कहीं जिसे आप कोरोना समझ रहे हैं, वो डेंगू का बुखार तो नहीं? जान लें इसके लक्षण और बचाव

Dengue Symptoms: बारिश का मौसम आ रहा है और इसी मौसम में डेंगू का प्रकोप सबसे ज्यादा होता है। तो जान लें कि डेंगू के बुखार में कौन-से लक्षण दिखते हैं, जिससे आप उसे कोरोना समझने की भूल न करें।

कहीं जिसे आप कोरोना समझ रहे हैं, वो डेंगू का बुखार तो नहीं? जान लें इसके लक्षण और बचाव
सांकेतिक तस्वीर

हाल के समय में लोगों के मन में कोरोना का खौफ काफी है। हल्का-सा बुखार या शारीरिक दर्द कोविड-19 संक्रमण की तरफ ध्यान ले जाता है। लेकिन इस मौसम में डेंगू का प्रकोप भी झेलना पड़ता है। डेंगू में भी आपको बुखार, शारीरिक दर्द के साथ अन्य लक्षण (Dengue Symptoms in hindi) देखने को मिलते हैं। तो अपने बुखार या अन्य लक्षणों पर आपको बारीकी से ध्यान देना पड़ेगा। क्योंकि, हो सकता है कि जिसे आप कोरोना के लक्षण समझ रहे हों, वो डेंगू का बुखार (dengue fever) हो। तो आइए जानते हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक डेंगू के बुखार में क्या लक्षण दिखते हैं और इससे बचाव (Dengue Precautions) कैसे संभव है।

ये भी पढ़ें: शरीर की लंबाई बढ़ाने के लिए कैसे करना चाहिए ताड़ासन, जानें इसके अन्य फायदे

डेंगू के लक्षण क्या हैं? (Dengue Symptoms)
डेंगू एक मच्छर जनित बीमारी (mosquito borne disease) है, जिसे कि हड्डी तोड़ बुखार (breakbone fever) भी कहा जाता है। यह डेंगू वायरस (dengue virus) के कारण होता है, जो कि चार प्रकार के होते हैं। यह मुख्य रूप से एडीज मच्छर के काटने से होता है। जब यह मच्छर किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है, तो मच्छर भी संक्रमित हो जाता है और फिर वह किसी अन्य स्वस्थ व्यक्ति को काटकर संक्रमित कर देता है। भारत के पिछले कुछ वर्षों में डेंगू वायरस के काफी मामले देखने को मिले हैं। तो आइए डब्ल्यूएचओ (WHO) के मुताबिक डेंगू बुखार के लक्षण (Dengue ke lakshan) जान लेते हैं।

  • तेज बुखार होना
  • आंखों में दर्द होना
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • ग्लैंड्स में सूजन
  • शरीर पर रैशेज होना
  • जोड़ों में दर्द होना
  • गंभीर सिरदर्द
  • पेट में गंभीर दर्द
  • मसूड़ों से खून आना
  • थकान
  • उल्टी में खून आना, आदि

ये भी पढ़ें: घंटों की नींद के बराबर आराम देती है मिनटों की योग निद्रा, इसे करना है एकदम आसान

डेंगू से बचाव (Prevention of Dengue)
चूंकि डेंगू का अभी तक कोई आधिकारिक इलाज (Dengue ka ilaaj) नहीं है। इसे सही करने के लिए डॉक्टर एंटी-वायरल और पेनकिलर दवाओं का सेवन करने की सलाह देते हैं। जिससे बुखार व दर्द से राहत पाई जा सके। हालांकि इसमें एस्परिन और आइबूप्रोफेन दवा लेने से मनाही की जाती है। क्योंकि इससे खून बहने की समस्या बढ़ सकती है। डब्ल्यूएचओ ने डेंगू से बचाव (Dengue se bachav) के लिए निम्नलिखित सलाह दे रखी हैं। जैसे-

  1. एडीज मच्छरों को पनपने से रोकने के लिए आसपास के माहौल को साफ रखें।
  2. किसी भी ऐसी वस्तु जिसमें पानी इकट्ठा होने की आशंका हो, उसे खुला न छोड़ें या उल्टा करके रख दें।
  3. कूलर, पानी की टंकी, गमले आदि को हफ्ते में एक बार साफ करते रहें।
  4. घर के अंदर व बाहर मच्छरों को दूर रखने वाली चीजें जैसे रिपेलेंट्स, कीटनाशक आदि का इस्तेमाल करें।
  5. दिन के समय खासतौर से पूरी बाजू और टांगों को ढकने वाले कपड़े पहनें।
  6. अपने आसपास के लोगों को भी यह बातें समझाएं।
  7. दिन में दरवाजे-खिड़कियों को कम ना खोलें।

यहां दी गई जानकारी किसी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। हम इसका दावा नहीं करते हैं।

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.