अनचाहे गर्भ से बचने का बेस्ट तरीका, असुरक्षित यौन संबंध के 120 घंटे तक करता है असर

असुरक्षित यौन संबंध (अनप्रॉटेक्टेड इंटरकोर्स) के बाद अनचाहे गर्भ (Unplanned Pregnancy) का डर कम करने वाला बेस्ट इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड, यहां जानें

अनचाहे गर्भ से बचने का बेस्ट तरीका, असुरक्षित यौन संबंध के 120 घंटे तक करता है असर
सांकेतिक तस्वीर

Best Emergency Contraception: पार्टनर्स हर चीज प्लानिंग से करना पसंद करते हैं. चाहे शादी हो, घर लेना हो या फिर प्रेग्नेंसी हो. लेकिन गलती से पार्टनर के साथ असुरक्षित यौन संबंध बना लेना, आपकी पूरी प्लानिंग पर पानी फेर सकता है. असुरक्षित यौन संबंध अनचाहे गर्भ (Unplanned Pregnancy) का कारण बन सकता है. आजकल मार्केट में कई तरीके के गर्भनिरोधक उपलब्ध हैं, जिन्हें डॉक्टर की सलाह व अपने स्वास्थ्य के मुताबिक आप इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन, दो कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड (Emergency Contraceptive Method) ऐसे हैं, जो असुरक्षित यौन संबंध (Unprotected Intercourse) के बाद अनप्लांड प्रेग्नेंसी को रोकने में कारगर हैं. इसमें से एक तरीका सबसे बेस्ट है और असुरक्षित यौन संबंध के 120 घंटे बाद तक महिलाएं इसे इस्तेमाल कर सकती हैं.

ये भी पढ़ें: पोस्टपार्टम डिप्रेशन के कारण मां का प्यार हो सकता है कम, जानें लक्षण और इलाज

आपातकालीन गर्भनिरोधक: बेस्ट इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड (Best Emergency Contraception in Hindi)
यूएस डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेज की आधिकारिक वेबसाइट NICHD के मुताबिक इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्शन (Emergency Contraception) के रूप में यह दो मेथड इस्तेमाल किए जा सकते हैं. जिसमें से अनप्रॉटेक्टेड इंटरकोर्स (Unprotected Intercourse) या कॉन्डोम ब्रेकेज (Condom Breakage) होने के बाद अनचाहे गर्भ से बचाने के लिए पहला तरीका सबसे प्रभावशाली है.

कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड: कॉपर आईयूडी (Copper IUD)
बच्चों के स्वास्थ्य व मानव विकास के बारे में हेल्थ जानकारी देने वाली अमेरिका की सरकारी वेबसाइट NICHD के मुताबिक कॉपर आईयूडी (Copper Intrauterine Device) इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्शन का सबसे प्रभावशाली तरीका है. इस गर्भनिरोधक की सफलता दर 100 प्रतिशत के आसपास होती है. इसके अलावा, आप इस इंट्रायूटेराइन डिवाइस को असुरक्षित यौन संबंध के 120 घंटे यानी 5 दिन तक इस्तेमाल कर सकते हैं.

जबतक गर्भनिरोध का यह तरीका अपनी जगह पर सुरक्षित रहेगा, तब तक अनचाही गर्भवस्था को नहीं होने देगा. इसके इस्तेमाल से ना के बराबर दिक्कतें या परेशानी का सामना करना पड़ सकता है, जिसके बारे में आप अपने डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं. वहीं, ज्यादा वजन या मोटापे से ग्रसित महिलाओं के लिए भी यह उतना ही कारगर साबित होता है.

ये भी पढ़ें: 40 की उम्र के बाद महिलाओं के लिए 5 जरूरी टेस्ट, खतरनाक बीमारियों के बारे में देते हैं संकेत

गर्भनिरोधक: इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स (Emergency Contraceptive Pill)
आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां (इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स) हॉर्मोनल पिल्स होती हैं. जो कि अनप्रॉटेक्टेड इंटरकोर्स (असुरक्षित शारीरिक संबंध) से हो सकने वाली अनचाही गर्भावस्था को रोकने के लिए ली जाती हैं. यह गर्भनिरोधक गोलियां एक डोज या दो डोज में दी जा सकती हैं. अगर महिलाएं अपने ओव्युलेशन से पहले इन गोलियों का सेवन कर लेती हैं, तो उनका ओव्युलेशन कम के कम 5 दिन तक देर से होता है, जिससे पुरुष के वीर्य को असक्रिय होने का समय मिल जाता है.

यह गोलियां सर्वाइकल म्यूकस को भी मोटा कर देती हैं, जिससे स्पर्म फंक्शन बाधित हो जाता है. इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का प्रभाव बढ़ाने के लिए असुरक्षित यौन संबंध के बाद जितना जल्दी हो सके, ले लेना चाहिए. लेकिन हर बार इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. अगर महिला ने आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली का सेवन ऑव्युलेशन के बाद किया है, तो प्रेग्नेंसी की संभावना हो सकती है.

यहां दी गई जानकारी किसी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी गई है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.