close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी स्क्रीन पर रिलीज हुई 'साहो', किसी रोमांच से कम नहीं है यह थिएटर

आंध्र प्रदेश में सुल्लुरपेट नामक एक छोटे से शहर में, जो चेन्नई से 80 किलोमीटर की दूरी पर है, एक नया सिनेमा थिएटर आज (शुक्रवार) शुरू हुआ है, जिसकी स्क्रीन 100 फीट चौड़ाई और 54 फीट ऊंचाई में है.

दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी स्क्रीन पर रिलीज हुई 'साहो', किसी रोमांच से कम नहीं है यह थिएटर
इस इपिक स्क्रीन के लिए टिकट के दाम 200 रुपये और 100 रुपये रखे गए हैं.

नई दिल्ली: डिजिटल प्लेटफॉर्म के इस युग में भी एक बड़ी स्क्रीन पर फिल्म देखना खुद में ही अलग अनुभव जैसा होगा. आंध्र प्रदेश में सुल्लुरपेट नामक एक छोटे से शहर में, जो चेन्नई से 80 किलोमीटर की दूरी पर है, एक नया सिनेमा थिएटर आज (शुक्रवार) शुरू हुआ है, जिसकी स्क्रीन 100 फीट चौड़ाई और 54 फीट ऊंचाई में है. इसकी स्क्रीन बिल्डिंग की साढ़े 5 छतों के बराबर है. 'बाहुबली' फेम प्रभास की मोस्ट अवेटेड फिल्म 'साहो' आज 100 से भी ज्यादा सिनेमाघरों में रिलीज हुई है. वहीं, सुल्लुरपेट में नव निर्मित वी इपिक (V EPIQ) थियेटर की 'इपिक' स्क्रीन पर भी 'साहो' रिलीज किया गया है. इस 656 सीटर सिनेमा थिएटर की भारत में अब तक की सबसे बड़ी स्क्रीन है और इसे दक्षिण-पूर्व एशिया में भी सबसे बड़ा माना जा रहा है.

वी इपिक थिएटर को चेन्नई की क्यूब सिनेमा के लिए वी सेल्युलाइड चैन ने तैयार किया है. थिएटर में 4 हजार आरजीबी (रेड, ग्रीन और ब्लू) लेजर प्रोटेक्शन हालांकि डिजिटल युग बड़ी स्क्रीन वाले थिएटर के निर्माण पर लोगों को जमकर चर्चाएं हो रही हैं. प्रभावी साउंड जेनरेशन के लिए डोल्बी एटम्स (बूफर) सिस्टम लगा है. दूसरी स्क्रीनों के मुकाबले वी इपिक की स्क्रीन आस्पेक्ट पिक्चर क्वालिटी बेहतर हैं.

वहीं, जी मीडिया से बातचीत करते हुए क्यूब सिनेमा के सह-संस्थापक जयेंद्र पंचपकेन ने कहा, 'इस विशेष थिएटर में फिल्म देखने का सारा अनुभव अकल्पनीय होगा. यह किसी भी सीट पर हो, आंखें पूरे स्क्रीन को देख सकती है. आमतौर पर, पारंपरिक सिनेमाघरों में, स्क्रीन आस्पेक्ट रेश्यो 2.35 होता है, लेकिन इस स्क्रीन में 1.89 स्क्रीन आस्पेक्ट रेशियो होता है, जिसका मतलब है कि इसमें इमेज की ब्राइटनेस होती है. डॉल्बी एटमोस मर्सिया वीडियो द्वारा इस सबसे बड़ी स्क्रीन की प्रशंसा की गई है.' 

वी सेल्युलाइड के उपाध्यक्ष नवीन कुमार एडा ने जी न्यूज को बताया, 'हमारा मकसद टियर 2 और 3 स्थानों को एक बेजोड़ सिनेमा देखने का अनुभव देना है और हां बड़े स्क्रीन पर फिल्म देखने के लिए विशेष रूप से इन टियर 2 और 3 क्षेत्रों में दर्शकों के बीच क्रेज है.' दिलचस्प बात यह है कि इस मल्टीप्लेक्स में दो और छोटे थिएटर भी हैं. बता दें, सुल्लुरपेट एक छोटा शहर, जिसकी आबादी केवल तीन लाख है. सुल्लुरपेट आसपास के अन्य शहरों से घिरा हुआ है और यह श्रीहरिकोटा के SHAR के पास है, जहां से ISRO ने अपना रॉकेट लॉन्च किया था. बता दें, वी सेल्युलाइड के मालिकों ने इस वेंचर की लागत का खुलासा नहीं किया है. इस इपिक स्क्रीन के लिए टिकट के दाम 200 रुपये और 100 रुपये रखे गए हैं.

बॉलीवुड की अन्‍य खबरें यहां पढ़ें