सर्दी के मौसम में च्यवनप्राश के हैं कई फायदे

सर्दी के मौसम में च्यवनप्राश का इस्तेमाल काफी सेहत के लिए काफी मुफीद है। जाड़े के मौसम में आप यदि च्यवनप्राश का सेवन करते हैं तो यह कई रोगों से आपको दूर रखता है और बीमारियों से लड़ने के लिए शरीर को अंदर से मजबूत बनाता है।

सर्दी के मौसम में च्यवनप्राश के हैं कई फायदे

ज़ी मीडिया ब्यूरो

नई दिल्ली : सर्दी के मौसम में च्यवनप्राश का इस्तेमाल काफी सेहत के लिए काफी मुफीद है। जाड़े के मौसम में आप यदि च्यवनप्राश का सेवन करते हैं तो यह कई रोगों से आपको दूर रखता है और बीमारियों से लड़ने के लिए शरीर को अंदर से मजबूत बनाता है। आयुर्वेद में च्यवनप्राश की बड़ी महत्ता बताई गई है। इसे बनाने के लिए 40-50 घटकों की जरूरत पड़ती है। लेकिन मुख्य घटक आंवला है। आंवला शरीर में नई ऊर्जा का संचार कर जल्द बुढ़ापा आने से रोकता है।

ताजा आंवला विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत होता है। इसे सुखाने या जलाने के बावजूद इसमें मौजूद विटामिन सी की मात्रा कम नहीं होती। च्यवनप्राश में औषधीय महत्व वाली लगभग 36 तरह की जड़ी-बूटियां होती हैं। केशर, नागकेशर, पिप्पली, छोटी इलायची, दालचीनी, बन्सलोचन, शहद और तेजपत्ता, पाटला, अरणी, गंभारी, विल्व और श्योनक की छाल, नागमोथा, पुष्करमूल, कमल गट्टा, सफेद मूसली सहित कई वनस्पतियां मिलाकर च्यवनप्राश तैयार किया जाता है।

च्यवनप्राश को पूरे साल भी खाया जा सकता है। च्यवनप्राश खाने से कई फायदे होते हैं। च्यवनप्राश के सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। पाचन शक्ति बढ़ती है और याददाश्त तेज होती है।