ये है 'तारक मेहता का...' वो आखिर सीन, जिसके बाद डॉ. हाथी ने ली दुनिया से विदा

कवि कुमार आजाद का निधन सोमवार को कार्डियाक अरेस्‍ट के चलते हुआ. सोमवार को मुंबई के मीरा रोड स्थित वॉकहार्ट हॉस्पिटल में कार्डियाक अरेस्‍ट से उनका निधन हुआ.

ये है 'तारक मेहता का...' वो आखिर सीन, जिसके बाद डॉ. हाथी ने ली दुनिया से विदा

नई दिल्‍ली: लगभग 8 सालों से टीवी सीरियल 'तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा' में डॉ. हाथी बनकर दुनिया को हंसाते और गुदगुदाते आए किरदार डॉ. हंसराज हाथी यानी एक्‍टर कवि कुमार आजाद अब इस दुनिया में नहीं रहे. सोमवार को आई उनके आकस्मिक निधन की खबर ने लगभग सभी को चौंका दिया. चाहे इस सीरियल की टीम हो या फिर डॉ. हाथी के फैन्‍स, हर किसी के लिए उनका यूं दुनिया छोड़कर जाना किसी सदमे के लिए था. ऐसे में अब इस सीरियल में बबीता जी का किरदार निभाने वाली एक्‍ट्रेस मुनमुन दत्ता ने सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए बताया है कि कल के एपिसोड यानी बुधवार को टीवी पर टेलीकास्‍ट हुआ सीन वह आखिरी सीन था, जिसमें कवि कुमार आजाद ने पूरी टीम के साथ शूटिंग की थी.

दरअसल कवि कुमार आजाद की तबियत कुछ दिनों से खराब थी और इसी के चलते उन्‍हें शूटिंग से छुट्टी दी गई थी. एक्‍ट्रेस मुनमुन दत्ता ने अपनी इंस्‍टाग्राम स्‍टोरी में एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, 'यह वह आखिरी सीन है, जो हमने हाथी भाई के साथ शनिवार को शूट किया था. इसके बाद आगे आने वाले एपिसोड में जो भी सीन दिखाए जाएंगे, वह उनके साथ पहले ही शूट किए जा चुके थे.'

बता दें कि बुधवार के एपिसोड में गोकुलधान सोसायटी के सारे लोग बापूजी से मिलने उनके घर जाते हैं. जेठालाल देश से बाहर हैं और बापूजी ने जेठालाल के 100 करोड़ का लोन लेकर देश से भागना का सपना देखा था. इसी सपने को देख बापूजी काफी परेशान थे और सारे घरवाले इस बीच उनसे मिलने पहुंचते हैं.

tarak mehta

बता दें कि कवि कुमार आजाद का निधन सोमवार को कार्डियाक अरेस्‍ट के चलते हुआ. सोमवार को मुंबई के मीरा रोड स्थित वॉकहार्ट हॉस्पिटल में कार्डियाक अरेस्‍ट से उनका निधन हुआ. कवि कुमार टीवी इंडस्‍ट्री का हिस्‍सा होने के साथ ही खुद का बिजनेस भी करते थे.

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें