इस प्रदूषण से हो सकती है भूलने की बीमारी! रिसर्च में हुआ डिमेंशिया होने का खुलासा
X

इस प्रदूषण से हो सकती है भूलने की बीमारी! रिसर्च में हुआ डिमेंशिया होने का खुलासा

विशेषज्ञों का मानना है कि वायु प्रदूषण का असर इंसानी दिमाग पर होता है, इस रिसर्च से यह बात तो साफ हो गई है.

इस प्रदूषण से हो सकती है भूलने की बीमारी! रिसर्च में हुआ डिमेंशिया होने का खुलासा

नई दिल्लीः कई रिसर्च में सामने आ चुका है कि वायु प्रदूषण का असर इंसानी दिमाग पर पड़ रहा है. जिससे आगे चलकर गंभीर किस्म की बीमारियां हो सकती हैं. अब नई रिसर्च में पता चला है कि वायु प्रदूषण से लोगों को आगे चलकर डिमेंशिया होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है. बता दें कि डिमेंशिया बीमारी में मरीज की यादाश्त जाने लगती है और वह सोचने और फैसले लेने की स्थिति में नहीं रहता. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार, दुनियाभर में करीब 50 मिलियन लोग डिमेंशिया के शिकार हैं. 

स्टडी में क्या हुआ खुलासा?
मेडिकल न्यूज टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया ने यह स्टडी की है, जिसमें ये देखा गया कि वायु प्रदूषण में खासकर ट्रैफिक के दौरान इंसान के दिमाग पर क्या असर पड़ता है? इस स्टडी को एनवायरमेंटल हेल्थ प्रेसपेक्टिव नामक जर्नल में छापा गया है. 

वैज्ञानिकों ने यह रिसर्च चूहों पर की. रिसर्च में वैज्ञानिकों ने चूहों को 14 महीने तक वायु प्रदूषण वाले वातावरण में रखा. चूहों को दो ग्रुप में बांटा गया, जिनमें एक ग्रुप में उन चूहों को शामिल किया गया, जिनमें इंसानों की तरह अल्जाइमर बीमारी के खतरे वाले जीन्स मौजूद थे और दूसरे ग्रुप में जंगली चूहें थे. वैज्ञानिकों ने पाया कि लंबे समय तक ट्रैफिक संबंधी वायु प्रदूषण में रहने से चूहों में अल्जाइमर बीमारी का खतरा ज्यादा बढ़ गया. खास बात ये है कि दोनों ही ग्रुप्स के चूहों पर वायु प्रदूषण का सामान असर पड़ा. 

आगे भी रिसर्च की जरूरत
विशेषज्ञों का मानना है कि वायु प्रदूषण का असर इंसानी दिमाग पर होता है, इस रिसर्च से यह बात तो साफ हो गई है लेकिन अभी इसे लेकर काफी रिसर्च करने की जरूरत है. रिसर्च में इस बात का भी पता लगाने की कोशिश की जाएगी कि लोगों के ब्रेन को सबसे ज्यादा कारों से निकलने वाला या फिर ट्रकों-बसों से निकलने वाला धुआं नुकसान पहुंचा रहा है.   

  

Trending news