म्यूजिक कम्पोज़र सचेत-परम्परा की बॉलीवुड में कुछ ऐसी रही ड्रीम Journey

वॉइस ऑफर इंडिया शो से फिल्म जगत में कदम रखने वाले सचेत और परम्परा अपने आप को लकी मानते है. वह कहते हैं कि भले ही यह उनका ड्रीम डेब्यू हो, लेकिन उन्होंने कुछ भी प्लान नही किया था.

म्यूजिक कम्पोज़र सचेत-परम्परा की बॉलीवुड में कुछ ऐसी रही ड्रीम Journey
म्यूजिक कंपोजर सचेत और परम्परा ने बॉलीवुड में "टॉयलेट एक प्रेम कथा" से धमाकेदार शुरुआत की थी (ट्विटर-@SachetParampara)

मुंबईः बॉलीवुड में एक्टिंग हो या म्यूजिक इंडस्ट्री, अपने लिए जगह बनाना किसी के लिए भी एक बड़ी उपलब्धि के जैसा है. आउटसाइडर होने के बाद भी म्यूजिक कंपोजर सचेत और परम्परा ने बॉलीवुड में न सिर्फ अक्षय कुमार की फ़िल्म "टॉयलेट एक प्रेम कथा" से धमाकेदार शुरुआत की, बल्कि ये दोनों बड़ी ही तेज़ी से कामयाबी की और बढ़ रहे है.  

कुछ दिन पहले सचेत और परम्परा का "यमला पगला दीवाना फिर से" का नया गाना रिलीज हुआ. इस गाने को लोगों ने बेहद पसंद किया, यह लव सॉन्ग बॉबी देओल और कीर्ति खरबंदा पे फिल्माया गया है. सचेत बताते है, "एक्सपीरियंस बहुत नया था. सबसे खास बात यही हैं कि बॉबी सर पे फिल्माया गया है, वो इस गाने पे डांस कर रहे हैं. सबकी उम्मीदें बहुत ज्यादा थी, क्योंकि बहुत वक़्त के बाद बॉबी सर का कुछ ऐसा गाना आया है. ये डांस सीक्वेंस है, बहुत सारा प्यार है, लव सॉन्ग है. बहुत वक़्त के बाद यूडलेंग है किसी गाने में जो कि किशोर दा के वक़्त होती थी. डायरेक्टर को काफी पसंद आई. इस जनरेशन के लिए कुछ नया है. इसलिए उन्होंने कहा इसे रखने के लिए." 

परम्परा का भी इस गाने को बनाने का एक्सपीरियंस काफ़ी स्पेशल रहा. वो कहती है की यह गाना लोग जितना फ़िल्म में पसंद करेंगे, उतना ही इसका अनप्लग्ड वर्शन भी पसंद आएगा. वॉइस इंडिया शो से फिलमी जगत में कदम रखने वाले सचेत और परम्परा अपने आप को लकी मानते है, वो कहते है कि भले ही यह उनका ड्रीम डेब्यू हो, लेकिन उन्होंने कुछ भी प्लान नही किया था, बस अपने आप इस सफर की शुरुआत हुई. वो बताते है कि, " यह ड्रीम डेब्यू था, हमारे लिए. एक म्यूजिक कंपोजर के लिए "टॉयलेट एक प्रेम कथा" जैसी फ़िल्म से डेब्यू करना, सपने की तरह था. इस जर्नी के बारे में कुछ सोचा नहीं था, बस अपने आप सफर की शुरुआत हुई और यहां तक पहुंच गए. हम अपने आप को काफ़ी लकी समझते है." 

अपने पहले बड़े ब्रेक के लिए इन दोनों ने काफी मेहनत की थी, सचेत बताते है, " हम लोगो को श्री नारायण जी ने बताया कि हमारा गाना उन्हें पसंद आया, फिर हमें मथुरा बुलाया गया. फिर वहां की जगह देख के, उसके हिसाब से हमने म्यूजिक बनाया. सुबह की ट्रेन गाना ऐसा था जिसे बहुत मॉडर्न भी नही दिखा सकते क्योंकि गांव का गाना है लेकिन फिर भी फ्रेश फील होनी चाहिए. जब हम मथुरा गए, अक्षय सर से मिले, उन्होंने भी काफी क्रिएटिव आईडिया दिए."  

धीरे धीरे मेहनत रंग लाने लगी और टॉयलेट एक प्रेम कथा के बाद, भूमि, फिर यमला पगला और उसके बाद शाहिद कपूर और श्रद्धा कपूर की फ़िल्म बत्ती गुल मीटर चालू जैसी फिल्मों के लिए म्यूजिक देने के बाद दोनों कंपोजर का यह मनना है कि उनके कई सपने अब पूरे होते नज़र आ रहे है.