपना असिस्टेंट ही बना लिया था. सचिन दा बेहद ध्यान रखते थे कि उसका ध्यान म्यूजिक से ना हट जाए, इसलिए लगातार ध्यान रखते थे कि उसका ध्यान ना भटके. जब महमूद ने उन्हें अपनी फिल्म 'भूत बंगला' के एक कॉमेडी सीन में छोटा सा रोल दे दिया, तो सचिन दा काफी भड़क गए थे, और एक्टिंग की बजाय म्यूजिक पर ध्यान देने को कहा था.

5/5

देव आनंद की फिल्म क्यों ठुकराई

Sachin Dev Burman

देव आनंद को राहुल की प्रतिभा पर काफी भरोसा था, सो उन्होंने अपनी फिल्म 'हरे कृष्णा हरे राम' के गानों के लिए दोनों बाप-बेटे से म्यूजिक बनवाना चाहते थे. उन्होंने सचिन दा को प्रस्ताव दिया कि इसमें कुछ ट्रेडीशनल गाने हैं, वो आप कम्पोज कर दें और जो कुछ मॉर्डन गाने हैं जैसे- 'दम मारो दम...' वो राहुल से तैयार करवा ली जाएं. लेकिन सचिन दा ने ये प्रस्ताव और मूवी दोनों ही ठुकरा दिए. ये पहला मामला था जब पिता की ठुकराई मूवी बेटे ने की हो, फिर पंचम दा ने ही 'दम मारो दम...' समेत सारे गाने कम्पोज किए और इस मूवी ने उनकी मानो किस्मत ही बदल दी, जब आज ये गाने रीमिक्स हो रहे हैं, तो सोचिए उस वक्त आलम क्या रहा होगा. आज दोनों ही नहीं हैं, लेकिन उन दोनों के ही गानों ने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को इतना समृद्ध कर दिया है कि लोग आज तक उनके गाने सुनकर उनको याद करते हैं.