राजमा-लोबिया खाते ही पेट में बनने लगती है गैस? तुरंत अपनाएं ये तरीका
X

राजमा-लोबिया खाते ही पेट में बनने लगती है गैस? तुरंत अपनाएं ये तरीका

Rajma and Lobia Cooking Hacks: एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आप ड्राई बीन्स को ठीक से भिगोकर और पकाकर नहीं खा रहे हैं, तो इसे पचाना आपके लिए मुश्किल हो सकता है. 

राजमा-लोबिया खाते ही पेट में बनने लगती है गैस? तुरंत अपनाएं ये तरीका

नई दिल्ली: ड्राई बीन्स (Dry Beans) यानी राजमा (Rajma) और लोबिया (Lobia) जैसी चीजें खाने के बाद अगर आपका पेट फूलने (Bloating) लगता है या गैस की समस्या (Gas Problem) हो जाती है, तो आपको इसे पकाने के तरीके पर ध्यान देना चाहिए. अगर आप इसे पकाते समय कुछ बातों का ख्याल रखें तो आपको गैस और ब्लोटिंग (Gas and Bloating) की समस्या नहीं होगी.

ठीक से न पकाने पर हो सकती है ये प्रॉब्लम 

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आप ड्राई बीन्स को ठीक से भिगोकर और पकाकर नहीं खा रहे हैं, तो इसे पचाना आपके लिए मुश्किल हो सकता है. इससे पेट में भारीपन, गैस और सूजन की समस्या हो सकती है. राजमा, मूंग, उड़द, चना, लोबिया और मसूर जैसी ड्राई बीन्स या फलियों को भिगोकर सही तरीके से पकाएं, तो इससे डाइजेशन से जुड़ी प्रॉब्लम नहीं होगी.

बीन्स में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है और डाइजेशन अच्छी तरह से न होने पर ये सूजन की वजह बन सकता है. अगर आपको फाइबर से एलर्जी है, तो साबुत बीन्स को पकाते समय कुछ बातों का ख्याल रखें.

जानें पकाने का सही तरीका

-एक्सपर्ट्स के मुताबिक, साबुत बीन्स को अच्छी तरह से भिगोएं. लगभग 7-8 घंटे तक बीन्स को भिगोकर रखना जरूरी है. रातभर भिगोकर रखना बेस्ट होगा.

-सुबह भीगी हुई बीन्स से पानी निकालकर फेंक दें. इससे गैस की समस्या नहीं होगी.

-बीन्स को एक घंटे के लिए गर्म पानी में भिगोकर भी रख सकते हैं. इससे ये अपने आकार से दोगुना तक फूल जाएगी.

-बीन्स खाने से अगर आपको इसके डाइजेशन में प्रॉब्लम आती है तो बीन्स को  प्रेशर कुकर में पकाएं.

-बीन्स पक जाए तो इसके ऊपर के झाग को हटा दें. इसके बाद नमक और कोई एसिड वाली चीज जैसे टमाटर या सिरका डालें. अगर आप पहले इन चीजों को पहले डाल देते हैं तो ये बीन्स को नरम होने से रोकता है. 

-बीन्स को एक रात पहले भिगोकर रखें. इससे आपका खाना पकाने का समय कम हो जाएगा. 

चीनी की जगह डाइट में इन चीजों को कर सकते हैं शामिल, जानें इसके फायदे

-भिगोने का सबसे बड़ा फायदा ये है कि ये एक समान रूप से पक भी जाता है. इससे डाइजेशन दुरुस्त होगा और पाचन तंत्र पर बीन्स के नकारात्मक प्रभाव को कम करने में मदद मिलेगी.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Trending news