एक्ट्रेस रानी चटर्जी को याद आए अपने संघर्ष के दिन, कंगना रनौत से होती है तुलना

भोजपुरी सिनेमा की मशहूर अदाकारा रानी चटर्जी (Rani Chatterjee) एक ऐसी अभिनेत्री हैं, जिन्हें अपनी फिल्म हिट कराने के लिए अभिनेताओं की जरूरत नहीं पड़ती है. उनकी सभी फिल्में उनके दम पर हिट होती है.

एक्ट्रेस रानी चटर्जी को याद आए अपने संघर्ष के दिन, कंगना रनौत से होती है तुलना
रानी चटर्जी (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः भोजपुरी सिनेमा की मशहूर अदाकारा रानी चटर्जी (Rani Chatterjee) एक ऐसी अभिनेत्री हैं, जिन्हें अपनी फिल्म हिट कराने के लिए अभिनेताओं की जरूरत नहीं पड़ती है. उनकी सभी फिल्में उनके दम पर हिट होती है. रानी के फैंस उनको बहुत प्यार करते हैं. तभी तो उनकी जब भी कोई फिल्म रिलीज होती है, टिकट काउंटर के बाहर लंबी लाइन लग जाती है. 

काफी संघर्ष के बाद पाया यह मुकाम
रानी को कामयाबी ऐसे ही हासिल नहीं हुई. उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए बहुत स्ट्रगल किया है. रानी की जिंदगी में एक समय ऐसा था, जब फिल्मों में कास्ट उन्हें किया जाता था, बाद में कोई दूसरी अभिनेत्री फिल्म का हिस्सा होती थी. रानी ने इस बात का खुलासा एक इंटरव्यू में किया है. 

ये भी पढ़ेंः ये 5 टीवी सीरियल्स दर्शकों को आ रहे पसंद, जानें TRP की रेस में कौन है आगे

अभिनेता मुझे अपनी फिल्मों में नहीं देते थे रोल
रानी ने कहा, ‘मैं अपने परिवार के सपोर्ट की वजह से भोजपुरी सिनेमा में आ पाई हूं. लेकिन फिल्मों के अभिनेता मुझे फिल्म में रोल नहीं देना चाहते थे, क्योंकि मैं उन्हें अभिनेत्री जैसी नहीं लगती थी. कई बड़े बैनर्स आए, पर मैंने उनके साथ काम नहीं किया. यह भी कह सकते हैं कि शुरुआती दिनों में उन्होंने मुझे कास्ट नहीं किया, लेकिन कहते हैं न, समय सबका बदलता है, मेरा भी बदला. जब मैं इस इंडस्ट्री में कुछ बन गई तो मैंने ही उनके साथ काम करने से मना कर दिया.’

मेरा अपना स्टारडम है
रानी आगे बताती हैं, ‘कितनी बार तो ऐसा होता था कि मुझे बोला जाता था कि तुम फिल्म में हो, लेकिन शूटिंग किसी और अभिनेत्री के साथ शुरू कर देते थे. मुझे पता भी नहीं चलता था. शुरुआती दिनों में मेरे साथ ये बहुत बार हुआ, लेकिन बाद में एक समय ऐसा आया कि भोजपुरी के स्टार हीरो ने मेरे साथ फिल्में करनी बंद कर दी. मुझे ऐसा लगता है और लोग भी ऐसा बोलते हैं कि दो सुपरस्टार एक फिल्म में कैसे होंगे? क्योंकि मेरा अपना एक स्टारडम रहा है.’

Ra

शुरू में महिला प्रधान फिल्में की 
वह आगे कहती हैं, ‘मुझे उस समय ऐसा लगने लगा कि अगर मैं अभिनेताओं के साथ फिल्में नहीं करूंगी तो करूंगी क्या? फिर मैंने निर्णय लिया कि स्क्रिप्ट पर फोकस करूं, न कि स्टारडम पर. स्क्रिप्ट पर काम शुरू किया. मैंने वुमन सेंट्रिक फिल्में करनी शुरू की.’

कंगना रनौत से होती है तुलना
रानी की बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के साथ तुलना होती है. कंगना भी महिला प्रधान फिल्में करती हैं. इधर भोजपुरी में रानी भी इसी तरह की फिल्में करती हैं. शायद इसलिए लोग तुलना करते हैं.
इस पर रानी ने कहा, ‘बहुत लोग कंगना से मेरी तुलना करते हैं, क्योंकि इस इंडस्ट्री में मैं वुमन सेंट्रिक फिल्मों के बदौलत ही टिकी हूं. पिछले 10 सालों से मेरा करियर सिर्फ मेरे दम पर ही चला है.’

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.