मिलावट वाली हल्दी से रहें सावधान, 'मसालों की रानी' जानलेवा भी हो सकती है

हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल, एंटीबायोटिक, एंटीफंगल और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं.

मिलावट वाली हल्दी से रहें सावधान, 'मसालों की रानी' जानलेवा भी हो सकती है
आजकल हल्दी में लेड क्रोमेट मिलाकर बेची जा रही है जो स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक है. (फाइल)

नोएडा: हल्दी हमारे देश के घर-घर में खाने का एक बहुत ही जरूरी हिस्सा है. खाना चाहे वेज हो या नॉन वेज हल्दी के बिना किसी भी व्यंजन की रेसिपी अधूरी है. लेकिन बाजार में मिलने वाली हल्दी मिलावटी भी हो सकती है. गौतम बुद्ध नगर के फूड एंड ड्रग सेफ्टी विभाग ने हल्दी के सैम्पल में लेड क्रोमेट की मिलावट पायी है. ये मिलावट ग्रेटर नोएडा में मसालों की एक फैक्ट्री में बनने वाली हल्दी के सैम्पल में मिली है. 

गौतम बुद्ध नगर के फूड एंट ड्रग सेफ्टी विभाग ने पिछले साल नवंबर में दीवाली के वक्त कई जगहों से सैम्पल जांच के लिये फोरेंसिक लैब में भेजे थे. जांच के नतीजे आये तो पता चला की ग्रेटर नोएडा की मसालों की एक फैक्ट्री में बनने वाली हल्दी में लैड क्रोमेट की मिलावट की गयी है. लैड क्रोमेट दरअसल पीले या नारंगी रंग का एक केमिकल कंपाउंड होता है, हल्दी में रंग और चमक बढ़ाने के लिये इसका इस्तेमाल किया जाता है लेकिन सेहत के लिये ये बहुत ही खतरनाक होता है. लंबे समय तक अगर ये केमिकल शरीर में जाता है तो इससे त्वचा और दिल की बीमारी के साथ साथ कैंसर तक का भी खतरा रहता है. 

हैरान कर देने वाले हैं हल्दी के फायदे

मिलावट पाये जाने के बाद गौतम बुद्ध नगर के फूड एंड ड्रग सेफ्टी विभाग ने प्रदेश सरकार को इस कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की प्रक्रिया शुरु करने के लिये भी लिखा है. इस मामले में फूड सेफ्टी एक्ट 2006 (punishment for unsafe food) के सेक्शन 59 के तहत 1 साल तक की जेल और एक लाख तक का जुर्माना या फिर दोनों हो सकते हैं. हल्दी जैसे मसाले में मिलावट की बात सुनकर आमलोग भी परेशान हैं.

दरअसल हल्दी मसाले के साथ साथ एक बहुत ही अच्छी जड़ी बूटी भी है. इसे "मसालों की रानी" के नाम से भी जाना जाता है. भारतीय व्यंजनों में हल्दी सबसे महत्वपूर्ण मसालों में से एक है. भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में लोग हल्दी की इस्तमाल करते हैं. हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल, एंटीबायोटिक, एंटीफंगल और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं.

इतना ही नहीं हल्‍दी कैंसर के इलाज में भी कारगर है. विशेषज्ञों के मुताबिक हल्दी में पाया जाने वाला करकुमिन कैंसर के इलाज में बेहद मददगार है. हल्दी कैंसर के जीवाणुओं के संक्रमण को कम करने में मदद करती है. हल्दी की जड़ों में पाया जाने वाला करक्यूमिन न सिर्फ खाने को स्‍वाद बनाता है, बल्कि साथ ही दोबारा कैंसर होने के खतरे को भी कम करता है. हल्दी में पायी गयी इस मिलावट से सचेत होते हुये गौतम बुद्ध नगर के फूड एंड ड्रग सेफ्टी विभाग ने होली से पहले दूसरी फैक्ट्रियों, जनरल स्टोर्स और मिठाई की दुकानों में सैंपल्स की चेकिंग शुरु कर दी है.