#throwback : न्यूज रीडर से एक्ट्रेस बनी थीं स्मिता पाटिल, 10 साल के करियर में की 80 फिल्में

आर्ट सिनेमा को अपने अभिनय के दम पर नई बुलंदियों पर ले जाने वाली स्मिता महज 31 साल की उम्र में दुनिया से रुखसत हो गईं. 

#throwback : न्यूज रीडर से एक्ट्रेस बनी थीं स्मिता पाटिल, 10 साल के करियर में की 80 फिल्में
फाइल फोटो

नई दिल्ली : बॉलीवुड की बेहतरीन अदाकारा और खूबसूरती की मिसाल एक्ट्रेस स्मिता पाटिल अपने 10 साल के फिल्मी करियर में हमेशा के लिए यादगार हो गईं. 13 दिसंबर 1986 को बेटे प्रतीक के जन्म के 15 दिन बाद मेडिकल दिक्कत की वजह से स्मिता का देहांत हो गया था. आज स्मिता पाटिल की 32वीं डेथ एनिवसर्री है. आर्ट सिनेमा को अपने अभिनय के दम पर नई बुलंदियों पर ले जाने वाली स्मिता महज 31 साल की उम्र में दुनिया से रुखसत हो गईं. 

स्मिता पाटिल का जन्म पुणे के एक मराठा परिवार में हुआ था. उनके पिता शिवाजीराव पाटिल मंत्री और सांसद रह चुके थे. कांग्रेस की ओर से उन्हें राज्यसभा भी भेजा गया था. पुणे के फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट से ग्रेजुएशन करने के बाद स्मिता पाटिल थिएटर करने लगी थीं. 1975 में आई श्याम बेनेगल की फिल्म 'चरणदास चोर' से उन्होंने बॉलीवुड डेब्यू किया था. लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि स्मिता पाटिल ने अपने करियर की शुरुआत 16 साल की उम्र में न्यूज रीडर के तौर पर की थी. ख़बर पढ़ने के लिए स्मिता दूरदर्शन में जींस पहन कर जाया करती थीं लेकिन, जब उन्हें न्यूज पढ़नी होती तो वो जींस के ऊपर से ही साड़ी लपेट लेती थीं. 

Smita Patil

10 साल के करियर में 80 फिल्मों में काम किया 
1985 में स्मिता पाटिल की 'मिर्च मसाला' रिलीज हुई. इसी साल भारतीय सिनेमा में उनके अमूल्य योगदान के लिए उन्हें पदमश्री से नवाजा गया. 10 साल के फिल्मी करियर में स्मिता पाटिल ने अस्सी से ज्यादा हिंदी और मराठी फिल्मों में अभिनय किया.  स्मिता की चर्चित फिल्मों में 'निशान्त', 'चक्र', 'मंथन', 'भूमिका', 'गमन', 'आक्रोश', 'अल्बर्ट पिंटो को गुस्सा क्यों आता है', 'अर्थ', 'बाज़ार', 'मंडी', 'मिर्च मसाला', 'अर्धसत्य', 'शक्ति', 'नमक हलाल', 'अनोखा रिश्ता' के नाम शामिल हैं. 

स्मिता पाटिल मेमोरियल पुरस्‍कार मिला तो बोलीं रेखा, 'इसपर सिर्फ मेरा ही हक था'

विरोध के बाद की राज बब्बर से शादी
स्मिता पाटिल की मुलाकात फिल्म जगत में एक्टर राज बब्बर से हुई. फिल्म 'भीगी पलकें' के सेट पर राज और स्मिता की मुलाकात हुई. दोनों में प्यार हो गया. हालांकि दोनों के रिश्ते से स्मिता की मां खुश नहीं थी. राज उस समय शादीशुदा थे और उनके दो बच्चे आर्य और जूही थे. राज ने नादिरा को छोड़ स्मिता से शादी कर ली. स्मिता पाटिल मां बनने के 15 दिन बाद (13 दिसंबर 1986) को चल बसीं. उनकी मौत का कारण प्रसव की वजह से हुए इन्फेक्शन को बताया गया. बता दें कि 28 नवंबर को ही प्रतीक का जन्म हुआ था. स्मिता पाटिल के निधन के बाद राज ने नादिरा से फिर शादी कर ली.

Smita Patil

मौत के बाद रिलीज हुईं 14 फिल्में 
10 से ज्यादा फिल्में स्मिता पाटिल की मौत के बाद रिलीज हुई थीं. इनमें 'हम फरिश्ते नहीं', 'वारिस', 'आवाम', 'शेर शिवाजी', 'नजराना', 'राही', 'अवाम', 'डांस-डांस', 'आकर्षण', 'सूत्रधार', 'इंसानियत के दुश्मन', 'अहसान', 'ठिकाना' और 'मिर्च मसाला' जैसी फिल्में शामिल हैं.   

बॉलीवुड की और भी खबरें यहां पढ़ें