FILM REVIEW: 'प्यार, इमोशन और बदला' का मिश्रण है फिल्म 'मरजावां'

इस फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और रितेश देशमुख के अलावा नासर, तारा सुतारिया और रकुल प्रीत सिंह भी अहम भूमिकाओं में हैं.

FILM REVIEW: 'प्यार, इमोशन और बदला' का मिश्रण है फिल्म 'मरजावां'
फिल्म 'मरजावां' आज (15 नवंबर) सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है (फिल्म पोस्टर)

नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा (Siddharth Malhotra) और रितेश देशमुख (Ritesh Deshmukh) की जोड़ी एक बार फिर लोगों के सामने फिल्म 'मरजावां (Marjaavaan)' के जरिए लोगों के बीच आई है. इससे पहले यह जोड़ी हमें 2014 में आई फिल्म 'एक विलन' में नजर आई थी, जो बॉक्स ऑफिस पर काफी धमाल मचाने में सफल हुई थी. निर्देशक मिलाप जावेरी की मोस्ट अवेटेड फिल्म 'मरजावां' आज (15 नवंबर) सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है. इस फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और रितेश देशमुख के अलावा तारा सुतारिया, नासर और रकुल प्रीत सिंह भी अहम भूमिकाओं में हैं.

अब बात फिल्म 'मरजावां' की कहानी की करें, तो इसमें कुछ नयापन देखने को नहीं मिलता... प्यार, मोहब्बत, इमोशन और बदला, ये सब कुछ होते हुए भी कहीं न कहीं से फिल्म की कहानी कमजोर महसूस होती है, क्योंकि इस तरह की कहानी पर अब तक कई सारी फिल्में बन चुकी है. दरअसल, फिल्म की कहानी टैंकर माफिया किंग अन्ना (नासर), रघु (सिद्धार्थ मल्होत्रा), अन्ना का बेटा विष्णु (रितेश देशमुख), बार डांसर आरजू (रकुल प्रीत सिंह) और जोया (तारा सुतारिया) पर केंद्रित है. नासर को रघु बचपन में ही गटर के पास मिला था और बचपन से ही रघु को नासर ही अपने बेटे की तरह पाला, इसलिए रघु भी नासर की कोई भी बात नहीं काटता. अपराध माफिया के तमाम काले कारनामों और खून-खराबे में अन्ना का राइट हैंड रहा है. 

लेकिन, नासर का असली बेटा विष्णु को इस बात की बहुत जलन होती है. तीन फुट के विष्णु को हमेशा इस बात की जलन होती है कि पूरे मोहल्ले में सिर्फ रघु की ही चर्चा होती है. विष्णु इस कारण रघु से नफरत करता है. इसी बीच रघु की मुलाकात कश्मीर से आई एक गंगी लड़की जोया से होती है और वह उससे प्यार कर बैठता है. संगीत प्रेमी तारा के साथ रघु अच्छाई के रास्ते पर आगे बढ़ना चाहता है, लेकिन विष्णु इस दौरान कुछ ऐसे हालात पैदा कर देता कि रघु को खुद जोया को गोली मारनी पड़ती है. इसके बाद से रघु की लाइफ पूरी तरह से पदल जाती है. वह अब सिर्फ एक जिंदा लाश बनकर रह जाता है और इधर विष्णु की दादागिरी काफी बढ़ जाती है. 

विष्णु के आंतक से मोहल्ले वाले और रघु के दोस्त जिसमें बार डांसर आरजू (रकुल प्रीत सिंह) का नाम भी शामिल है, बहुत जुल्म सहते रहते हैं. क्या रघु फिर से अपने पहले वाले रूप में नजर आएगा, क्या वह अपनी प्रेमिका जोया की मौत का बदला लेगा, क्या विष्णु के जुल्म से वह अपने दोस्तों को बचा पाएगा? ये सारे सवालों का जवाब पाने के लिए आपको खुद पूरी फिल्म देखने के लिए थिएटर जाना होगा. वैसे फिल्म के गाने आपको इमोशनल जरूर करेंगे. इसके लगभग गाने पहले ही सोशल मीडिया पर हिट हो चुके हैं.  

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें