Sushant Singh Rajput के निधन के 6 महीने पूरे होने पर बहन Shweta ने लिया ये संकल्प
X

Sushant Singh Rajput के निधन के 6 महीने पूरे होने पर बहन Shweta ने लिया ये संकल्प

श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) ने सोमवार को अपने भाई-बॉलीवुड स्टार सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) को लेकर पोस्ट किया है...  

Sushant Singh Rajput के निधन के 6 महीने पूरे होने पर बहन Shweta ने लिया ये संकल्प

नई दिल्ली: दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत को आज पूरे 6 महीने बीत चुके हैं.  सुशांत की मौत के बाद बॉलीवुड ही नहीं पूरे देश और विदेशों में तक एक बड़ा तहलका मचा हुआ है. इस केस ने बॉलीवुड के स्याह चेहरे को तो सामने लाया ही साथ ही इस ग्लैमर वर्ल्ड को लेकर लोगों के भ्रम भी तोड़े. लेकिन अब तक अभिनेता की मौत के मामले में उनके परिवार और फैंस को न्याय का इंतजार है. वहीं अब सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के 6 महीने बाद उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) ने उन्हें न्याय दिलाने की शपथ ली है. 

श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) ने सोमवार को अपने भाई-बॉलीवुड स्टार सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में न्याय की लड़ाई लड़ने का संकल्प लिया. छह महीने की पुण्यतिथि पर सुशांत को याद करते हुए, श्वेता ने जलती हुई मोमबत्ती की एक तस्वीर पोस्ट की और लिखा, 'मैं न्याय के लिए लड़ने की प्रतिज्ञा करती हूं जब तक कि हम पूरी सच्चाई नहीं जान लेते. भगवान हमारा मार्गदर्शन करें और हमें रास्ता दिखाए. # Oath4SSR.'

वहीं श्वेता के पति और अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के जीजा विशाल कीर्ति (Vishal Kirti) को लगता है कि हमें इस बात को लेकर अधीर नहीं होना चाहिए कि अब तक जांच एजेंसियां एसएसआर की मौत की जांच में किसी निष्कर्ष पर क्यों नहीं पहुंची हैं. सुशांत की मौत के 6 महीने पूरे होने पर विशाल ने अपने असत्यापित खाते से ट्वीट किया, 'सुशांत ने अपने जीवन में आने वाली चुनौतियों के बावजूद कभी सीखना और आगे बढ़ना बंद नहीं किया. जांच एजेंसियां अपना काम कर रही हैं और हमें सुशांत की याद में सम्मानजनक काम करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.'

दिवंगत अभिनेता की ओर से विशाल ने ट्विटर पर कहा कि यदि सुशांत होते तो वे अपने इस विस्तारित परिवार से क्या उम्मीद करते.

उन्होंने लिखा, 'सुशांत के निधन को 6 महीने हो चुके हैं. यदि मैं खुद को उनकी जगह पर खुद को रखकर सोचूं तो मैं कल्पना करूंगा कि एसएसआर ने अपने इस विस्तारित परिवार से कहा होता कि वे ज्यादा पढ़ें, ज्यादा समझदार बनें, खुद को इंटरडिसीप्लीनरी अध्ययन को लेकर शिक्षित करें. जिंदगी मुश्किल और अव्यवस्थित है. लिहाजा सरल उत्तरों की तलाश मत करो. जीवन काली और सफेद नहीं है, बल्कि ग्रे है. एक बार जब आप अपने चयन के विषय में अच्छी तरह से वाकिफ हो जाते हैं, तो आप निर्माण शुरू करें. जब हम खुद को तर्कसंगत मानते हैं तो हम भावनाओं पर सवारी करते हैं. सवार सोचता है कि यह नियंत्रण में है लेकिन यह अक्सर भावनाओं की ओर जाता है.'

उन्होंने आगे कहा, 'डैनियल काहनमैन की पुस्तक 'थिंकिंग फास्ट एंड स्लो' को पढ़ें और समझें कि तेजी से सोच का उपयोग कब करना है और कब धीमी गति से सोचना है.'

आखिर में उन्होंने सुझाव दिया, 'सुशांत की स्मृति के सम्मान में हमें बेहतर इंसान बनने की प्रतिज्ञा करनी चाहिए, अधिक संवेदनशील होना चाहिए, धोखेबाज बनने से बचना चाहिए और सबसे अहम बात कि सार्वजनिक बातचीत में एक-दूसरे का सम्मान करें. शायद यही वो सब है जो शायद सुशांत आप सभी को बताना चाहते यदि वह होते. धन्यवाद.'

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई के अपने अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें

Trending news